यहां जलती चिताओं के पास आखिर क्यों पूरी रात नाचती हैं सेक्स वर्कर?

By Tejnews.com Thu, May 11th 2017 अजबगजब

जहां लाशों का आना और चिता का जलना कभी नहीं थमता, वहीं अगर उसी चिता के करीब कोई महफिल सजा बैठे और शुरू हो जाए श्मशान में डांस तो उसे आप क्या कहेंगे?

काशी का वह श्मशान जहां चिता की आग कभी ठंडी नहीं होती और जिसके बारे में कहा जाता है कि यहां चिता पर लेटने वाले को सीधा मोक्ष मिलता है। जहां लाशों का आना और चिता का जलना कभी नहीं थमता, वहीं अगर उसी चिता के करीब कोई महफिल सजा बैठे और शुरू हो जाए श्मशान में डांस तो उसे आप क्या कहेंगे? श्मशान यानी जिंदगी की आखिरी मंजिल और चिता…यानी जिंदगी का आखिरी सच। पर जरा सोचें…। अगर इसी श्मशान में उसी चिता के करीब कोई महफिल सजा बैठे और शुरू हो जाए श्मशान में डांस तो उसे आप क्या कहेंगे? खामोश, ग़मगीन, उदास और बीचबीच में चिताओं की लकड़ियों के चटखने की आवाज अमूमन किसी भी श्मशान का मंज़र या माहौल कुछ ऐसा ही होता है।

पर एक रात ऐसी जो श्मशान के लिए बेहद खास है। एक ऐसी रात जो श्मशान के लिए रौनक की रात है। क्योंकि ये रात इस श्मशान पर साल में सिर्फ एक बार उतरती है और बस इसीलिए साल के बाकी 364 रातों से ये रात बिलकुल अनोखी बन जाती है। ये एक रात इस श्मशान के लिए जश्न की रात है। इस एक रात में इस श्मशान पर एक साथ चिताएं भी जलती हैं और घुंघरुओं और तेज संगीत के बीच कदम भी थिरकते हैं।

अब सवाल उठता है कि चिता के बीच ये डांस ये मस्ती क्यों? क्यों इंसान को मरने के बाद भी चिता पर सुकून मयस्सर नहीं होने दिया जा रहा? क्यों कुछ लड़कियां श्मशान में चिताओं के करीब नाच रही हैं?

एक साथ चिता और महफिल दोनों का ही गवाह बना है काशी का मणिकर्णिका घाट। वही मणिकर्णिका घाट जो सदियों से मौत और मोक्ष का भी गवाह बनता आया है। आज इसी घाट पर सजी है मस्ती में सराबोर एक चौंका देने वाली महफ़िल। एक ऐसी महफ़िल जो जितना डराती है उससे कहीं ज्यादा हैरान करती है।

दरअसल चिताओं के करीब नाच रहीं लड़कियां शहर की बदनाम गलियों की नगर वधु होती हैं। कल की नगरवधु यानी आज की तवायफ। पर इन्हें ना तो यहां जबरन लाया जाता है ना ही इन्हें इन्हे पैसों के दम पर बुलाया जाता है।

काशी के जिस मणिकर्णिका घाट पर मौत के बाद मोक्ष की तलाश में मुर्दों को लाया जाता है वहीं पर ये तमाम नगरवधुएं जीते जी मोक्ष हासिल करने आती हैं। वो मोक्ष जो इन्हें अगले जन्म में नगरवधू ना बनने का यकीन दिलाता है। इन्हें यकीन है कि अगर इस एक रात ये जी भरके यूं ही नाचेंगी तो फिर अगले जन्म में इन्हें नगरवधू का कलंक नहीं झेलना पड़ेगा।

इनके लिए जीते जी मोक्ष पाने की मोहलत बस यही एक रात देता है। साल में एक बार ये मौका आता है चैत्र नवरात्र के आठवें दिन। और इस दिन श्मशान के बगल में मौजूद शिव मंदिर में शहर की तमाम नगरवधुएं इकट्ठा होती हैं और फिर भगवान के सामने जी भरके नाचती हैं। यहां आने वाली तमाम नगरवधुएं अपने आपको बेहद खुशनसीब मानती हैं।

