मांडू

By Tejnews.com 2016-11-10 सैर     

मांडू को प्राकृतिक खूबसूरती के कारण प्रकृति प्रेमियों का स्वर्ग कहा जाता है. इस शहर का ऐतिहासिक महत्व है और प्रेम से जुड़ी गाथा भी. मांडू प्राचीन शहर है और इसका जिक्र 555 ईसवीं के संस्कृत अभिलेखों में भी है. इन अभिलेखों से पता चलता है कि मांडू छठी शताब्दी का खूबसूरत शहर हुआ करता था.
दसवीं और ग्यारहवीं शताब्दी में परमार वंश के शासकों ने इस पर अधिकार किया और इसका नाम मांडवगढ़ रखा. 13वीं शताब्दी में परमारों ने अपनी राजधानी धार से मांडू स्थानांतरित कर दी और इस शहर का महत्व बढ़ गया. 1305 में खिलजी वंश से पराजित होने के बाद परमारों का मांडू से आधिपत्य समाप्त हो गया. मध्य प्रदेश के 21 वर्ग किलोमीटर तक फैले पठार पर बना मांडू, प्रेम के शहर के रूप में भी याद किया जाता है. यह मध्य प्रदेश के विंध्य पर्वतमाला और दक्षिणी इंदौर के पश्चिम में बसा हुआ है.
मुगलों के साम्राज्य के पतन के बाद मालवा के अफगान गवर्नर दिलावर खान ने मांडू को स्वतंत्र राज्य के रूप में स्थापित किया. उन्होंने मांडू का नाम बदलकर सादियाबाद यानी खुशियों का नगर रखा. दिलावर खान गौरी के पुत्र हरशंग शाह ने मांडू का विकास किया और इसे संपन्न बनाया. यह युग मांडू का स्वर्णकाल कहा जाता है. इसके बाद कई मुगल शासकों ने मांडू पर राज किया फिर 1732 में मराठों ने इस पर अधिकार कर लिया. बाज बहादुर और रानी रूपमती की प्रेम कहानी की वजह से भी मांडू की अलग पहचान है.
बाज बहादुर संगीतज्ञ थे जबकि रानी रूपमती गायिका थीं. वह रूपमती से गायिकी सीखना चाहते थे.
कहा जाता है जब उन्होंने रानी रूपमती को जंगल में स्नान करते देखा तो उन पर फिदा हो गये. उन्होंने रूपमती को मांडू आने का न्यौता दिया लेकिन रूपमती नर्मदा नदी के दर्शन करके ही गाना गाती थीं.
इसलिए बाज बहादुर ने उनका आश्रय ऐसे स्थान पर बनाया जहां से नर्मदा नदी को आसानी से देखा जा सके.
दसवीं और ग्यारहवीं शताब्दी में इसका नाम मांडवगढ़ था लेकिन बाद में इस शहर को सादियाबाद के नाम से भी जाना गया. समुद्र तल से 2000 फीट की ऊंचाई पर बसा मांडू इतिहास और प्राकृतिक खूबसूरती के कारण प्रकृति प्रेमियों का स्वर्ग कहा जाता है.
रूपमती के सौन्दर्य की चर्चा दूर-दूर तक फैल चुकी थी और इसी चर्चा से प्रभावित होकर अकबर ने मांडू पर आक्रमण कर दिया. इसकी भनक लगते ही रूपमती ने जहर खाकर अपनी जान दे दी. बाद में बाज बहादुर अकबर के दरबार में संगीतज्ञ बन गये.
क्या देखें
सोलहवीं शताब्दी में बाज बहादुर द्वारा बनाया गया महल यहां के प्रमुख दर्शनीय स्थलों में शामिल है. इस महल की विशेषत यह है कि यहां से चारों तरफ का बेहतरीन नजारा नजर आता है.
महल मुगल और राजस्थानी शैली का मिश्रित रूप है. इसके अलावा, यहां रूपमती मंडप भी स्थित है, जिसे सेना द्वारा निगरानी रखने के लिए बनवाया गया था. मंडप किले के बिल्कुल किनारे पर बना है.
यहां की खासियत यह है कि यहां से नर्मदा नदी और उसके मैदानों का सुंदर नजारा दिखाई पड़ता है. यहीं मंडप रानी रूपमती का आश्रय स्थल था.
मांडू की सबसे प्रसिद्ध और आकर्षक इमारत जहाज महल है. यह बिल्कुल पानी के जहाज के आकार का बना है. इसकी लंबाई 120 मीटर और चौड़ाई 15 मीटर है. इस महल के पश्चिम और पूर्व में दो झीलें भी हैं.
मुंज तालाब और कपूर तालाब नामक इन झीलों से घिरा यह महल ऐसा लगता है जैसे कोई जहाज बंदरगाह पर खड़ा हो. इस महल का निर्माण गयासुद्दीन खिलजी ने करवाया था.
यहां पहाड़ी की खड़ी ढाल पर नीलकंठ मंदिर स्थित है और आज भी श्रद्धालु वहां पूजा-अर्चना करते हैं. इसके अलावा, यहां हाथी महल, दरियाखान मकबरा, मांडू के 12 प्रवेश द्वार, हिंडोला महल, रीवा कुंड, चम्पा बावली, अशरफी महल, जैन मंदिर आदि ऐतिहासिक और दर्शनीय स्थल हैं, जिसे देखकर पर्यटक मंत्रमुग्ध हो जाते हैं.
कब जाएं
मांडू घूमने के लिए मानसून से बेहतर मौसम और कोई हो ही नहीं सकता. जुलाई से अगस्त तक मांडू घूमने के लिए उपयुक्त समय है. इस दौरान यहां की हरियाली और पानी से भरे हुए जलाशय पर्यटकों को अपनी ओर आकर्षित करते हैं. बारिश से धुल कर यहां की ऐतिहासिक इमारतें और भी साफ नजर आने लगती हैं.
कैसे पहुंचें
वायुमार्ग: मांडू जाने के लिए इंदौर नजदीकी एयरपोर्ट है. यह प्रमुख एयरलाइन्स द्वारा भोपाल, ग्वालियर, मुंबई, दिल्ली और जयपुर से जुड़ा है. इंदौर से मांडू की दूरी 99 किमी है. सड़क मार्ग से यहां तक पहुंचने में लगभग दो घंटे लगते हैं.
रेलमार्ग : यहां का नजदीकी रेलवे स्टेशन रतलाम और इंदौर हैं. यह इंदौर से 99 किमी. और रतलाम से 124 किमी. दूर है. इंदौर से मांडू बस या टैक्सी से भी पहुंच सकते हैं.
सड़क मार्ग : इंदौर मांडू मार्ग नियमित रूप से बस से जुड़ा हुआ है. भोपाल से भी मांडू के लिए बसें चलती हैं.


