ठाकुर रणमत सिंह महाविद्यालय छात्र आंदोलन से हिल गई थी मुख्यमंत्री बोरा की कुर्सी..

By Tejnews.com 2021-10-10 द बघेली     

यूं तो आपने कई तरह के आंदोलनों को सुना और देखा होगा लेकिन एक छात्र आंदोलन ऐसा है जो इतिहास के पन्नों में ‘गधा आंदोलन’ के नाम से दर्ज हो चुका है। ऐसा छात्र आंदोलन शायद अब कभी नही होगा, इस अनोखें आंदोलन में 3 हजार से अधिक छात्रों पर लाठियां बरसाई गई थी और 1 महीनें तक छात्र नेता जेल की सलाखों में कैद रहे है। रीवा, शहडोल, जबलपुर सागर संभाग के छात्रों के साथ ही भोपाल तक इसकी गंूज पहुंच गई थी। छात्रों के इस आंदोलन ने प्रदेश सरकार को हिलाकर रख दिया था। आंदोलन के 4 दशक पूरे हो चुके है आइये आपको लेकर चलते है छात्र आंदोलन के अतीत पर जहां से छात्रों की यादें जुडी हुई है...
राजनीति से लेकर शिक्षा जगत में ठाकुर रणमत सिंह महाविद्यालय रीवा की एक मिशाल रही है। छात्र आंदोलनों के इतिहास में ‘गधा आंदोलन’ काला दिवस के रूप में जाना जाता है। जब फीस बढोत्तरी के विरोध में छात्र लामबंद हुये। इस आंदोलन की शुरूआत 16 सितम्बर 1987 से हुई थी। आंदोलन के पहले दिन पुलिस ने कालेज में छात्रों की घेराबंदी कर रखी थी। ठाकुर रणमत सिंह महाविद्यालय के छात्र प्रेसीडेंट अनलपाल सिंह के नेतृत्व में बढी हुई फीस कम करने की मांग को लेकर छात्र आंदोलन पर डटे रहे। पुलिस ने टीआरएस कालेज में छात्र आंदोलन को कुचलने का प्रयास किया। उसी दौरान इंजीनियरिंग कालेज के छात्र शिवबालक चैरसिया के सिर पर पुलिस ने लाठी मार दी और छात्र लहूलुहान हो गया। छात्रों पर हमले की आग पूरे शहर में फैल गई। आंदोलन में छात्रों ने एकजुटता कि मिशाल कायम कर दी। टीआरएस प्रेसीडेंट अनलपाल सिंह, उदय मिश्रा प्रेसीडेंट इंजीनियरिंग कालेज, शहीद अंसारी प्रेसीडेंट जनता महाविद्यालय, राजीव मित्तल प्रसीडेंट अवधेश प्रताप सिंह विश्वविद्यालय, तरूण सिंह, मनीषा शुक्ला प्रेसीडेंट जीडीसी के साथ ही राजेश तिवारी पूर्व प्रेसीडेंट छात्रों के समर्थन में थे। छात्र प्रशासक के आगे झुकने को तैयार नही थे। शहर में तीन दिनों तक यह आंदोलन सफल रहा था। शहर का बाजार बंद था यहां तक की ठेले और गुमटी भी छात्रों के समर्थन में बंद रही। आंदोलन की आग सुलग रही थी। छात्रों ने पूर्व में ही प्रशासन को गधा जुलूस निकालने की सूचना दे रखी थी।
मुख्यमंत्री, गृहमंत्री शिक्षा मंत्री सहित कलेक्टर का निकला गधा जुलूसः-
पूर्व सूचना अनुसार 21 सितम्बर 1987 को टीआरएस में गधा जुलूस का आयोजन किया गया था। जुलूस का आर्कषण मुख्यमंत्री गृहमंत्री, शिक्षामंत्री से लेकर कलेक्टर कमिश्नर और एसपी के नाम वाले गधे थे। गधो के गले में तख्तियां बांधी गई थी और इसमें लिखा था नाम के साथ लिखा गया था ‘मै गधा हूं’। इतना ही नही ठोल बाजे की व्यवस्था की गई थी। छात्र फिल्म प्रतिघात का गाना ‘हमारे बल्मा बेइमान हमें पुटियाने आये है’ बजाते हुये आगे बढे। जुलूस कालेज से होते हुये काॅलेज चैराहे पर इक्कठा था। उसी दौरान सर्किट हाउस में कमिश्नर रीवा संभाग नंे बैठक आयोजित की थी, बैठक में शामिल होने आये कलेक्टर शहडोल की गाडी कालेज के सामने से गुजरी। छात्रों ने गाडी को रोका तो कलेक्टर साहब ने अभद्रता की। इससे छात्र आंदोलित हो गये और देखते ही देखते शांतिपूर्ण जुलूस पथराव में तबदील हो गया। लेकिन सुनियोजित तरीके से कलेक्टर एच.