‘मोहिनी’ एकादशी : सभी पापों का क्षय करती है और सर्वोत्तम है

By Tejnews.com Fri, May 5th 2017 धर्म-कर्म

आज इस कथा को पढ़ने से मिलेगा एक हजार गौ दान का फल
युधिष्ठिर ने श्रीकृष्ण से पूछा,”केशव ! वैशाख मास के शुक्लपक्ष में जो एकादशी आती है उसे किस नाम से पुकारा जाता है? उसे करने से किस फल की प्राप्ति होती है? उसे कैसे किया जाता है?”

भगवान श्रीकृष्ण ने कहा,”धर्मराज युधिष्ठिर ! आप से पूर्व यह प्रश्न श्री रामचन्द्र जी ने महर्षि वशिष्ठ जी से पूछा था। उत्तर में वशिष्ठ जी ने बताया था की वैशाख मास के शुक्लपक्ष में जो एकादशी आती है उसे ‘मोहिनी एकादशी’ के नाम से जाना जाता है। यह एकादशी सभी पापों का क्षय करती है और सर्वोत्तम है। इस उपवास को करने से जीव मोह माया एवं किसी भी तरह के पाप से मुक्त हो जाता है।”

सरस्वती नदी के मनोरम किनारे पर भद्रावती नाम का सुन्दर क्षेत्र था। उस नगर में चन्द्रवंशी राजा धृतिमान राज्य करते थे। उसी नगर में एक समृद्ध वैश्य निवास करते थे उनका नाम धनपाल था। वह श्री हरि की भक्ति करते हुए सतकर्मों में ही अपना जीवन व्यतित करते। उनके पांच पुत्र थे : सुमना, धुतिमान, मेघावी, सुकृत तथा धृष्टबुद्धि।

सबसे छोटा पुत्र धृष्टबुद्धि उनसे विपरित स्वभाव का था। वह पाप कर्मों में सदा लिप्त रहता। गलत कामों में पड़कर अपने पिता का नाम और धन बर्बाद करता। एक दिन उसके पिता कार्यवश कहीं जा रहे थे रास्ते में उन्होंने देखा धृष्टबुद्धि वेश्या के गले में बांह डाले घूम रहा था। पिता ने उसी पल उसका त्याग कर दिया और अपने से संबंध विच्छेद करते हुए उसे अपनी दौलत ज्यादाद से भी बेदखल कर दिया। सभी सगे-संबंधियों ने भी उससे सभी रिश्ते नाते समाप्त कर दिए।

जब उसके पास धन नहीं रहा तो वैश्या ने उसे अपने घर से बाहर किया। वह भूख- प्यास से तड़पता हुआ ईधर-उधर भटकने लगा। अपना दुख-दर्द बांटने वाला उसके पास कोई न था। एक दिन भटकते-भटकते उसका पूर्वकाल का कोई पुण्य जागृत हुआ और वह महर्षि कौण्डिन्य के आश्रम में जा पहुंचा। वैशाख का महीना था। गर्मी जोरो पर थी कौण्डिन्य गंगा जी में स्नान करके आए थे। धृष्टबुद्धि कौण्डिन्य जी के समीप जाकर हाथ जोड़ कर खड़ा हो गया और बोला, “ब्राह्मण देव कृपया करके मुझ पर दया करके किसी ऐसे व्रत के विषय बताएं जिसके पुण्य से मेरी मुक्ति हो जाए।”

कौण्डिन्य जी बोले, “वैशाख माह के शुक्लपक्ष की एकादशी ‘मोहिनी’ नाम से विख्यात है। उस एकादशी का व्रत करो । इस व्रत के प्रभाव से तुम्हारे इस जन्म के ही नहीं अनेक जन्मों के महापाप भी नष्ट हो जाएंगे।”

मुनि के कहे अनुसार धृष्टबुद्धि ने ‘मोहिनी एकादशी’ का व्रत किया। व्रत के प्रभाव से वह निष्पाप हो कर दिव्य देह धारण कर गरुड़ पर आरुढ़ हो श्री हरि का प्रिय बनकर विष्णुलोक को चला गया। इस कथा को पढ़ने और सुनने से सहस्र गौ दान के समान फल प्राप्त होता है।