Similar Post You May Like

  • महाराजा रामचन्द्र नें खरीदा था कालिंजर का रहस्यमयी किला:

    महाराजा रामचन्द्र नें खरीदा था कालिंजर का रहस्यमयी किला:

    भारत में ऐसे कई रहस्यमय किले मौजूद हैं जो बाहर से देखने पर तो काफी खूबसूरत लगते हैं लेकिन वो अपने अंदर कुछ राज समेटे हुए हैं। एक ऐसा ही रहस्यमय किला है बुदेंलखंड प्रांत में जिसे कालिंजर के किले के नाम से जाना जाता है। बुदेंलखंड प्रांत उत्तर प्रदेश और मध्य प्रदेश दोनों राज्यों में बंटा हुआ है। इस प्रांत के अंदर आने वाले कुछ जिले उत्तर प्रदेश में पड़ते हैं तो कुछ मध्य प्रदेश में पड़त

  • ये हैं दुनिया के 10 बेहतरीन Floating Restaurant

    ये हैं दुनिया के 10 बेहतरीन Floating Restaurant

    खाने और घूमने के शौकीन हैं तो दुनिया में कुछ floating restaurant आपकी विश लिस्ट का हिस्सा बन सकते हैं. दुनिया के ऐसे ही दस floating restaurant को हम लेकर आए हैं यहां जिनमें से भारत का भी एक रेस्टोरेंट अपनी जगह बनाने में कामयाब रहा है. आइए जानें, floating restaurant में ऐसा क्या होता है खास... 1. Veli Lake Floating Restaurant, Kerala केरल का वेली लेक फ्लोटिंग रेस्टोरेंट दुनियाभर में प्रसिद्ध है. तिरुअंनतपुरम से 8 किमी की दूरी पर पानी में तैरने वाला य

  • विश्‍व के टॉप 10 टूरिस्‍ट प्‍लेस जहां आप दोस्‍तों के साथ कर सकते हैं भरपूर मौज

    विश्‍व के टॉप 10 टूरिस्‍ट प्‍लेस जहां आप दोस्‍तों के साथ कर सकते हैं भरपूर मौज

    नई दिल्ली: हमारी जिंदगी में दोस्‍ती एक ऐसा रिश्‍ता है जो हमारे गम और खुशी दोनों में जब साथ होते हैं तो बात कुछ और होती हैं। दु:ख में वो हमारे साथ हमें मजबूती देते हैं तो सुख में जिंदगी के फन और मौज मस्‍ती के साथी बनते हैं। कॉलेज लाइफ हो या जॉब लाइफ दोस्‍तों की महफिल की बात ही कुछ और है, कुछ ही दिनों बाद फ्रेंडशिप डे भी आने वाला है ऐसे में अगर आप अपने दोस्‍तों के साथ कहीं घूमने का प्‍लान बन