लेकिन काशी के इस घाट पर ये सबकुछ अचानक यूं ही नहीं शुरू हो गया। बल्कि इसके पीछे एक बेहद पुरानी परंपरा है। जो जितनी हैरान करने वाली है उससे कहीं ज्यादा परेशान करने वाली।

श्मशान के सन्नाटे के बीच नगरवधुओं के डांस की परंपरा सैकड़ों साल पुरानी है। मान्यताओं के मुताबिक आज से सैकड़ों साल पहले राजा मान सिंह द्वारा बनाए गए बाबा मशान नाथ के दरबार में कार्यकम पेश करने के लिए उस समय के जाने-माने नर्तकियों और कलाकारों को बुलाया गया था लेकिन चूंकि ये मंदिर श्मशान घाट के बीचों बीच मौजूद था, लिहाजा तब के चोटी के तमाम कलाकारों ने यहां आकर अपने कला का जौहर दिखाने से इनकार कर दिया था।

लेकिन चूंकि राजा ने डांस के इस कार्यक्रम का ऐलान पूरे शहर में करवा दिया था, लिहाज़ा वो अपनी बात से पीछे नहीं हट सकते थे। लेकिन बात यहीं रुकी पड़ी थी कि श्मशान के बीच डांस करने आखिर आए तो आए कौन? इसी उधेड़बुन में वक्त तेज़ी से गुज़र रहा था। लेकिन किसी को कुछ समझ में नहीं आ रहा था। जब किसी को कोई उपाय नहीं सूझा तो फैसला ये लिया गया कि शहर की बदनाम गलियों में रहने वाली नगरवधुओं को इस मंदिर में डांस करने के लिए बुलाया जाए।

उपाय काम कर गया और नगरवधुओं ने यहां आकर इस महाश्मशान के बीच डांस करने का न्योता स्वीकार कर लिया। ये परंपरा बस तभी से चली आ रही है। गुज़रते वक्त के साथ जब नगरवधुओं ने अपना चोला बदला तो एक बार फिर से इस परंपरा के रास्ते में रोड़े आ गए और आज की तारीख में इस परंपरा को आगे बढ़ाने के लिए बाकायदा मुंबई की बारगर्ल तक को बुलाया जाता है। यही नहीं परंपरा किसी भी क़ीमत पर छूटने ना पाए, इसका भी ख़ास ख्याल रखा जाता है। और इसके लिए साल के इस बेहद खास दिन तमाम इंतज़ाम किए जाते हैं।

इस आयोजन को ज़्यादा से ज्यादा सफ़ल बनाने के लिए पुलिस-प्रशासन के नुमाइंदे बाकायदा इस महफिल का हिस्सा बनते हैं। इस परंपरा की जड़ें कितनी गहरी हैं इसका अंदाज़ा इसी बात से लगाया जा सकता है कि बनारस आने वाले कई विदेशी सैलानी भी इस ख़ास मौके को देखने से खुद को नहीं रोक पाते। ये बेहद अनोखी और चौंकाने वाली परंपरा जितनी सच है उतना ही सच है इन नगरवधुओं का वजूद जो हर जमाने में मोक्ष की तलाश में यहां आता रहा है।

Similar Post You May Like

  • 90 साल में बनकर तैयार हुई थी दुनिया की सबसे बड़ी गौतम बुद्ध की मूर्ति

    90 साल में बनकर तैयार हुई थी दुनिया की सबसे बड़ी गौतम बुद्ध की मूर्ति

    दुनिया में कई तरह की धारणा सदियों से चलती आ रही है. जिनके पीछे कोई वैज्ञानिक तर्क न होने पर भी लोग पीढ़ियों तक इसे मानते आ रहे हैं. जैसे हमारे यहां कहा जाता है कि सुबह-सुबह अपने किसी प्रियजन का चेहरा देखना चाहिए, जिससे कि हमारा पूरा दिन अच्छा गुजर सके. इसी तरह चीन के लेशान में स्थित महात्मा बुद्ध की विशाल प्रतिमा को देखकर, लोग अपने नए साल की शुरूआत करते हैं. इनकी मान्यता है कि नए साल की शु

