महिलाओं को स्तन ढकने की थी मनाही

By Tejnews.com 2016-11-23 रहन सहन     

केरल के त्रावणकोर इलाके, खास तौर पर वहां की महिलाओं के लिए 26 जुलाई का दिन बहुत महत्वपूर्ण है। इसी दिन 1859 में वहां के महाराजा ने अवर्ण औरतों को शरीर के ऊपरी भाग पर कपड़े पहनने की इजाजत दी। अजीब लग सकता है, पर केरल जैसे प्रगतिशील माने जाने वाले राज्य में भी महिलाओं को अंगवस्त्र या ब्लाउज पहनने का हक पाने के लिए 50 साल से ज्यादा सघन संघर्ष करना पड़ा।इस कुरूप परंपरा की चर्चा में खास तौर पर निचली जाति नादर की स्त्रियों का जिक्र होता है क्योंकि अपने वस्त्र पहनने के हक के लिए उन्होंने ही सबसे पहले विरोध जताया। नादर की ही एक उपजाति नादन पर ये बंदिशें उतनी नहीं थीं। उस समय न सिर्फ अवर्ण बल्कि नंबूदिरी ब्राहमण और क्षत्रिय नायर जैसी जातियों की औरतों पर भी शरीर का ऊपरी हिस्सा ढकने से रोकने के कई नियम थे। नंबूदिरी औरतों को घर के भीतर ऊपरी शरीर को खुला रखना पड़ता था। वे घर से बाहर निकलते समय ही अपना सीना ढक सकती थीं। लेकिन मंदिर में उन्हें ऊपरी वस्त्र खोलकर ही जाना होता था।

