देखिये कुछ अनसुलझे रहस्य जिन्हें आज तक वैज्ञानिक भी नहीं सुलझा पाए

By Tejnews.com Sun, Nov 20th 2016 अजबगजब

प्रकृति के आगे हम सब छोटे हैं. विज्ञान के ज़रिए हम कितनी भी तरक्की कर लें, लेकिन प्रकृति की एक चाल हमारी हर उपलब्धि से बड़ी होती है. वैज्ञानिक अपने कई शोध में प्रकृति का रहस्य पता करने की कोशिश में हैं और आज भी ये सिर्फ कोशिश ही है. पुरातत्व विभाग अकसर ऐसी खोज करता है या हम यूं कहें की उनकी कुछ खोजें ऐसे सवालों की कुछ गुत्थियां बुनती हैं कि वैज्ञानिक भी उनका जवाब ढूंढ़ते रह जाते हैं।
1. शुद्ध लोहे से बना करोडो साल पुराना हथोड़ा (Hammer of the purest iron alloy):-
सन् 1934 में जब ये हथौड़ा पुरातत्व विभाग को मिला तो ये एक चौंका देने वाली घटना थी, जिसका कारण इस हथौड़े के लोहे की शुद्धता थी. साथ ही इस हथौड़े में लगी लकड़ी कोयला बन चुकी थी. मतलब साफ़ था, ये हथौड़ा करोड़ों साल पुराना था. जबकि इंसानों ने ऐसे औज़ार बनाने सिर्फ 10 हजार साल पहले शुरू किए थे.
2.सहारा रेगिस्तान में पत्थरों से बना खगोलीय ढांचा (Astronomically aligned stones in Sahara desert ):-
सन् 1973 में पुरातत्व विभाग ने सहारा के रेगिस्तान में पत्थरों का एक ढांचा खोज निकाला था, जो करीब 6000 साल पुराना था. अध्ययन से पता चला की इस ढांचे का इस्तेमाल उस वक़्त खगौलिय शास्त्र के लिए किया जाता था. लेकिन 6000 साल पहले इसका इस्तेमाल किस प्रकार होता था ये आज भी रहस्य बना हुआ है।
3. चीनी मोजैक लाइन्स (Chinese Mosaic lines):-
चीन के गानसू शेंग रेगिस्तान के बीच कुछ लकीरें मिली थीं जिन्हें अंग्रेजी में चीनी मोज़ेक लाईन कहते हैं. इसे मोगाओं गुफ़ा के आस-पास बनाया गया था. हैरत की बात ये है कि पत्थरों के ऊबड़-खाबड़ होने के बावजूद ये लकीरें बिलकुल सीधी हैं।
4. पत्थर की गुड़िया (Stone Doll):-
1889 में पुरातत्व विभाग को ईदाहो के नाम्पा में एक पत्थर की गुड़िया मिली, जिसके बाद वैज्ञानिकों का रुझान उस तरफ़ हुआ. इसे देख कर वैज्ञानिकों ने ये अंदाज़ा लगाया कि शायद ये गुड़िया उस वक़्त की है जब मानव अस्तित्व में आया था. लेकिन आज भी ये गुड़िया वैज्ञानिकों के लिए रहस्य ही बनी हुई है।
5. तीन सौ मिलियन साल पुराना लोहे का पेंच (Iron bolt, age 300 million years) :-
1998 में वैज्ञानिकों को उल्का के अवशेष जांच करते वक्त एक पत्थर का टुकड़ा मिला था. जिसमें एक लोहे का पेंच था. वैज्ञानिकों के मुताबिक ये पत्थर 30 करोड़ साल पुराना है और उस वक़्त कोई भी प्रजाती इस धरती पर नहीं हुआ करती थी।
