हवा महल से जुड़ी दिलचस्प बातें

By Tejnews.com Tue, Nov 22nd 2016 सैर     

भारत विविधताओं भरा देश है जहां अजूबों और आश्चर्यों की कमी नहीं है। देश के लगभग हर राज्य में ऐसी ही खूबियां पाई जाती हैं। राजपूताना विरासत के अपने में समेटे राजस्थान भी इससे अछूता नहीं है। राजस्थान को भारत की आन और राजपूतों की शान माना जाता हैं। इसी राज्य में गुलाबी शहर के बीचों बीच बना हवा महल अपनी सुंदरता और अनोखी डिजाइन के कारण सबको आकर्षित करता है।
ये भी पढ़े- ये है भारत की सबसे खूबसूरत रेल यात्रा
यह क्या आप जानते है कि इस हवामहल में ऐसा क्या है जो आज भी लोगों और वैज्ञानिकों के लिए रहस्य बना हुआ है। हवा महल को वास्तुकारों ने लाल चंद ने डिजाइन किया था। यह महल राधा और कृष्ण को समर्पित है। लेकिन क्या इस बारें में जानते है कि यह इस इमारत में ऐसा क्या है जो एक शोध का विषय बना हुआ है। जिसके बारें में आज तक कोई भी ठीक से नही बता पाया है। जानिए ऐसा क्या खास है इस महल में।
हवामहल के नाम में छुपा एक मतलब
हवामहल का मतलब है कि हवाओं की एक जगह। यानी कि यह एक ऐसी अनोखी जगह है, जो पूरी तरह से ठंडा रहता है। हवामहल को साल 1799 में महाराज सवाई प्रताप सिंह ने बनवाया था। इस पांच मंजिला इमारत को बहुत ही अनोखे ढंग से बनाया गया है।
यह ऊपर से तो केवल डेढ़ फुट चौड़ी है और बाहर से देखने में किसी मधुमक्खी के छत्ते के समान दिखती है। इस हवामहल में 953 छोटी खिड़कियां हैं जिससे ठंडी और ताजी हवा आती रहती है। जिसके कारण यह जगह बिल्कुल ठंडी रहती है।
अगली स्लाइड में जाने और खासियतों के बारें में

राजस्थान का मौजूद पिक सिटी जे अपने ही इमारतों और धरोहरों के लिए फेमस हैं। इन्ही में से एक है हवा महल। जो अपनी खूबसूरती और खासियत के कारण दुनिया में मशहूर है। लेकिन क्या आप जानते है इस अनोखे महल को किसने डिजाइन किया है। तो हम आपको बता दें कि इस अनोखे और खूबसूरत महल को लाल चंद्र उस्ताद ने किया था।

हवामहल की डिजाइन के पीछें क्या है खास

जब महाराज सवाई प्रताप सिंह इस हवामहल को बनवाने का मन हुआ तो उन्होनें वास्तुकार लाल चंद्र उस्ताद को बुलाया और उन्होनें इस महल की डिजाइन इस तरह बनाई जो कभी सोची भी नही जा सकती थी। इसकी डिजाइन हिंदू धर्म के भगवान श्री कृष्ण के राजमुकुट जैसी बनी थी। ऐसा बाहर से देखने में लगता है।
हवामहल में ऊपर की मंजिल में जाने के लिए कोई सीढ़ी नहीं-
आपको यह जान कर अचंभा होगा कि पांच मंजिला बनी इस इमारत को इस तरह डिजाइन किया गया है कि इसमें ऊपर की मंजिल में जाने के लिए एक भी सीढ़ियां नहीं बनी हुई है। अगर आपको सबसे ऊपर की मंजिल में जाना है तो सिर्फ रैंप बने हुए हैं।
हवामहल को बनाने के पीछे क्या कारण था?
हवा महल को देखकर हमारे मन में एक सवाल जरुर आता है कि आखिर इसे किस मकसद के लिए बनवाया, तो हम आपको बता दें कि इसके पीछें क्या कारण था। इस महल को राजपूत की रानियां और राजकुमारियां इन झरोखों में बैठकर विशेष मौकों पर निकलने वाले जुलूस व शहर आदि को देख सकें। राजपूत के समय में यह नही था कि उनके महल की कोई स्त्री घर से बाहर निकले। जिसके कारण यह बनवाया गया।
यह है दुनिया की सबसे बड़ी बिना नीव की इमारत
आपको यह जानकर हैरानी होगी कि यह इमारत बिना किसी नीव की बनी हुई है। जो अपने आप पर एक अजूबा है। यह दुनिया की सबसे बड़ी बिना नीव की इमारत मानी जाती हैं।
हवामहल में पांच मंजिला होने के कारण यह 87 डिग्री कोण में बना हुआ है। जो एक आश्चर्य हैं।
हवामहल है राजपूत और मुगल कला का बेजोड़ नमूना-
हवामहल सबसे ज्यादा अपनी संस्कृति और इसकी डिजाइन के कारण फेमस है। हवामहल राजपूत और मुगलकला का बेजोड़ नमूना है। इस महल में आपको राजपूत का नमूना यहां कि गुंबददार छत, कमल, और फूलों में मिल जाएगा। वही मुगल का नमूना आपको मेहराव और यहां पर की गई बारीक नक्काशी में में मिल जाएगा।
हवामहल में की गई डिजाइन है मधुमक्खी के छत्तें की तरह-
आपको यह बात जानकर हैरानी होगी कि इस महल में 953 खिड़कियां है जिन्हें झरोखा कहा गया है। जो भीषण गर्मी पडने पर भी ठंडा रहता है। जैसे कि किसी एयर कंडीशनर कमरें में बैठे हो। इसकी डिजाइन इस तरह बनाई गई है जैसे कि मधुमक्खी का कोई छत्ता बना हो।

