यहां जलती चिताओं के पास आखिर क्यों पूरी रात नाचती हैं सेक्स वर्कर?

By Tejnews.com 2017-05-11 अजबगजब     

जहां लाशों का आना और चिता का जलना कभी नहीं थमता, वहीं अगर उसी चिता के करीब कोई महफिल सजा बैठे और शुरू हो जाए श्मशान में डांस तो उसे आप क्या कहेंगे?

काशी का वह श्मशान जहां चिता की आग कभी ठंडी नहीं होती और जिसके बारे में कहा जाता है कि यहां चिता पर लेटने वाले को सीधा मोक्ष मिलता है। जहां लाशों का आना और चिता का जलना कभी नहीं थमता, वहीं अगर उसी चिता के करीब कोई महफिल सजा बैठे और शुरू हो जाए श्मशान में डांस तो उसे आप क्या कहेंगे? श्मशान यानी जिंदगी की आखिरी मंजिल और चिता…यानी जिंदगी का आखिरी सच। पर जरा सोचें…। अगर इसी श्मशान में उसी चिता के करीब कोई महफिल सजा बैठे और शुरू हो जाए श्मशान में डांस तो उसे आप क्या कहेंगे? खामोश, ग़मगीन, उदास और बीचबीच में चिताओं की लकड़ियों के चटखने की आवाज अमूमन किसी भी श्मशान का मंज़र या माहौल कुछ ऐसा ही होता है।

पर एक रात ऐसी जो श्मशान के लिए बेहद खास है। एक ऐसी रात जो श्मशान के लिए रौनक की रात है। क्योंकि ये रात इस श्मशान पर साल में सिर्फ एक बार उतरती है और बस इसीलिए साल के बाकी 364 रातों से ये रात बिलकुल अनोखी बन जाती है। ये एक रात इस श्मशान के लिए जश्न की रात है। इस एक रात में इस श्मशान पर एक साथ चिताएं भी जलती हैं और घुंघरुओं और तेज संगीत के बीच कदम भी थिरकते हैं।

अब सवाल उठता है कि चिता के बीच ये डांस ये मस्ती क्यों? क्यों इंसान को मरने के बाद भी चिता पर सुकून मयस्सर नहीं होने दिया जा रहा? क्यों कुछ लड़कियां श्मशान में चिताओं के करीब नाच रही हैं?

एक साथ चिता और महफिल दोनों का ही गवाह बना है काशी का मणिकर्णिका घाट। वही मणिकर्णिका घाट जो सदियों से मौत और मोक्ष का भी गवाह बनता आया है। आज इसी घाट पर सजी है मस्ती में सराबोर एक चौंका देने वाली महफ़िल। एक ऐसी महफ़िल जो जितना डराती है उससे कहीं ज्यादा हैरान करती है।

दरअसल चिताओं के करीब नाच रहीं लड़कियां शहर की बदनाम गलियों की नगर वधु होती हैं। कल की नगरवधु यानी आज की तवायफ। पर इन्हें ना तो यहां जबरन लाया जाता है ना ही इन्हें इन्हे पैसों के दम पर बुलाया जाता है।

काशी के जिस मणिकर्णिका घाट पर मौत के बाद मोक्ष की तलाश में मुर्दों को लाया जाता है वहीं पर ये तमाम नगरवधुएं जीते जी मोक्ष हासिल करने आती हैं। वो मोक्ष जो इन्हें अगले जन्म में नगरवधू ना बनने का यकीन दिलाता है। इन्हें यकीन है कि अगर इस एक रात ये जी भरके यूं ही नाचेंगी तो फिर अगले जन्म में इन्हें नगरवधू का कलंक नहीं झेलना पड़ेगा।

इनके लिए जीते जी मोक्ष पाने की मोहलत बस यही एक रात देता है। साल में एक बार ये मौका आता है चैत्र नवरात्र के आठवें दिन। और इस दिन श्मशान के बगल में मौजूद शिव मंदिर में शहर की तमाम नगरवधुएं इकट्ठा होती हैं और फिर भगवान के सामने जी भरके नाचती हैं। यहां आने वाली तमाम नगरवधुएं अपने आपको बेहद खुशनसीब मानती हैं।

