तुलसी में है सेहत का भंडार, करें यू इस्तेमाल

By Tejnews.com 2016-11-23 हेल्थ     

तुलसी एक ऐसा पौधा है जिसके बारें में हर कोई जानता है। इसे समृद्धि और धार्मिकता का प्रतीक माना जाता है। तुलसी हमारी घर को ही नहीं आपकी सेहत का भी अधिक ख्याल रखती है। इसका सेवन करने से आप कई बीमारियों से बच सकते है।
ये भी पढ़े-
नींबू पानी पीने के फायदे ही नहीं साइड इफेक्ट भी है, जानिए
मौसमी एलर्जी से बचने के लिए अपनाएं ये घरेलू उपाय
बेहद ही खतरनाक है Smog, आपकी जान पर पड़ यूं सकता है भारी
माना जाता है कि जिस घर में तुलसी का पौधा होता है वहां कभी भी सांप, बिच्छू, मच्छर और हानिकारक कीड़े नहीं होते हैं। तो जानिए कई गुणों से भरपूर तुलसी के बारे में जो आपकी कई बीमारियों को छूमंतर करने की क्षमता रखती है। जानिए इसका सेवन करने से किनि-किन बीमारियों से बच सकते है।

सर्दी- जुकाम
तुलसी का सेवन करने से सर्दी-जुकाम आसानी से ठीक हो जाता है। इसके लिए तुलसी के 65 पत्ते और 8 काली मिर्च के 250 मिलीलीटर पानी में अच्छी तरह पका कर छान लें। फिर इसमें दूध और चीनी डालकर चाय की तरह पीए। इससे बुखार ठीक होगा और जुकाम कम होगा। या फिर 20 पत्ते और 6 काली मिर्च मिलाकर खाने से आराम मिलेगा।
स्ट्रेस
तुलसी की पत्तियों में तनाव रोधीगुण भी पाए जाते हैं। तनाव को खुद से दूर रखने के लिए कोई भी व्यक्ति तुलसी के 12 पत्तों का रोज दो बार सेवन कर सकता है। त्वचा रोग दाद, खुजली और त्वचा की अन्य समस्याओं में तुलसी के अर्क को प्रभावित जगह पर लगाने से कुछ ही दिनों में रोग दूर हो जाता है। नैचुरोपैथों द्वारा ल्यूकोडर्मा का इलाज करने में तुलसी के पत्तों को सफलता पूर्वक इस्तेमाल किया गया है। तुलसी की ताजा पत्तियों को संक्रमित त्वचा पर रगड़ें। इससे इंफेक्शन ज्यादा नहीं फैल पाता।
सांसों से बदबू
तुलसी की सूखी पत्तियों को सरसों के तेल में मिलाकर दांत साफ करने से सांसों की दुर्गध चली जाती है। पायरिया जैसी समस्या में भी यह खासा कारगर साबित होती है।
चेचक
तुलसी के पत्ते और अजवाइन को पीस कर प्रतिदिन सेवन करने से चेचक को बुखार शान्त होगा। तुलसी के पत्तें व नीम की नई पत्ती को मिलाकर चूर्ण बनाए और शहद या मिश्री के साथ सुबह के समय खाए चेचक के दाने और जलन कम होगी। सुबह के समय तुलसी पत्ती का रस पीने से चेचक से आराम मिलेगी।
उल्टी आना
तुलसी पत्ती का रस और शहद बराबर मात्रा में मिलाकर पिलाने से उल्टी बंद होती है और चक्कर भी आने कम होते है। 10 ग्राम तुलसी पत्ती को 1 ग्राम इलायची के साथ पीस ले फिर इसमें 10 ग्राम चीनी मिलाकर खाए। इससे पित्त के कारण होने वाली उल्टी दूर होगी।
दांतों का दर्द
तुलसी पत्ती, काली मिर्च और कपूर को पीसकर दर्द वाले दांतों के बीच दबा ले। तुलसी पत्ती और काली मिर्च को पीसकर गोली बना ले और इसे दांतों के नीचे रखें आराम मिलेगा। तुलसी के पत्तों का रस पानी में मिलाकर हल्का गर्म करके कुल्ला करे। इससे दांतों का दर्द, मसूढ़ों से खून आना व दांत सम्बन्धी दूसरी बीमारी पर आराम मिलेगा।
सिर दर्द
सिर का दर्द सिर के दर्द में तुलसी एक बढि़या दवा के तौर पर काम करती है। तुलसी का काढ़ा पीने से सिर के दर्द में आराम मिलता है। तुलसी के पत्तों को पीसकर माथे में लगाने से सिर दर्द में आराम मिलेगा।
लिवर संबंधी समस्या
तुलसी की 10-12 पत्तियों को गर्म पानी से धोकर रोज सुबह खाएं। लिवर की समस्याओं में यह बहुत फायदेमंद है।
गुर्दे की पथरी
तुलसी गुर्दे को मजबूत बनाती है। यदि किसी के गुर्दे में पथरी हो गई हो तो उसे शहद में मिलाकर तुलसी के अर्क का नियमित सेवन करना चाहिए। छह महीने में फर्क दिखेगा।
कान में दर्द
तुलसी के पत्तों को सरसों के तेल में भून लें और लहसुन का रस मिलाकर कान में डाल लें। दर्द में आराम मिलेगा।

