फिल्म आह में रीवा

By Tejnews.com 2016-02-26 बॉलीवुड     

फिल्म आह वह फिल्म है जो राज कपूर के रीवा प्रेम और रीवा प्रेम। क्योकि यहां से उन्हे कृष्णा जैसा जीवन साथी मिलाप को प्रदर्शित करने वाली है। ‘‘आह‘‘ फिल्म की कहानी का ताना बाना कृष्णा रीवा और राज कपूर स्वयं ही है। राज कपूर का यह कथन कालीदास के अनुसार एक आदर्श पत्नी वह होती है जिसमे निम्न गुण पाये जाए। जो अपने पति की मित्र हो, पथ दर्शन हो उसे रास्ते पर चलने के लिए प्रेरित करें, दुख के पलो मे उसका एक मां के रूप में ख्याल रखे उसे प्यार दें और जब वह कमजोर हो तो एक मार्ग भी वह दिखा सकें। और राज कपूर ही कहते है कि कृष्णा में यह सब गुण है, कृष्णा मेरी शक्ति है एक सम्पूर्ण स्त्री है जो मेरी वास्तव में उर्जाजंली के किरदार को सम्पूर्ण रूप से जीती है और ऐसी आदर्श पत्नी उन्हे रीवा में मिली तो स्वभाविक है कि उस जगह के प्रति भी उतना ही लगाव उन्हे रहा है उनकी कल्पना फिल्म ‘‘आह‘‘ के उन संवादों मे दिखती है सुनाई पडती है अदभुत होती है जब फिल्म के नायक राज कपूर कहते है मुझे हर हाल में रीवा पहुंचना है भइया मुझे रीवा पहुंचा दो।

‘‘आह’’ फिल्म में रीवा के प्रति राज कपूर ने रोमांचक लगाव की अभिव्यक्ति प्रदर्शित की है। वस्तुत ‘‘आह’’ फिल्म राज कपूर के व्यक्तिगत जीवन के करीब की फिल्म है। फिल्म में नायक को तपेदिक टीवी से पीडित दिखाया जाता है और राज कपूर स्वयं आस्थमा के मरीज थे। नायक बार-बार रीवा जाने की बात करता है इस तरह फिल्म में 11 बार रीवा का नाम लिया जाता है। मुझे हर हाल मे रीवा पहुंचना है कहकर फिल्म के नायक के रूप में राज कपूर रीवा के प्रति अपने लगाव को प्रदर्शित करते है। रीवा जाने की बेचैनी का जिस अंदाज से राज कपूर जी फिल्म में फिल्मांकन करते है वह रीवा के प्रति उनके आदर, मान, सम्मान और प्रेम पूर्ण लगाव की कहानी प्रस्तुत करता है। यह रीवा को उस महान देन के लिए राज कपूरजी का धन्यवाद है जो उन्हे कृष्णा के साथ में रीवा के जीवन साथी के रूप में दिया है। ‘‘आह‘‘ फिल्म कि नायिका की तरह निजी जीवन मे कृष्णा नें राज कपूरजी का हमेशा प्रेमपूर्ण, जीवन संगिनी बनकर ख्याल रखा है।
अभिनेता राज कपूर के जीवन और कृतत्व के सभी स्वभाव है। ‘‘आह’’ फिल्म बनाकर रीवा और श्रीमती कृष्णा को पाने की याद को रूपहले पर्दे पर राज कपूरजी ने फिल्म में बनाया है। कृष्णा राय साहब करतार नाथ की चौथी संतान थी कतरतार नाथ की तीन शादियां हुई थी पहली पत्नी से शंभूनाथ मल्होत्रा दूसरी पत्नी से प्रेमनाथ, कृष्णा और राजेन्द्र नाथ तीसरी पत्नी से निर्मल, सुरेन्द्रर, भूपेन्द्र, रविन्दर, नरेन्दर, जितेन्दर, उषा और उमा संतान थी। उसमें अभिनेता प्रेमनाथ, हास्य अभिनेता राजेन्द्र नाथ तथा अभिनेता नरेन्द्र नाथ नें फिल्मों मे काम किया और खूब नाम कमाया। साथ ही उमा का विवाह प्रसिद्ध अभिनेता प्रेम चौपडा से हुआ है। इस तरह राज कपूरजी तथा प्रेम नाथ चौपडा साढूभाई हुये।

Similar Post You May Like

ताज़ा खबर

Popular Lnks