Similar Post You May Like

  • ये हैं दुनिया के 10 बेहतरीन Floating Restaurant

    ये हैं दुनिया के 10 बेहतरीन Floating Restaurant

    खाने और घूमने के शौकीन हैं तो दुनिया में कुछ floating restaurant आपकी विश लिस्ट का हिस्सा बन सकते हैं. दुनिया के ऐसे ही दस floating restaurant को हम लेकर आए हैं यहां जिनमें से भारत का भी एक रेस्टोरेंट अपनी जगह बनाने में कामयाब रहा है. आइए जानें, floating restaurant में ऐसा क्या होता है खास... 1. Veli Lake Floating Restaurant, Kerala केरल का वेली लेक फ्लोटिंग रेस्टोरेंट दुनियाभर में प्रसिद्ध है. तिरुअंनतपुरम से 8 किमी की दूरी पर पानी में तैरने वाला य

  • विश्‍व के टॉप 10 टूरिस्‍ट प्‍लेस जहां आप दोस्‍तों के साथ कर सकते हैं भरपूर मौज

    विश्‍व के टॉप 10 टूरिस्‍ट प्‍लेस जहां आप दोस्‍तों के साथ कर सकते हैं भरपूर मौज

    नई दिल्ली: हमारी जिंदगी में दोस्‍ती एक ऐसा रिश्‍ता है जो हमारे गम और खुशी दोनों में जब साथ होते हैं तो बात कुछ और होती हैं। दु:ख में वो हमारे साथ हमें मजबूती देते हैं तो सुख में जिंदगी के फन और मौज मस्‍ती के साथी बनते हैं। कॉलेज लाइफ हो या जॉब लाइफ दोस्‍तों की महफिल की बात ही कुछ और है, कुछ ही दिनों बाद फ्रेंडशिप डे भी आने वाला है ऐसे में अगर आप अपने दोस्‍तों के साथ कहीं घूमने का प्‍लान बन

  • ऐसे 4 देश जहां आसानी से कम पैसों में घूम पाएंगे आप

    ऐसे 4 देश जहां आसानी से कम पैसों में घूम पाएंगे आप

    घूमना-फिरना तो सभी को पसंद है, लेकिन अपने घूमने की इस इच्छा को पूरी करने के लिए आपको समय और धन दोनों ही लगाना पड़ता है। ऐसे में अगर आप कई घूमना चाहें भी तो आपकी जेब आपको इसकी अनुमति नहीं देती। यदि आप गोवा या किसी और जगह भी ट्रिप प्लान करतें हैं, तो वही आपको इतनी मंहगी पड़ जाती है कि फिर आपके मन में विदेश जैसी जगहों पर यात्रा करने का तो कोई सवाल ही नहीं उठता। अपनी व्यस्त लाइफ से परेशान आजकल