नायर औरतों को ब्राह्मण पुरुषों के सामने अपना वक्ष खुला रखना होता था। सबसे बुरी स्थिति दलित औरतों की थी जिन्हें कहीं भी अंगवस्त्र पहनने की मनाही थी। पहनने पर उन्हें सजा भी हो जाती थी। एक घटना बताई जाती है जिसमें एक निम्न जाति की महिला अपना सीना ढक कर महल में आई तो रानी अत्तिंगल ने उसके स्तन कटवा देने का आदेश दे डाला।इस अपमानजनक रिवाज के खिलाफ 19 वीं सदी के शुरू में आवाजें उठनी शुरू हुईं। 18 वीं सदी के अंत और 19 वीं सदी के शुरू में केरल से कई मजदूर, खासकर नादन जाति के लोग, चाय बागानों में काम करने के लिए श्रीलंका चले गए। बेहतर आर्थिक स्थिति, धर्म बदल कर ईसाई बन जाने औऱ यूरपीय असर की वजह से इनमें जागरूकता ज्यादा थी और ये औरतें अपने शरीर को पूरा ढकने लगी थीं। धर्म-परिवर्तन करके ईसाई बन जाने वाली नादर महिलाओं ने भी इस प्रगतिशील कदम को अपनाया। इस तरह महिलाएं अक्सर इस सामाजिक प्रतिबंध को अनदेखा कर सम्मानजनक जीवन पाने की कशिश करती रहीं।
यह कुलीन मर्दों को बर्दाश्त नहीं हुआ। ऐसी महिलाओं पर हिंसक हमले होने लगे। जो भी इस नियम की अवहेलना करती उसे सरे बाजार अपने ऊपरी वस्त्र उतारने को मजबूर किया जाता। अवर्ण औरतों को छूना न पड़े इसके लिए सवर्ण पुरुष लंबे डंडे के सिरे पर छुरी बांध लेते और किसी महिला को ब्लाउज या कंचुकी पहना देखते तो उसे दूर से ही छुरी से फाड़ देते। यहां तक कि वे औरतों को इस हाल में रस्सी से बांध कर सरे आम पेड़ पर लटका देते ताकि दूसरी औरतें ऐसा करते डरें।
लेकिन उस समय अंग्रेजों का राजकाज में भी असर बढ़ रहा था। 1814 में त्रावणकोर के दीवान कर्नल मुनरो ने आदेश निकलवाया कि ईसाई नादन और नादर महिलाएं ब्लाउज पहन सकती हैं। लेकिन इसका कोई फायदा न हुआ। उच्च वर्ण के पुरुष इस आदेश के बावजूद लगातार महिलाओं को अपनी ताकत और असर के सहारे इस शर्मनाक अवस्था की ओर धकेलते रहे। आठ साल बाद फिर ऐसा ही आदेश निकाला गया। एक तरफ शर्मनाक स्थिति से उबरने की चेतना का जागना और दूसरी तरफ समर्थन में अंग्रेजी सरकार का आदेश। और ज्यादा महिलाओं ने शालीन कपड़े पहनने शुरू कर दिए। इधर उच्च वर्ण के पुरुषों का प्रतिरोध भी उतना ही तीखा हो गया। एक घटना बताई जाती है कि नादर ईसाई महिलाओं का एक दल निचली अदालत में ऐसे ही एक मामले में गवाही देने पहुंचा। उन्हें दीवान मुनरो की आंखों के सामने अदालत के दरवाजे पर अपने अंग वस्त्र उतार कर रख देने पड़े। तभी वे भीतर जा पाईं। संघर्ष लगातार बढ़ रहा था और उसका हिंसक प्रतिरोध भी।
सवर्णों के अलावा राजा खुद भी परंपरा निभाने के पक्ष में था। क्यों न होता। आदेश था कि महल से मंदिर तक राजा की सवारी निकले तो रास्ते पर दोनों ओर नीची जातियों की अर्धनग्न कुंवारी महिलाएं फूल बरसाती हुई खड़ी रहें। उस रास्ते के घरों के छज्जों पर भी राजा के स्वागत में औरतों को ख़ड़ा रखा जाता था। राजा और उसके काफिले के सभी पुरुष इन दृष्यों का भरपूर आनंद लेते थे। आखिर 1829 में इस मामले में एक महत्वपूर्ण मोड़ आया। कुलीन पुरुषों की लगातार नाराजगी के कारण राजा ने आदेश निकलवा दिया कि किसी भी अवर्ण जाति की औरत अपने शरीर का ऊपरी हिस्सा ढक नहीं सकती। अब तक ईसाई औरतों को जो थोड़ा समर्थन दीवान के आदेशों से मिल रहा था, वह भी खत्म हो गया। अब हिंदू-ईसाई सभी वंचित महिलाएं एक हो गईं और उनके विरोध की ताकत बढ़ गई। सभी जगह महिलाएं पूरे कपड़ों में बाहर निकलने लगीं।
इस पूरे आंदोलन का सीधा संबंध भारत की आजादी की लड़ाई के इतिहास से भी है। विरोधियों ने ऊंची जातियों के लोगों और उनके दुकानों के सामान को लूटना शुरू कर दिया। राज्य में शांति पूरी तरह भंग हो गई। दूसरी तरफ नारायण गुरु और अन्य सामाजिक, धार्मिक गुरुओं ने भी इस सामाजिक रूढ़ि का विरोध किया।
मद्रास के कमिश्नर ने त्रावणकोर के राजा को खबर भिजवाई कि महिलाओं को कपड़े न पहनने देने और राज्य में हिंसा और अशांति को न रोक पाने के कारण उसकी बदनामी हो रही है। अंग्रेजों के और नादर आदि अवर्ण जातियों के दबाव में आखिर त्रावणकोर के राजा को घोषणा करनी पड़ी कि सभी महिलाएं शरीर का ऊपरी हिस्सा वस्त्र से ढंक सकती हैं। 26 जुलाई 1859 को राजा के एक आदेश के जरिए महिलाओं के ऊपरी वस्त्र न पहनने के कानून को बदल दिया गया। कई स्तरों पर विरोध के बावजूद आखिर त्रावणकोर की महिलाओं ने अपने वक्ष ढकने जैसा बुनियादी हक भी छीन कर लिया।

Similar Post You May Like

  • जनिये दुनिया के पहले परिवहन का साधन

    जनिये दुनिया के पहले परिवहन का साधन

    क्या आपने कभी सोचा है कि दुनिया में सबसे पहला परिवहन का साधन क्या था। सडक, रेल परिवहन, वायु या जल परिवहन। जैसे घोडागाडी, बैलगाडी, सायकल, रेल, नाव या फिर हवाई जहाज। आपको जानकर यह हैरानी होगी कि दुनिया में सबसे पहले जल परिवहन को चुना गया था, इसमें सबसे अच्छा और सस्ता परिवहन का साधन था नाव। जल परिवहन का प्रमुख साधन नाव कई खूबियां समेटे हुये है आइये जानते नाव के बारे में रोचक जानकारियां जिस