  • शंगचुल महादेव मंदिर – घर से भागे प्रेमियों को मिलता है यहां आश्रय

    शंगचुल महादेव मंदिर – घर से भागे प्रेमियों को मिलता है यहां आश्रय

    हिमाचल प्रदेश जितना अपनी प्राकृतिक सुंदरता के कारण जाना जाता है उतना ही यहां की परंपराओं के कारण भी। आज हम आपको बता रहा है कुल्लू के शांघड़ गांव के देवता शंगचूल महादेव के बारे में जो घर से भागे प्रेमी जोड़ों को शरण देते हैं। पांडव कालीन शांघड़ गांव में कई ऐतिहासिक धरोहरें हैं। इन्ही में से एक हैं यहां का शंगचुल महादेव मंदिर। शंगचूल महादेव की सीमा में किसी भी जाति के प्रेमी युगल अगर

  • जानिए अघोरियों की रहस्यमयी दुनिया की कुछ अनजानी और रोचक बातें

    जानिए अघोरियों की रहस्यमयी दुनिया की कुछ अनजानी और रोचक बातें

    अघोर पंथ हिंदू धर्म का एक संप्रदाय है। इसका पालन करने वालों को अघोरी कहते हैं। अघोर पंथ की उत्पत्ति के काल के बारे में अभी निश्चित प्रमाण नहीं मिले हैं, परन्तु इन्हें कपालिक संप्रदाय के समकक्ष मानते हैं। ये भारत के प्राचीनतम धर्म “शैव” (शिव साधक) से संबधित हैं। अघोरियों को इस पृथ्वी पर भगवान शिव का जीवित रूप भी माना जाता है। शिवजी के पांच रूपों में से एक रूप अघोर रूप है। अघोरी हमेशा

  • क्यों पैदा होते हैं ट्रांसजेंडर (किन्नर)

    क्यों पैदा होते हैं ट्रांसजेंडर (किन्नर)

    ट्रांसजेंडर लोग आमतौर वह होते हैं जिन्हें न तो पुरुष और न ही महिला की कैटेगरी में रखा जा सकता है। ट्रांसजेंडर लोगों में पुरुष और महिला दोनों के ही गुण हो सकते हैं। ऊपर से पुरुष दिखाई देने वाले किसी व्यक्ति में इंटरनल ऑर्गन और गुण महिला के हो सकते हैं और ऐसे ही ऊपर से महिला नजर आने वाले किसी व्यक्ति में पुरुषों वाले गुण और ऑर्गन्स हो सकते हैं। क्यों पैदा होते हैं ट्रांसजेंडर ट्रां

  • पहले की 25 शादियां, जिनसे हैं इतने बच्चे, अब लगाने पड़ रहे हैं कोर्ट के फेरे

    पहले की 25 शादियां, जिनसे हैं इतने बच्चे, अब लगाने पड़ रहे हैं कोर्ट के फेरे

    मॉन्ट्रियल: हाल ही में कनाडा में बहुविवाह का एक मामला सामने आया है। जिसके चलते यहां की अदालत ने सोमवार को अपने ऐतिहासिक फैसले में देश में बहुविवाह की प्रथा पर प्रतिबंध को सही ठहराते हुए दो व्यक्तियों को बहुविवाह का दोषी ठहराया। इन दोनो व्यक्तियों की शादी और बच्चों के बारे में सुनकर आप जरूर हैरान हर जाएंगे। दोषी ठहराये गये व्यक्तियों में से एक की 25 पत्नियां और 146 बच्चे हैं जबकी दूसर

  • इस राजा की थी 365 रानियां, उनके खास महल में केवल निर्वस्‍त्र हीं कर सकते थे एंट्री

    इस राजा की थी 365 रानियां, उनके खास महल में केवल निर्वस्‍त्र हीं कर सकते थे एंट्री