Similar Post You May Like

  • महालया आज: जानिए इसका मतलब, शारदीय नवरात्र गुरुवार से शुरु

    महालया आज: जानिए इसका मतलब, शारदीय नवरात्र गुरुवार से शुरु

    महालया मांगलिक पर्व दुर्गा पूजा से सात दिन पहले नए चांद के महत्व को दर्शाता है। माना जाता है कि इसके साथ ही त्योहारों की शुरूआत हो जाती है। जो कि आपकी लाइफ में सुख-शांति और समृद्धि लाती है। महालया यानी मां का आवाहन आज 19 सितंबर को है। इसमें मां दुर्गा का अवाहन किया जाता है। आपको बता दें कि शारदीय नवरात्र 21 सितंबर से शुरू होकर 29 सितंबर तक चलेगी। साथ ही दशहरा 30 सितंबर को मनाया जाएगा। अश

  • इंदिरा एकादशी: इस विधि से से करेंगे पूजा, तो पूर्वजों को मिलेगा मोक्ष

    इंदिरा एकादशी: इस विधि से से करेंगे पूजा, तो पूर्वजों को मिलेगा मोक्ष

    हिंदू पचांग के अनुसार अश्विन माह की कृष्ण पक्ष की एकदाशी पितरों को मुक्ति दिलाने के लिए उत्तम मानी जाती है। इसे इंदिरा एकादशी के नाम से भी जानते है। इस दिन शालिग्राम की पूजा करने का विधान है। इस बार एकादशी 16 सितंबर, शनिवार को है। हिंदू शास्त्रों में माना जाता है कि इस दिन पूजा करने से इंसान को सभी पापों से मुक्ति मिलती है। साथ ही पितरों को स्वर्ग की प्राप्ति होगी। जानिए इसकी पूजा व

  • केदारनाथ से लेकर तमिलनाडु तक एक सीधी रेखा में कैसे बने शिव मंदिर

    केदारनाथ से लेकर तमिलनाडु तक एक सीधी रेखा में कैसे बने शिव मंदिर

    आज विज्ञान भले ही कितने उन्नत होने का दावा करे, लेकिन भारत के ज्ञान, विज्ञान और अध्यात्म ने जिस ऊंचाइंयों को छुआ है, उसकी बराबरी कोई नहीं कर सकता है। इसकी मिसाल है एक हजार साल से भी पुराने ये आठ शिव मंदिर, जो एक दूसरे से 500 से 600 किमी दूर स्थित हैं। मगर, उनकी देशांतर रेखा एक ही है। सीधी भाषा में कहें, तो सभी मंदिर एक सीध में स्थापित हैं। ऐसे में सवाल उठना लाजिमी है कि क्या प्राचीन हिंदू ऋषि

  • बनाएं ऐसा सिग्नेचर, कभी नहीं होगी धन की कमी

    बनाएं ऐसा सिग्नेचर, कभी नहीं होगी धन की कमी

    एक हस्ताक्षर पर आपके सारे काम टिके होते हैं। आपकी वित्तीय मामलों में आपके हस्ताक्षर की भूमिका बेहद मायने रखती है आपका एक गलत हस्ताक्षर आपका लाखों का नुकसान करा सकता है, जबकि एक सही हस्ताक्षर आपके भाग्य को मजबूत बनाता है। वास्तु शास्त्र में ऐसे कई उपाय बताएं गए है जिसे अपनाकर आपके अपने भाग्य को बदल सकते है। हमारे भाग्य में में बहुत सारी चीजें होती है जो कि आपकी एक गलती के कारण आपको

  • घर में लाएं ड्रैगन का ये जोड़ा, मिलेगी अपार संपदा और सुख-शांति

    घर में लाएं ड्रैगन का ये जोड़ा, मिलेगी अपार संपदा और सुख-शांति

    हिंदू धर्म में वास्तु शास्त्र एक ऐसा शास्त्र है जिसके हिसाब से हम लोग हर चीज करते है। जिससे कि घर में खुशहाली आए, धन की कमी न हो साथ ही परिवार के किसी भी व्यक्ति को कोई भी समस्या न हो। इसके कारण हम वास्तु के अनुसार हर चीज को उठा कर रखते है, लेकिन क्या आप जानते है कि घर में लगाएं गए तस्वीरों से भी आपके जीवन में काफी प्रभाव पड़ता है। इससे आपकी लाइफ में सुख-शांति भी आ सकती है। जानिए वास्तु के