  • प्यार में पड़ने के बाद लड़कियों में आता है ये बदलाव, जानकर आप भी रह जाएंगे हैरान

    प्यार में पड़ने के बाद लड़कियों में आता है ये बदलाव, जानकर आप भी रह जाएंगे हैरान

    मनचाहा पार्टनर मिलना किसी के लिए भी सबसे खुशकिस्मती की बात होती है. सबसे दिलचस्प बात तो यह है कि किसी से प्यार हो जाने के बाद या किसी के साथ रिलेशन में रहने से वजन घटने लगता है. ऐसा हाल ही में हुई एक स्टडी के अनुसार कहा गया कि प्यार में पड़े इंसान का वजन काफी हद तक कम हो जाता है. रिलेशनशिप में रहने वाले 25 कपल्स पर टेस्ट करने के बाद ये बात साबित की गई है. इस स्टडी से पहले माना जाता था कि प्यार

  • मुकेश अंबानी की बेटी ईशा अंबानी है देश की सबसे धनी लड़की, नेटवर्थ है 7100 मिलियन डॉलर

    मुकेश अंबानी की बेटी ईशा अंबानी है देश की सबसे धनी लड़की, नेटवर्थ है 7100 मिलियन डॉलर

    मुकेश अंबानी और नीता अंबानी की एक ही बेटी है और वो है ईशा अंबानी. ईशा का जन्म 23 अक्टूबर 1991 को मुंबई में हुआ था. ईशा ने अपनी स्कूलिंग मुंबई स्थ‍ित धीरूभाई अंबानी स्कूल से की है और ग्रेजुएशन येल यूनिवर्सिटी से साइकोलॉजी और साउथ एशिया स्टडीज में किया है. साल 2014 में अपनी पढ़ाई पूरी करने के बाद ईशा ने बिजनेस एनालिस्ट के तौर पर मैनेजमेंट कंसल्ट‍िंग फर्म मैककिनसे एंड कंपनी के साथ काम करना

  • ये 10 घरेलू नुस्खे बढ़ा देंगे आपकी खूबसूरती

    ये 10 घरेलू नुस्खे बढ़ा देंगे आपकी खूबसूरती

    हम अहमियत नहीं देते, पर हमारे रोमछिद्र हमारी सेहत और खूबसूरती दोनों को बरकरार रखने में अहम भूमिका निभाते हैं। हमें जो पसीना निकलता है, वह त्वचा की सतह पर मौजूद रोमछिद्रों के माध्यम से निकलता है। ये रोमछिद्र शरीर से अतिरिक्त तेल को बाहर निकालते हैं। कहा जा सकता है कि त्वचा पर मौजूद रोमछिद्रों की मदद से ही त्वचा सांस लेती है। जब ये रोमछिद्र बंद हो जाते हैं तो मुहांसे होने लगते हैं। सा

  • सेनेटरी नैपकिन के इस्तेमाल से पहले जान लें ये 5 बातें, कहीं गलती तो नहीं हो रही

    सेनेटरी नैपकिन के इस्तेमाल से पहले जान लें ये 5 बातें, कहीं गलती तो नहीं हो रही

    पीरियड्स के दौरान लड़कियां सेनेटरी नैपकिन का इस्तेमाल करती हैं। ये नैपकिन शरीर से होने वाले रक्त स्त्राव को सोखने का काम करता है। अक्सर ऐसा देखा जाता है कि इस नैपकिन को इस्तेमाल करते समय लड़कियां कुछ गलतियां कर बैठती है। तो चलिए आज हम आपको बताते हैं कि सेनेटरी नैपकिन का इस्तेमाल करते समय किन 5 बातों का खास ख्याल रखना चाहिए। नैपकिन की क्वालिटी का रखें ध्यान अक्सर ऐसा होता है कि ल