Similar Post You May Like

  • बढ़ती उम्र में पाना चाहते है ग्लोइंग स्किन, तो कराएं PRP थेरेपी, जानिए क्या है ये

    बढ़ती उम्र में पाना चाहते है ग्लोइंग स्किन, तो कराएं PRP थेरेपी, जानिए क्या है ये

    उम्र बढ़ने के साथ त्वचा के नीचे स्थित ऊतकों से वसा की मात्रा कम होने लगती है। इसके साथ ही सूर्य की रोशनी और प्रदूषण की वजह से होने वाले नुकसान के कारण रेखाओं और झुर्रियों के साथ त्वचा की चमक खो जाती है जिसके कारण वृद्ध और थके हुए नजर आते हैं। पीआरपी थेरेपी के जरिये त्वचा की खोई हुई टेक्सचर, टोन और प्राकृतिक चमक वापस पाने में मदद मिलती है। अपोलो अस्पताल के कॉस्मेटिक प्लास्टिक सर्जन एव

  • उपवास के लिए ऐसे बनाएं टेस्टी साबूदाना की खिचड़ी

    उपवास के लिए ऐसे बनाएं टेस्टी साबूदाना की खिचड़ी

    नवरात्र के दिनों में अधितकर लोग उपवास रखते है। इसके साथ ही कामकाज में हमारे पास इतना समय नहीं होता है कि खुद के लिए थोड़ा सा भी समय निकाल पाएं। इसलिए आप उपवास में साबुदाना की खचड़ी बना सकते है। इस खिचड़ी में आप नमक की जगह सेंधा नमक का यूज कर सकते है। जानिए इस रेसिपी को बनाने की विधि के बारें में। सामग्री 1. साबुदाना 2. आधा चम्म्च जीरा 3. एक छोटे आकार का आलू (चुकड़े कए हुए) 4. थोड़े मूंगफली

  • कहीं आप ज्यादा शुगर का तो सेवन नहीं करते, पुरुषों के लिए हो सकता है जानलेवा

    कहीं आप ज्यादा शुगर का तो सेवन नहीं करते, पुरुषों के लिए हो सकता है जानलेवा

    भागदौड़ भरी लाइफ में हम अपनी जरा सा भी ख़याल नहीं रख सकते हैं। जिसके कारण जो हमें मिल गया अपनी भूख को मिटाने के लिए वह खाना खाती है। जिसके कारण हमें बाद में कई परेशानियों का सामना करना पड़ता है। इसी तरह अधिक मात्रा में शुगर का सेवन करना आप के लिए भारी पड़ सकता है। हाल ही में एक शोध हुआ जिसमें ऐसे निष्कर्ष निकल गए थे कि सुन आप ह्रान रह जाएंगे। हाल में हुए इस शोध के अनुसार अत्यधिक मीठा खा

  • रिसर्च में हुआ खुलासा, इसलिए रात में होती है शराब पीने की तीव्र इच्छा

    रिसर्च में हुआ खुलासा, इसलिए रात में होती है शराब पीने की तीव्र इच्छा

    हर शाम क्या आपके अंदर एक ग्लास व्हिस्की पीने की तीव्र इच्छा उठती है, अगर ऐसा है तो यह मस्तिष्क की प्रतिरक्षा प्रणाली या इम्यून सिस्टम की उत्तेजना के कारण हो सकता है। एक नए रिसर्च के निष्कर्षो में मस्तिष्क की प्रतिरक्षा प्रणाली और रात में शराब पीने की प्रेरणा के बीच के संबंध पता चला है। शोधार्थियों ने बताया कि इसका कारण यह है कि शरीर की जैविक प्रक्रिया मादक पदार्थो से संबंधित व्यवह

  • रोजाना सुबह पुरुष खाएं भीगा हुआ चना, तो मिलेंगे ये बेहतरीन फायदे

    रोजाना सुबह पुरुष खाएं भीगा हुआ चना, तो मिलेंगे ये बेहतरीन फायदे

    रोज थोड़ा चने खाने से बच्चे और बड़े सभी का स्वास्थ्य बेहतर होता है। इसमें मौजूद तत्व में कई समस्याओं से बचाता है। अगर आम रोज 50 ग्राम चना खाते है तो आपका शरीर कई बीमारियों से बच जाएगा। वह चना किसी भी तरह हो यानी की चाहे अंकुरित हो या फिर भूना हुआ। सभी को खाने से अधिक फायदे है। भीगे चने में अधिक मात्रा में कार्बोहाइड्रेट, प्रोटीन, नमी, चिकनाई, रेशे, कैल्शियम, आयरन और विटामिन्स पाए जाते ह