6. प्राचीन रॉकेट जहाज जापान (Ancient Missile Ship Japan):-
5000 ईसा पूर्व की इस पेंटिंग में आपको रॉकेट दिख रहा होगा. वैज्ञानिक आज भी सोच रहें हैं कि क्या उस वक़्त ऐसा कोई रॉकेट था और अगर नहीं तो उन्होंने ये उस वक़्त सोचा कैसे।
7. खिसकते पत्थर डेथ वैली, कैलिफोर्निया (Moving Stones Death Valley, California):-
कैलिफोर्निया की डेथ वैली के खिसकते पत्थर आज भी वैज्ञानिकों के लिए असुलझी पहेली बनी हुई है. 1972 में इस रहस्य को खोलने के लिए वैज्ञानिकों की एक टीम बनाई गई थी, लेकिन वो पूरी तरह से नाकाम रहे. नाकामी का वो दौर आज भी ज़ारी है।
8. पिरामिड द पॉवर मेक्सिको ( Pyramids the Power Mexico):-
प्राचीन मेक्सिकन शहर की दीवार अभ्रक से बनी है. अभ्रक ब्राज़ील में मिलता है जो यहां ये हज़ारों मील दूर है. इसका इस्तेमाल ऊर्जा प्रदान करने के लिए किया जाता है. तो क्या उस वक़्त के कारीगर इससे ऊर्जा का संचार कर रहे थे, ये अभी भी एक रहस्य बना हुआ है।
9. विशाल जिवाश्म आयरलैंड (Fossil Giants Ireland):-
1895 में आयरलैंड के अंतरिम खुदाई के दौरान 12 फ़िट लम्बा एक जिवाश्म मिला था. जिसके पैर में 6 उंगलिया थीं और उसके हाथ 4 फ़िट लम्बे थे. ये क्या था इसकी खोज आज भी ज़ारी है।
10. पिरामिड ऑफ अटलांटिस यूकैटन खाड़ी, क्यूबा (Pyramids of Atlantis Yucatan Channel, Cuba):-
11. भीमकाय इंसानी जबड़ा नेवाडा, अमेरिका (Giant Human Jaws, Nevada -America ):-
सन् 1911 में अमेरिका के नेवाडा में एक भीमकाय इंसानी जबड़ा मिला था. कहा जाता है कि नेवाडा में लाल बाल वाले 12 फ़िट लम्बे इंसान रहा करते थे. इसके अलावा 1931 में इंसानी कंकाल भी मिले थे, जिनकी लम्बाई 12 फ़िट थी।
12. एल्युमीनियम कील रोमानिया (Aluminium Wedge Romania):-
1974 में त्रानसिलवेनिया की मुर्से नदी में एक 20 हज़ार साल पुराने मैस्तदन की हड्डियों से एक एल्युमीनियम की एक कील मिली थी जिसे वैज्ञानिकों ने 300 से 400 साल पुराना बताया था. लेकिन हैरानी की बात ये थी कि एल्युमीनियम हमेशा किसी भी धातु के साथ मिश्रित होता है. लेकिन उस वक्त विशुद्ध एल्युमीनियम आया कहां से?
13. लोलाडॉफ प्लेट नेपाल (Plate Loladoffa Nepal):-
नेपाल में 12, 000 साल पहले पत्थर से बनी थाली का चलन था। हालांकि, इस थाली को देख यूएफओ की झलक दिखाई देती है। तस्वीर में आप देख सकते हैं कि थाली में एलियन नुमा आकृति बनी हुई है।