लेकिन काशी के इस घाट पर ये सबकुछ अचानक यूं ही नहीं शुरू हो गया। बल्कि इसके पीछे एक बेहद पुरानी परंपरा है। जो जितनी हैरान करने वाली है उससे कहीं ज्यादा परेशान करने वाली।

श्मशान के सन्नाटे के बीच नगरवधुओं के डांस की परंपरा सैकड़ों साल पुरानी है। मान्यताओं के मुताबिक आज से सैकड़ों साल पहले राजा मान सिंह द्वारा बनाए गए बाबा मशान नाथ के दरबार में कार्यकम पेश करने के लिए उस समय के जाने-माने नर्तकियों और कलाकारों को बुलाया गया था लेकिन चूंकि ये मंदिर श्मशान घाट के बीचों बीच मौजूद था, लिहाजा तब के चोटी के तमाम कलाकारों ने यहां आकर अपने कला का जौहर दिखाने से इनकार कर दिया था।

लेकिन चूंकि राजा ने डांस के इस कार्यक्रम का ऐलान पूरे शहर में करवा दिया था, लिहाज़ा वो अपनी बात से पीछे नहीं हट सकते थे। लेकिन बात यहीं रुकी पड़ी थी कि श्मशान के बीच डांस करने आखिर आए तो आए कौन? इसी उधेड़बुन में वक्त तेज़ी से गुज़र रहा था। लेकिन किसी को कुछ समझ में नहीं आ रहा था। जब किसी को कोई उपाय नहीं सूझा तो फैसला ये लिया गया कि शहर की बदनाम गलियों में रहने वाली नगरवधुओं को इस मंदिर में डांस करने के लिए बुलाया जाए।

उपाय काम कर गया और नगरवधुओं ने यहां आकर इस महाश्मशान के बीच डांस करने का न्योता स्वीकार कर लिया। ये परंपरा बस तभी से चली आ रही है। गुज़रते वक्त के साथ जब नगरवधुओं ने अपना चोला बदला तो एक बार फिर से इस परंपरा के रास्ते में रोड़े आ गए और आज की तारीख में इस परंपरा को आगे बढ़ाने के लिए बाकायदा मुंबई की बारगर्ल तक को बुलाया जाता है। यही नहीं परंपरा किसी भी क़ीमत पर छूटने ना पाए, इसका भी ख़ास ख्याल रखा जाता है। और इसके लिए साल के इस बेहद खास दिन तमाम इंतज़ाम किए जाते हैं।

इस आयोजन को ज़्यादा से ज्यादा सफ़ल बनाने के लिए पुलिस-प्रशासन के नुमाइंदे बाकायदा इस महफिल का हिस्सा बनते हैं। इस परंपरा की जड़ें कितनी गहरी हैं इसका अंदाज़ा इसी बात से लगाया जा सकता है कि बनारस आने वाले कई विदेशी सैलानी भी इस ख़ास मौके को देखने से खुद को नहीं रोक पाते। ये बेहद अनोखी और चौंकाने वाली परंपरा जितनी सच है उतना ही सच है इन नगरवधुओं का वजूद जो हर जमाने में मोक्ष की तलाश में यहां आता रहा है।

Similar Post You May Like

  • भारत में है एक कंपनी, जहां चपरासी से लेकर अधिकारी हैं करोड़पति!

    भारत में है एक कंपनी, जहां चपरासी से लेकर अधिकारी हैं करोड़पति!