  • जिंदगीभर रहना है स्वास्थ्य, तो बचपन से डालें ये आदते

    जिंदगीभर रहना है स्वास्थ्य, तो बचपन से डालें ये आदते

    स्कूलों में स्वास्थ्य का बहुत महत्व है, क्योंकि स्कूल केवल औपचारिक शिक्षा प्रदान करने वाले केंद्र ही नहीं हैं, बल्कि एक बच्चे के समग्र विकास को भी प्रभावित करते हैं। बड़े होने के दौरान अच्छे स्वास्थ्य का आनंद लेने के लिए स्वस्थ जीवनशैली की आदत बच्चों को बचपन में ही डाल देनी चाहिए। यह परामर्श पद्मश्री डॉ. के.के. अग्रवाल का है। इंडियन मेडिकल एसोसिएशन (आईएमए) के अध्यक्ष डॉ. अग्रवाल ने

  • मस्सों से केला सिर्फ एक दिन में दिलाएंगा निजात!

    मस्सों से केला सिर्फ एक दिन में दिलाएंगा निजात!

    हमारे चेहरे में मस्सा होना एक आम बात है। यह कोई बीमारी नही होती है, लेकिन कभी-कभी यह हमारे चेहरे में होने के कारण हम असहज महसूस करते है। हर कोई त्वचा संबंधी किसी न किसी समस्या से घिरा होता है। लेकिन इनमे से कुछ गंभीर होती है और कुछ नार्मल होती है। मस्से शरीर के किसी भी अंग में हो सकते है। मुख्यत: ये हाथ, पैर, चेहरे, कलाई, घुटनों में हो सकते है। इसका मुख्य कारण ह्युमन पैपिल्लोमा वाइरस की व

  • अगर रहना है फिट, तो नियमित मात्रा में लें प्रोटीन

    अगर रहना है फिट, तो नियमित मात्रा में लें प्रोटीन

    आज क समय में हर कोई फिट रहने की कोशिश करता है, लेकिन गलत खानपान के कारण रह नहीं पाता है। जिसके कारण शरीर में प्रोटीन, विटामिन्स, मिनरल्स की कमी हो जाती है। माना जाता है कि शरीर के लिए सबसे ज्यादा जरुरी प्रोटीन है। शाकाहारी लोगों के आहार में प्रोटीन की मात्रा कम होती है, जबकि मांसाहारियों के आहार में प्रोटीन की अच्छी-खासी मात्रा होती है। विशेषज्ञों का मानना है कि शरीर के अच्छे विकास क

  • डिप्रेशन के कारण नहीं आती है नींद, तो करें इस चीज का सेवन

    डिप्रेशन के कारण नहीं आती है नींद, तो करें इस चीज का सेवन

    भागदौड़ भरी लाइफ में हमारे पास इतना समय नहीं होता है कि खुद का ठीक ढंग से ध्यान रख पाएं। जॉब, घर सभी चीज का प्रेशर हमारे डिप्रेशन का कारण बनती है। जिसके कारण कई लोग तो इससे बाहर ही नहीं निकल पाते है। हमारे बीच कई लोग ऐसे होते है जो कि डिप्रेशन के कारण ठीक से नींद नहीं ले पाते है। जिसका सीधा असर उनकी हेल्थ पर पड़ता है। अगर आप भी उनमे से है, जिनको तनाव के कारण नींद पूरी नहीं हो पाती। भारती

  • बिना दवा खाए सिर्फ 1 मिनट में ऐेसे पाएं सिरदर्द से निजात!

    बिना दवा खाए सिर्फ 1 मिनट में ऐेसे पाएं सिरदर्द से निजात!

    सिरदर्द एक आम परेशानी हैं। शायद ही ऐसा कोई व्यक्ति होगा जिसने सिरदर्द कभी न हुआ हो। आज की भागदौड़ भरी जीवनशैली, तनाव के कारण सिरदर्द होना आम बात हो गयी हैं। इसका ठीक ढंग से इलाज न करने से स्वास्थ्य संबंधी कई समस्याएं हो सकती है। ज्यादातर मौके पर सिरदर्द यह एक आम लक्षण होता हैं और सामान्य दर्दनाशक दवा लेने पर तुरंत आराम मिल जाता हैं। कभी अम्लपित्त की वजह से, अधूरी नींद के कारण, तनाव, द

ताज़ा खबर

Popular Lnks