Similar Post You May Like

  • 90 साल में बनकर तैयार हुई थी दुनिया की सबसे बड़ी गौतम बुद्ध की मूर्ति

    90 साल में बनकर तैयार हुई थी दुनिया की सबसे बड़ी गौतम बुद्ध की मूर्ति

    दुनिया में कई तरह की धारणा सदियों से चलती आ रही है. जिनके पीछे कोई वैज्ञानिक तर्क न होने पर भी लोग पीढ़ियों तक इसे मानते आ रहे हैं. जैसे हमारे यहां कहा जाता है कि सुबह-सुबह अपने किसी प्रियजन का चेहरा देखना चाहिए, जिससे कि हमारा पूरा दिन अच्छा गुजर सके. इसी तरह चीन के लेशान में स्थित महात्मा बुद्ध की विशाल प्रतिमा को देखकर, लोग अपने नए साल की शुरूआत करते हैं. इनकी मान्यता है कि नए साल की शु

  • शंगचुल महादेव मंदिर – घर से भागे प्रेमियों को मिलता है यहां आश्रय

    शंगचुल महादेव मंदिर – घर से भागे प्रेमियों को मिलता है यहां आश्रय

    हिमाचल प्रदेश जितना अपनी प्राकृतिक सुंदरता के कारण जाना जाता है उतना ही यहां की परंपराओं के कारण भी। आज हम आपको बता रहा है कुल्लू के शांघड़ गांव के देवता शंगचूल महादेव के बारे में जो घर से भागे प्रेमी जोड़ों को शरण देते हैं। पांडव कालीन शांघड़ गांव में कई ऐतिहासिक धरोहरें हैं। इन्ही में से एक हैं यहां का शंगचुल महादेव मंदिर। शंगचूल महादेव की सीमा में किसी भी जाति के प्रेमी युगल अगर

  • जानिए अघोरियों की रहस्यमयी दुनिया की कुछ अनजानी और रोचक बातें

    जानिए अघोरियों की रहस्यमयी दुनिया की कुछ अनजानी और रोचक बातें

    अघोर पंथ हिंदू धर्म का एक संप्रदाय है। इसका पालन करने वालों को अघोरी कहते हैं। अघोर पंथ की उत्पत्ति के काल के बारे में अभी निश्चित प्रमाण नहीं मिले हैं, परन्तु इन्हें कपालिक संप्रदाय के समकक्ष मानते हैं। ये भारत के प्राचीनतम धर्म “शैव” (शिव साधक) से संबधित हैं। अघोरियों को इस पृथ्वी पर भगवान शिव का जीवित रूप भी माना जाता है। शिवजी के पांच रूपों में से एक रूप अघोर रूप है। अघोरी हमेशा

  • क्यों पैदा होते हैं ट्रांसजेंडर (किन्नर)

    क्यों पैदा होते हैं ट्रांसजेंडर (किन्नर)

    ट्रांसजेंडर लोग आमतौर वह होते हैं जिन्हें न तो पुरुष और न ही महिला की कैटेगरी में रखा जा सकता है। ट्रांसजेंडर लोगों में पुरुष और महिला दोनों के ही गुण हो सकते हैं। ऊपर से पुरुष दिखाई देने वाले किसी व्यक्ति में इंटरनल ऑर्गन और गुण महिला के हो सकते हैं और ऐसे ही ऊपर से महिला नजर आने वाले किसी व्यक्ति में पुरुषों वाले गुण और ऑर्गन्स हो सकते हैं। क्यों पैदा होते हैं ट्रांसजेंडर ट्रां

  • पहले की 25 शादियां, जिनसे हैं इतने बच्चे, अब लगाने पड़ रहे हैं कोर्ट के फेरे

    पहले की 25 शादियां, जिनसे हैं इतने बच्चे, अब लगाने पड़ रहे हैं कोर्ट के फेरे

    मॉन्ट्रियल: हाल ही में कनाडा में बहुविवाह का एक मामला सामने आया है। जिसके चलते यहां की अदालत ने सोमवार को अपने ऐतिहासिक फैसले में देश में बहुविवाह की प्रथा पर प्रतिबंध को सही ठहराते हुए दो व्यक्तियों को बहुविवाह का दोषी ठहराया। इन दोनो व्यक्तियों की शादी और बच्चों के बारे में सुनकर आप जरूर हैरान हर जाएंगे। दोषी ठहराये गये व्यक्तियों में से एक की 25 पत्नियां और 146 बच्चे हैं जबकी दूसर

  • इस राजा की थी 365 रानियां, उनके खास महल में केवल निर्वस्‍त्र हीं कर सकते थे एंट्री

    इस राजा की थी 365 रानियां, उनके खास महल में केवल निर्वस्‍त्र हीं कर सकते थे एंट्री