    नई दिल्ली: गुड्ज एंड सर्विसेज टैक्स (GST) की खबरों से अगर आप ऊब गए हैं तो ये खबर आपको थोड़ा सूकुन दे सकती है. भारत में एक ऐसी कंपनी है जहां कर्मचारियों की सैलरी 10 से 20 हजार रुपए के बीच है, लेकिन सभी करोड़पति हैं. यह बात आपको थोड़ी अटपटी लग सकती है लेकिन यह सौ फीसदी सच है. मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक यह अनोखी कंपनी रविराज फोइल्स लिमिटेड गुजरात स्थित अहमदाबाद के साणंद में है. दिलचस्प बात यह है

  • मुकेश अंबानी के ड्राइवर की सैलरी सुन आप के भी उड़ जाएंगे होश, सोशल मीडिया पर वायरल

    मुकेश अंबानी के ड्राइवर की सैलरी सुन आप के भी उड़ जाएंगे होश, सोशल मीडिया पर वायरल

    मुकेश अंबानी एक ऐसा नाम है जिन्होंने लगातर मेहनत अपने नाम का लोहा मनवाया है मुकेश अंबानी की गिनती देश ही नहीं बल्कि पूरी विश्व के सबसे अमीर व्यक्तियों में की जाती है. इनका घर भी दुनिया के सबसे आलीशान और महंगे घरों की लिस्ट में शुमार है. मुकेश अंबानी के पास हेलीकॉप्टर होने के साथ ही 500 से भी अधिक गाड़ियां है. हम इनके घर को स्वर्ग कह सकते है क्यों की इनका घर सभी सुख सुविधाओं से भरपूर है. अ

  • एक दिन में लाखों रुपये कमा लेता है ये 6 साल का बच्चा, जानिए कैसे

    एक दिन में लाखों रुपये कमा लेता है ये 6 साल का बच्चा, जानिए कैसे

    कहते हैं “पूत के पांव पालने में ही दिख जाते हैं” और इस कहावत को सच कर दिखाया है एक 6 साल के बच्चें ने.. जी हां, जिस उम्र में बच्चे खेलना-कूदना सीखते है उस उम्र में इस छोटे से बच्चे ने बड़ा कारनामा कर दिखाया. यह बच्चा नन्ही उम्र में लाखों रुपए कमा रहा है. शायद आपको हमारी बातों पर विश्वास नही हो रहा है, तो आइए आप स्वय ही जान लिजिए इस छोटे से बच्चे के बड़े कारनामे को. केरल के कोच्चि का रहने वाले न

  • पूरी जिंदगी एक ही पार्टनर के साथ रहते हैं ये जानवर, कभी नहीं देते धोखा

    पूरी जिंदगी एक ही पार्टनर के साथ रहते हैं ये जानवर, कभी नहीं देते धोखा

    आज कल कई ऐसी खबरें आती हैं जिसमें इंसान अपने पार्टनर को धोखा देता है. देखा जाए तो ये एक आम बात हो गई है. ऐसे में अगर हम आपसे कहें कि दुनिया में कुछ ऐसे पक्षी और जानवर भी मौजूद हैं, जो जिंदगी भर एक ही पार्टनर के साथ रहते हैं तो? पार्टनर की मौत के बाद भी नहीं ढूंढते दूसरा पार्टनर. आज वर्ल्ड एनिमल डे है. इस मौके पर हम आपको बताने जा रहे हैं ऐसे जानवरों के बारे में जो हमेशा अपने पार्टनर के लिए वफाद

  • इस स्वघोषित देश में रहते हैं महज 33 लोग

    इस स्वघोषित देश में रहते हैं महज 33 लोग

    किसी भी देश में कोई नेता या जनप्रतिनिधी कहीं दौरे पर जाता है तो उसके साथ पूरा लंबा-चौड़ा काफिला चलता है. इसमें सुरक्षा वाले और उनके अन्य लोग शामिल रहते हैं. वहीं इस दुनिया में एक देश ऐसा भी है जहां के राष्ट्रपति सड़कों पर बिना किसी सुरक्षा तामझाम के घूमते हैं. इससे भी आश्चर्यजनक जो जानकारी है वो है उस देश की जनसंख्या. जी हां, उस देश की आबादी महज कुल 33 लोगों की है. इनमें वो 4 कुत्ते भी शामि