  • 18 सिंतबर होगा अद्भुत संयोग, चांद करेगा यह कारनामा

    18 सिंतबर होगा अद्भुत संयोग, चांद करेगा यह कारनामा

    हर साल कोई न कोई भगोलकीय घटना घटती रहती है। हर ग्रह हर माह, साल अपनी चाल बदलते है। जिसका फर्क हमारी लाइफ में भी बहुत पड़ता है। इस बार भी 18 सितंबर को कुछ ऐसा ही अद्भुत संयोग होगा। इस दिन माघ पूर्णिमा भी है। इसके साथ ही चांद एक के बाद लगातार 3 तारों से आच्छादन करेगा। यह आच्छादन दुनिया में कुछ ही जगहों पर दिखेगा। शुक्र व चंद्रमा के मघा नक्षत्र में होगी ये घटना इस बारे में भारतीय तारा भौतिक

  • इन उपाय से शांत होंगे पितृ, सारे दोषों से होंगे मुक्त

    इन उपाय से शांत होंगे पितृ, सारे दोषों से होंगे मुक्त

    हमारे पूर्वज जिनकी सद्गति या मोक्ष किसी कारणवश नहीं हो पाता है तो वह हमसे आशा करते हैं कि हम उनकी सद्गति या मोक्ष का कोई साधन करें। यदि उनकी आशाओं को पूर्ण किया जाए तो वे हमें आशीर्वाद देते हैं। घर में पितृदोष है तो इन उपायों को अपनाकर पितृदोष को शांत किया जा सकता है। पीपल के नीचे गाय के घी का दीप जलाएं। दूध से बनी खीर का भोग लगाएं। पीपल पूजा के जल का घर में छिड़काव करें। पानी में पितृ

  • यह गुरुवार है बेहद खास इन उपायों से खुलेंगे किस्मत के ताले

    यह गुरुवार है बेहद खास इन उपायों से खुलेंगे किस्मत के ताले

    गुरुवार कई कारणों से बहुत ही खास है। शास्त्रों के अनुसार आज कुछ ऐसे संयोग बने हुए हैं जिनसे आप चाहें तो संतान सुख में आने वाली बाधाएं और आर्थिक मुश्किलों को दूर कर परलोक में भी अपने लिए अच्छा स्थान बना सकते हैं। ज्योतिषशास्त्र की गणना के अनुसार इस दिन सावन मास की शुक्ल पक्ष की एकादशी तिथि है। इस एकादशी को पद्मपुराण में पवित्रा एकादशी कहा गया है क्योंकि इस एकादशी के पुण्य से मनुष्य

  • ऐसा होगा घर में स्टोर रूम तो बना रहेगा अन्न धन का भंडार

    ऐसा होगा घर में स्टोर रूम तो बना रहेगा अन्न धन का भंडार

    घर में सुख समृद्धि और धन के मामले में सबसे ज्यादा महत्व स्टोर का होता है। इसलिए किराए का मकान हो या खुद का लोगों को सबसे पहले स्टोर रूम और भंडार कोण का ही ख्याल आता है। इसकी वजह यह है कि इसी दिशा और स्थान से घर में सुख शांति और धन समृद्धि का आगमन होता है। वास्तु विज्ञान के अनुसार भंडार कक्ष यानी स्टोर रूम पूजा घर से लगा हुआ या सामने हो तो यह बहुत ही शुभ रहता है। इससे घर में घर में धन का आग

  • भूलकर भी इन दिनों में न करें ये काम, वरना जाने पड़ेगा नर्क

    भूलकर भी इन दिनों में न करें ये काम, वरना जाने पड़ेगा नर्क

    हिंदू धर्म में श्राद्ध का बहुत अधिक महत्व है। किसी भी व्यक्ति की मृत्यु के बाद उसका श्राद्द करना जरुरी माना जाता है। तभी हमारे पूर्वज को मुक्ति, मोक्ष मिलती है। ऐसी मान्यता है कि अगर किसी मनुष्य का विधिपूर्वक श्राद्ध और तर्पण ना किया जाए तो उसे इस लोक से मुक्ति नहीं मिलती और वह भूत के रूप में इस संसार में ही रह जाता है। इस बार 6 सितंबर से पितृपक्ष के श्राद्ध शुरु हो रहे है। जो कि 19 सितं

ताज़ा खबर