    भारत के एक महाराजा अपनी रंगीन मिजाजी के लिए काफी मशहूर रहे। इस रंगीन मिजाजी के सच्चे किस्से आपको चौंका देंगे। हम बात कर रहे हैं पटियाला रियासत के महाराजा और पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर के दादा महाराजा भूपिंदर सिंह की। पटियाला के इन महाराजा की गतिविधियों का जिक्र महाराजा भूपिंदर सिंह के दीवान जरमनी दास ने अपनी किताब 'महाराजा' में किया है। महाराजा भूपिंदर सिंह ने पटियाला

  • इस देश में हर साल समुद्र हो जाता है लाल, कारण जानकर रह जाएंगे दंग

    इस देश में हर साल समुद्र हो जाता है लाल, कारण जानकर रह जाएंगे दंग

    अगर इस तस्वीर को देखें तो इसमें समुद्र में पानी का रंग साफ तौर पर लाल दिखेगा. ये तस्वीर पिछले 48 घंटों से पूरी दुनिया में वायरल हो रही है. केवल ये ही नहीं, इस तरह की कई और तस्वीरें भी पूरी दुनिया में वायरल हो रही हैं. सच्चाई जानेंगे तो स्तब्ध रह जाएंगे. हां, समुद्र के लाल रंग की वजह खून ही है. त्योहार के लिए करीब एक हजार व्हेल मछलियों को मारने से ऐसा हुआ है. खूनी त्योहार से होता है समुद्र ला

  • ये हैं भारत के रहस्यमयी खजाने जिनकी खोज अभी है बाकी...

    ये हैं भारत के रहस्यमयी खजाने जिनकी खोज अभी है बाकी...

    एक समय था जब भारत को सोने की चिड़िया कहा जाता था, मगर भारत को विदेशियों ने इतनी बार लूटा कि यहां का सारा खजाना खत्म हो गया। यही दौलत दुनिया भर के हमलावरों को भी अपनी ओर खींचती थी। इसीलिए उस दौर के राजा अपने खजानों को बचाने के लिए इनसे जुड़ी जानकारियां गुप्त रखते थे। उस दौरान कई क्रूर आक्रमणकारी भले ही राजाओं की सत्ता छीनने में कामयाब रहे, लेकिन वे कई छिपे हुए खजानों को हासिल नहीं कर सक

  • भारत का एक मात्र श्मशान जहां लाशों से भी वसूलते हैं पैसे......

    भारत का एक मात्र श्मशान जहां लाशों से भी वसूलते हैं पैसे......

    हिंदू रीति रिवाजों के मुताबिक सिर्फ दिन में ही दाह संस्कार किया जाता है लेकिन गंगा के तट पर मणिकर्णिका घाट भारत का एक मात्र ऐसा घाट है जहाँ दिन रात यानि 24 घंटे शवों का दाह संस्कार किया जाता है। बनारस की तीन चीज़ें पूरे संसार में प्रसिद्ध है। काशी विश्वनाथ मंदिर, बनारसी साड़ी और मणिकर्णिका घाट। हिंदू रीति रिवाजों के मुताबिक सिर्फ दिन में ही दाह संस्कार किया जाता है लेकिन गंगा के तट

  • यहां सभी भाई करते हैं एक ही लड़की से शादी, एक टोपी पर निर्भर करता है विवाहित जीवन

    यहां सभी भाई करते हैं एक ही लड़की से शादी, एक टोपी पर निर्भर करता है विवाहित जीवन

    हमारे देश के हर क्षेत्र का रहन-सहन, भाषा जिस प्रकार अलग-अलग है। उसी तरह हर जगह की परंपराएं और रीति-रिवाज भी कुछ अलग हैं जो उस क्षेत्र की पहचान बनी हुई है। हमारे देश में हर जाति, धर्म के लोग अपने समुदाय से जुड़ी परंपराएं और रीति-रिवाजों को मानते हैं और उनका पालन करते हैं। हमारे देश के हर क्षेत्र का रहन-सहन, भाषा जिस प्रकार अलग-अलग है। उसी तरह हर जगह की परंपराएं और रीति-रिवाज भी कुछ अलग हैं

ताज़ा खबर