  • ऐसे 4 देश जहां आसानी से कम पैसों में घूम पाएंगे आप

    ऐसे 4 देश जहां आसानी से कम पैसों में घूम पाएंगे आप

    घूमना-फिरना तो सभी को पसंद है, लेकिन अपने घूमने की इस इच्छा को पूरी करने के लिए आपको समय और धन दोनों ही लगाना पड़ता है। ऐसे में अगर आप कई घूमना चाहें भी तो आपकी जेब आपको इसकी अनुमति नहीं देती। यदि आप गोवा या किसी और जगह भी ट्रिप प्लान करतें हैं, तो वही आपको इतनी मंहगी पड़ जाती है कि फिर आपके मन में विदेश जैसी जगहों पर यात्रा करने का तो कोई सवाल ही नहीं उठता। अपनी व्यस्त लाइफ से परेशान आजकल

  • लोगों को आकर्षित करता है ये दूधिया झरना, आते हैं विदेशी सैलानी

    लोगों को आकर्षित करता है ये दूधिया झरना, आते हैं विदेशी सैलानी

    एमपी के दतिया जिला मुख्यालय से 40 किमी दूर स्थित सनकुआं, धार्मिक स्थल के साथ-साथ पर्यटन का बड़ा केंद्र भी है। यहां बारिश के मौसम में प्राकृतिक सौंदर्य व दूधिया झरना लोगों को बरबस ही अपनी ओर आकर्षित करता है। स्थापत्य कला को प्रदर्शित करती पुरातात्विक महत्व की इमारत, बारहद्वारी, महलबाग एवं कन्हरगढ़ दुर्ग के अंदर मौजूद दरबार हॉल, नंदनंदनजू का मंदिर आदि अनेक रमणीय स्थल हैं। धार्मिक महत

  • देखें यह अनोखी इमारत, जिसमें बिना पंखे ही गर्मी में लगती है सर्दी!

    देखें यह अनोखी इमारत, जिसमें बिना पंखे ही गर्मी में लगती है सर्दी!

    एक इमारत जिसमें 953 खिड़कियां, है न ताज्जुब। यह अनोखी इमारत गुलाबी नगरी जयपुर में है। इस इमारत से जुड़ी कई खूबियों और खूबसूरती के बारे में, जिन पर इठलाता है जयपुर। यह आलीशान इमारत ‘हवामहल’ राजस्थान के प्रतीक के रूप में दुनियाभर में प्रसिद्ध है। इसका निर्माण 1799 में जयपुर के महाराजा सवाई प्रताप सिंह ने करवाया था। इसमें बनाए गए अनगिनत हवादार झरोखों के कारण ही इसका नाम हवामहल पड़ा। इसम

  • सुकून और रोमांच का कॉकटेल है जल महोत्सव...

    सुकून और रोमांच का कॉकटेल है जल महोत्सव...

    जब जल महोत्सव का बुलावा आया तो मैंने हमेशा की तरह गूगल पर जाकर यह जानने की कोशिश की कि यह जल महोत्सव होता कहां है? हनुवंतिया के बारे मे मुझे कुछ ज़्यादा पता नही था सिवाए इसके क&#

  • त्र्यंबक जहां से चलती है गोदावरी

    त्र्यंबक जहां से चलती है गोदावरी

    हमने मंदिर के सामने ही एक गेस्ट हाउस में संपर्क किया। आसानी से दो कमरे मिल गए। फ्रेश होकर सभी दर्शन के लिए निकल पडे। यहां गर्भगृह में, जो कि भूतल से नीचे है, जाकर दर्शन के लिए व&

  • लद्दाख जो है भारत मां की गोद में छुपा हुआ एक अनमोल खज़ाना

    लद्दाख जो है भारत मां की गोद में छुपा हुआ एक अनमोल खज़ाना

    लद्दाख जो है भारत मां की गोद में छुपा हुआ एक अनमोल खज़ाना सुंदरता या खूबसूरती एक तत्त्व है। खूबसूरती जब अपने पूरे उफान पर हो तो ऐसे में खूबसूरती या सुंदरता को परिभाषित करना æ

  • टॉप 5 खूबसूरत एडवेंचर डेस्टिनेशंस जहां एक कपल को अवश्य जाना चाहिए

    टॉप 5 खूबसूरत एडवेंचर डेस्टिनेशंस जहां एक कपल को अवश्य जाना चाहिए

    एक रिश्ते को तभी मज़बूत माना जाता है जब आपके पास एक दूसरे का साथ हो। आप एक दूसरे की भावना को समझ सकें। कहा जा सकता है कि एक दूसरे के साथ को महसूस करने के लिए एक दूसरे की भावना को सë

ताज़ा खबर

Popular Lnks