    भारत के एक महाराजा अपनी रंगीन मिजाजी के लिए काफी मशहूर रहे। इस रंगीन मिजाजी के सच्चे किस्से आपको चौंका देंगे। हम बात कर रहे हैं पटियाला रियासत के महाराजा और पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर के दादा महाराजा भूपिंदर सिंह की। पटियाला के इन महाराजा की गतिविधियों का जिक्र महाराजा भूपिंदर सिंह के दीवान जरमनी दास ने अपनी किताब 'महाराजा' में किया है। महाराजा भूपिंदर सिंह ने पटियाला

  • इस देश में हर साल समुद्र हो जाता है लाल, कारण जानकर रह जाएंगे दंग

    इस देश में हर साल समुद्र हो जाता है लाल, कारण जानकर रह जाएंगे दंग

    अगर इस तस्वीर को देखें तो इसमें समुद्र में पानी का रंग साफ तौर पर लाल दिखेगा. ये तस्वीर पिछले 48 घंटों से पूरी दुनिया में वायरल हो रही है. केवल ये ही नहीं, इस तरह की कई और तस्वीरें भी पूरी दुनिया में वायरल हो रही हैं. सच्चाई जानेंगे तो स्तब्ध रह जाएंगे. हां, समुद्र के लाल रंग की वजह खून ही है. त्योहार के लिए करीब एक हजार व्हेल मछलियों को मारने से ऐसा हुआ है. खूनी त्योहार से होता है समुद्र ला

  • ये हैं भारत के रहस्यमयी खजाने जिनकी खोज अभी है बाकी...

    ये हैं भारत के रहस्यमयी खजाने जिनकी खोज अभी है बाकी...

    एक समय था जब भारत को सोने की चिड़िया कहा जाता था, मगर भारत को विदेशियों ने इतनी बार लूटा कि यहां का सारा खजाना खत्म हो गया। यही दौलत दुनिया भर के हमलावरों को भी अपनी ओर खींचती थी। इसीलिए उस दौर के राजा अपने खजानों को बचाने के लिए इनसे जुड़ी जानकारियां गुप्त रखते थे। उस दौरान कई क्रूर आक्रमणकारी भले ही राजाओं की सत्ता छीनने में कामयाब रहे, लेकिन वे कई छिपे हुए खजानों को हासिल नहीं कर सक

  • यहां जलती चिताओं के पास आखिर क्यों पूरी रात नाचती हैं सेक्स वर्कर?

    यहां जलती चिताओं के पास आखिर क्यों पूरी रात नाचती हैं सेक्स वर्कर?

    जहां लाशों का आना और चिता का जलना कभी नहीं थमता, वहीं अगर उसी चिता के करीब कोई महफिल सजा बैठे और शुरू हो जाए श्मशान में डांस तो उसे आप क्या कहेंगे? काशी का वह श्मशान जहां चिता की आग कभी ठंडी नहीं होती और जिसके बारे में कहा जाता है कि यहां चिता पर लेटने वाले को सीधा मोक्ष मिलता है। जहां लाशों का आना और चिता का जलना कभी नहीं थमता, वहीं अगर उसी चिता के करीब कोई महफिल सजा बैठे और शुरू हो जाए श

  • भारत का एक मात्र श्मशान जहां लाशों से भी वसूलते हैं पैसे......

    भारत का एक मात्र श्मशान जहां लाशों से भी वसूलते हैं पैसे......

    हिंदू रीति रिवाजों के मुताबिक सिर्फ दिन में ही दाह संस्कार किया जाता है लेकिन गंगा के तट पर मणिकर्णिका घाट भारत का एक मात्र ऐसा घाट है जहाँ दिन रात यानि 24 घंटे शवों का दाह संस्कार किया जाता है। बनारस की तीन चीज़ें पूरे संसार में प्रसिद्ध है। काशी विश्वनाथ मंदिर, बनारसी साड़ी और मणिकर्णिका घाट। हिंदू रीति रिवाजों के मुताबिक सिर्फ दिन में ही दाह संस्कार किया जाता है लेकिन गंगा के तट

ताज़ा खबर