  • लोगों को आकर्षित करता है ये दूधिया झरना, आते हैं विदेशी सैलानी

    लोगों को आकर्षित करता है ये दूधिया झरना, आते हैं विदेशी सैलानी

    एमपी के दतिया जिला मुख्यालय से 40 किमी दूर स्थित सनकुआं, धार्मिक स्थल के साथ-साथ पर्यटन का बड़ा केंद्र भी है। यहां बारिश के मौसम में प्राकृतिक सौंदर्य व दूधिया झरना लोगों को बरबस ही अपनी ओर आकर्षित करता है। स्थापत्य कला को प्रदर्शित करती पुरातात्विक महत्व की इमारत, बारहद्वारी, महलबाग एवं कन्हरगढ़ दुर्ग के अंदर मौजूद दरबार हॉल, नंदनंदनजू का मंदिर आदि अनेक रमणीय स्थल हैं। धार्मिक महत

  • देखें यह अनोखी इमारत, जिसमें बिना पंखे ही गर्मी में लगती है सर्दी!

    देखें यह अनोखी इमारत, जिसमें बिना पंखे ही गर्मी में लगती है सर्दी!

    एक इमारत जिसमें 953 खिड़कियां, है न ताज्जुब। यह अनोखी इमारत गुलाबी नगरी जयपुर में है। इस इमारत से जुड़ी कई खूबियों और खूबसूरती के बारे में, जिन पर इठलाता है जयपुर। यह आलीशान इमारत ‘हवामहल’ राजस्थान के प्रतीक के रूप में दुनियाभर में प्रसिद्ध है। इसका निर्माण 1799 में जयपुर के महाराजा सवाई प्रताप सिंह ने करवाया था। इसमें बनाए गए अनगिनत हवादार झरोखों के कारण ही इसका नाम हवामहल पड़ा। इसम

  • सुकून और रोमांच का कॉकटेल है जल महोत्सव...

    सुकून और रोमांच का कॉकटेल है जल महोत्सव...

    जब जल महोत्सव का बुलावा आया तो मैंने हमेशा की तरह गूगल पर जाकर यह जानने की कोशिश की कि यह जल महोत्सव होता कहां है? हनुवंतिया के बारे मे मुझे कुछ ज़्यादा पता नही था सिवाए इसके क&#

  • त्र्यंबक जहां से चलती है गोदावरी

    त्र्यंबक जहां से चलती है गोदावरी

    हमने मंदिर के सामने ही एक गेस्ट हाउस में संपर्क किया। आसानी से दो कमरे मिल गए। फ्रेश होकर सभी दर्शन के लिए निकल पडे। यहां गर्भगृह में, जो कि भूतल से नीचे है, जाकर दर्शन के लिए व&

  • लद्दाख जो है भारत मां की गोद में छुपा हुआ एक अनमोल खज़ाना

    लद्दाख जो है भारत मां की गोद में छुपा हुआ एक अनमोल खज़ाना

    लद्दाख जो है भारत मां की गोद में छुपा हुआ एक अनमोल खज़ाना सुंदरता या खूबसूरती एक तत्त्व है। खूबसूरती जब अपने पूरे उफान पर हो तो ऐसे में खूबसूरती या सुंदरता को परिभाषित करना æ

  • टॉप 5 खूबसूरत एडवेंचर डेस्टिनेशंस जहां एक कपल को अवश्य जाना चाहिए

    टॉप 5 खूबसूरत एडवेंचर डेस्टिनेशंस जहां एक कपल को अवश्य जाना चाहिए

    एक रिश्ते को तभी मज़बूत माना जाता है जब आपके पास एक दूसरे का साथ हो। आप एक दूसरे की भावना को समझ सकें। कहा जा सकता है कि एक दूसरे के साथ को महसूस करने के लिए एक दूसरे की भावना को सë

  • मध्य प्रदेश, खूबसूरत पर्यटन स्थलों का ख़ज़ाना है

    मध्य प्रदेश, खूबसूरत पर्यटन स्थलों का ख़ज़ाना है

    भारत का हृदय मध्यप्रदेश पर्यटकों के लिए किसी ख़ज़ाने से कम नहीं है। इसीलिए तो मध्यप्रदेश को 'भारत का हृदय' कहा जाता है। जहाँ देशी-विदेशी सैलानियों का तांता लगा रहता है। मध्यप

ताज़ा खबर

Popular Lnks