  • इस आइलैंड पर नहीं है मरने की इजाजत

    इस आइलैंड पर नहीं है मरने की इजाजत

    पाबंदी एक शब्द है, जिसको सुनते ही इंसान ये सोचने लगता है किस पर, कब और कहां. जी हां, कई देशों में कई तरह की पाबंदियों के बारे में हम सब ने सुना है, मगर क्या आप जानते हैं इस दुनिया में एक ऐसा आइलैंड हैं, जहां इंसानों के मरने पर भी पाबंदी लगी हुई है. जबकि वो इंसान कोई बाहरी नहीं बल्कि उसी आइलैंड के निवासी होते हैं. मतलब यह कि इस आइलैंड पर कोई अपनी आखिरी सांस नहीं ले सकता है. नॉर्वे के छोटे से शह

  • ये जनाब 14 साल की उम्र में पढ़ाते हैं गणित

    ये जनाब 14 साल की उम्र में पढ़ाते हैं गणित

    कुछ बच्चे अपनी प्रतिभा के बल पर अपनी पहचान गढ़ते हैं. ऐसे ही हैं याशा एस्ले. 14 साल की उम्र में वो इंग्लैंड की लीसेस्टर यूनिवर्सिटी में गणित काे प्रोफेसर बने हैं. खबरों के मुताबिक याशा को यूनिवर्सिटी में गणित पढ़ने और पढ़ाने वाले सबसे कम उम्र के प्रोफेसर बने हैं. गणित में अविश्वसनीय ज्ञान देख उसके परिजन उसे मानव कैल्कुलेटर कहते हैं. याशा के पिता मूसा एस्ले रोजाना उसे कार से यूनिवर्स

  • यहां लगती है दूल्हों की बोली

    यहां लगती है दूल्हों की बोली

    साल 1982 में फिल्म निर्माता ताहिक हुसैन ने एक फिल्म बनाई, जिसका नाम था “दूल्हा बिकता है”. ये फिल्म जब सिनेमाघर में पहुंची तो लोगों को विश्वास ही नहीं हुआ कि भारत में ऐसा भी होता है. इसी तरह कालांतर में दूल्हों के बिकने पर कई फिल्में बनीं, लेकिन क्या आपको पता है कि भारत में दूल्हे बिकते हैं. जी हां, ये बात सौ फीसदी सही है. दूल्हों की सौदेबाजी होती है बिहार के मिथिलांचल यानी मधुबनी जिले मे

  • 90 साल में बनकर तैयार हुई थी दुनिया की सबसे बड़ी गौतम बुद्ध की मूर्ति

    90 साल में बनकर तैयार हुई थी दुनिया की सबसे बड़ी गौतम बुद्ध की मूर्ति

    दुनिया में कई तरह की धारणा सदियों से चलती आ रही है. जिनके पीछे कोई वैज्ञानिक तर्क न होने पर भी लोग पीढ़ियों तक इसे मानते आ रहे हैं. जैसे हमारे यहां कहा जाता है कि सुबह-सुबह अपने किसी प्रियजन का चेहरा देखना चाहिए, जिससे कि हमारा पूरा दिन अच्छा गुजर सके. इसी तरह चीन के लेशान में स्थित महात्मा बुद्ध की विशाल प्रतिमा को देखकर, लोग अपने नए साल की शुरूआत करते हैं. इनकी मान्यता है कि नए साल की शु

  • शंगचुल महादेव मंदिर – घर से भागे प्रेमियों को मिलता है यहां आश्रय

    शंगचुल महादेव मंदिर – घर से भागे प्रेमियों को मिलता है यहां आश्रय

    हिमाचल प्रदेश जितना अपनी प्राकृतिक सुंदरता के कारण जाना जाता है उतना ही यहां की परंपराओं के कारण भी। आज हम आपको बता रहा है कुल्लू के शांघड़ गांव के देवता शंगचूल महादेव के बारे में जो घर से भागे प्रेमी जोड़ों को शरण देते हैं। पांडव कालीन शांघड़ गांव में कई ऐतिहासिक धरोहरें हैं। इन्ही में से एक हैं यहां का शंगचुल महादेव मंदिर। शंगचूल महादेव की सीमा में किसी भी जाति के प्रेमी युगल अगर

ताज़ा खबर

Popular Lnks