  • अच्छे दाम्पत्य सुख के लिए पति पत्नी को ऐसे सोना चाहिए

    अच्छे दाम्पत्य सुख के लिए पति पत्नी को ऐसे सोना चाहिए

    अक्सर पति-पत्नी सोते समय बेपरवाह होकर सोते हैं। वह यह भी नहीं सोचते कि उनका गलत तरीके से सोना वैवाहिक जीवन में टकराव और तालमेल में कमी की वजह हो सकता है। वास्तु विज्ञान कहता है, सोते समय अगर पति-पत्नी कुछ बातों का ध्यान रखें तो वैवाहिक जीवन की कई समस्याओं से बच सकते हैं। यहां तक कि संतान सुख में आने वाली बाधाओं को भी इससे कम किया जा सकता है। वास्तुविज्ञान में कहा गया है कि दाम्पत्य जी

  • किशोरों में रोमांस करने के लिए नहीं बल्कि इस लिए अच्छा लग रहा है सेक्सटिंग!

    किशोरों में रोमांस करने के लिए नहीं बल्कि इस लिए अच्छा लग रहा है सेक्सटिंग!

    नई दिल्ली: इन दिनों युवाओं के बीच सेक्सटिंग लेकर कुछ ज्यादा ही दिलचस्पी ले रहे है। किशोर किसी न किसी को अपनी निर्वस्त्र तस्वीर भेज देते है, लेकिन हाल में ही एक शोध आया जिसे सुनकर आप हैरान रह जाएंगे। इंडियाना युनिवर्सिटी के किंसे इंस्टीट्यूट के सेक्सपर्ट्स द्वारा की गई नई स्टडी के अनुसार आजकल ज़्यादातर लोग सेक्सटिंग प्रेफर करते हैं और खासकर महिलाएं उसकी शुरूआत करती हैं। 2012 में स

  • आपके बच्चों में भी होता है झगड़ा ? ऐसे सुलझाएं उनकी लड़ाई

    आपके बच्चों में भी होता है झगड़ा ? ऐसे सुलझाएं उनकी लड़ाई

    मां-बाप बच्चों में छोटी-छोटी बातों पर होने वाले झगड़े से परेशान रहते हैं. वो उनके झगड़ों को पूरी तरह से खत्म करना चाहते हैं, लेकिन समझ नहीं आता कि क्या करें. बच्चों के झगड़े खत्म करते करते उनकी एनर्जी खत्म हो जाती है. पर किसी एक बच्चे के मन में उनकी छवि खराब भी हो जाती है. आप भी बच्चों के झगड़े से छुटकारा पाना चाहते हैं तो इसके लिए सही तरीके अपनाएं. मदद बच्चे भाई-बहन की गलती बताएं तो उनकी बा

  • रूमी के ये 10 Motivational Quotes बदल देंगे जिंदगी का नजरिया

    रूमी के ये 10 Motivational Quotes बदल देंगे जिंदगी का नजरिया

    तेरहवीं शताब्दी के सूफी संत जलालुद्दीन मोहम्मद बल्खी "रूमी" का जन्म अफगानिस्तान के बल्ख शहर में 1207 में हुआ था. दुनिया के जाने-माने कवि और सूफी संत जलालुद्दीन रूमी धार्मिक विद्वान भी थे. अमेरिका के लोग रूमी के अनमोल विचारों के दीवाने हैं. उनके विचारों को पढ़कर हमेशा किसी न किसी परेशानी का हल मिलता है. पढ़ें रूमी के प्रेरणादायक विचार. 1 जब कोई एक गलीचा को पीटता है, प्रहार गलीचा के खिलाफ

  • इस कारण होते है अनियमित पीरियड्स, ऐसे पाएं इस समस्या से निजात

    इस कारण होते है अनियमित पीरियड्स, ऐसे पाएं इस समस्या से निजात

    हर महिला को पीरियड्स के इस चक्र से हर माह होकर गुजरना पड़ता है। यह महिला के शरीर के लिए बहुत ही जरुरी होता है, क्योंकि यही पीरियड्स का च्रक महिलाओं की प्रजनन प्रणाली को परिवर्तित करता है। जिसके बाद ही कोई महिला मां बनने लायक बनती है। आज का समय में लडकियां इतनी आगे पहुंच गई है, लेकिन पीरियड्स को लेकर आज भी अज्ञानता और शर्मवश किसी से बताने से झिझकती है। इस झिझकता के कारण ही पीरियड्स सं

ताज़ा खबर

Popular Lnks