के. मीणा ने पहले ही योजना बना रखी थी और छात्र उस जाल में फंस गये। कलेक्टर ने तानाशाही रवैया अपनाते हुए पुलिस को लाठी चार्ज की अनुमति दे दी। जबकि सिटी मजिस्ट्रेट पी.के श्रीवास्तव लाठीचार्ज के पक्ष में नही थे। पी.के श्रीवास्तव सिटी मजिस्ट्रेट होने से पहले शिक्षक थे और उन्हे छात्रों से हमदर्दी थी। बावजूद इसके कलेक्टर ने छात्रों पर लाठी चार्ज करा दिया। एसपी एच.एस खांन के नेतृत्व वाली पुलिस सारी हदे पार करते हुए छात्रों को बडी बेरहमी से दौडा-दौडा कर पीटा। कलेक्टर ने पहले ही पूरे संभाग की फोर्स बुलकर टीआरएस के मैदान को छावनी मे तबदील कर रखा था। पुलिस ने कालेज में छात्रों को घेर लिया गया और कमरों में घुसकर छात्रों के साथ ही प्रोफेसरों पर लाठियां बरसाई इसमें कई छात्र और प्रोफेसर घायल हुये थे। बताया है कि इस लाठीचार्ज की भगदड में सैकडों छात्रों को चोंटे आई थी इतना ही नही डेढ सैकडो कुर्सी, बेंच, दरवाजे और साइकिले टुटी थी। कालेज में घुसने की अनुमति तक पुलिस के पास नही थी।
विश्वविद्यालय सहित 3 कालेज के प्रेसीडेंट हुये गिरफतारः-
पुलिस ने प्रेसीडेंट अनलपाल सहित अन्य पदाधिकारियों को प्राचार्य के कक्ष से हिरासत में ले लिया था। अनलपाल सिंह, शहीद अंसारी, उदय प्रकाश मिश्रा, रजनीश चतुर्वेदी, राजकुमार शुक्ला, संजय सिंह, गोपाल सिंह, राकेश पाण्डेय, प्रभात पाण्डेय, बलबीर द्विवेदी, सुधाशू झा, राजेश तिवारी, तरूण सिंह, सुबोध पाण्डेय, नरेन्द्र गुप्ता, अखिलेश श्रीवास्तव सहित अन्य छात्रों को गिरफतार कर लिया गया था। शारदा जायसवाल, जावेद अंसारी, राकेश यंगल इसके अलावा छात्र आंदोलन से जुडे छात्रों को पुलिस तलाश रही थी। इस मैनेजमेंट में सिटी कोतवाली थाना प्रभारी सूर्यवली सिंह यादव, हिम्मत सिंह, अखण्ड सिंह, अभिराम सिंह तिवारी जैसे पुलिस अफसर जुटे हुये थे। छात्रों की गतिविधियों की सीआईडी निगरानी कर रही थी।
छात्रों के शरीर पर 87 लाठियों और बूट के मिले थे निशानः-
पुलिस ने छात्रों पर कितनी बर्बरता की थी इसका उदाहरण कालेज और स्कूल के छात्र थे। छात्र घटना के तीसरे दिन न्यायधीश के समक्ष जब छात्र संजय सिंह परिहार के शरीर पर मारी गई लाठियां गिनी गई तो 87 लाठियों के निशान पाये गये थे। वहीं स्कूली छात्र पीयूष सिंह और अनवर इलाही के पीठ में बूट के निशान मिले थे। इससे अंदाजा लगाया जाता कि पुलिस ने कितनी बर्बरता से छात्रों को मारा होगा। पुलिस ने छात्रों के साथ ही प्रोफेसर, पत्रकार और फोटोग्राफर को भी मारा था। छात्रों के अलावा प्रो. श्यामराज सिंह, पीके सरकार, डीआर शाह, आईपी त्रिपाठी, अमीरउल्ला खांन, अजय शंकर पाण्डेय, अमित तिवारी पर पुलिस ने लबडतोड़ लाठी चलाई थी।
महाविद्यालय सहित यूनिर्वसिटी का मिला था समर्थनः-
अवधेश प्रताप सिंह विश्वविद्यालय के कुलपति हीरालाल निगम, ठाकुर रणमत सिंह महाविद्यायल के प्रभारी प्राचार्य के.पी. सिंह छात्रों के साथ थे। इस आंदोलन की आग रीवा जिले से होते हुये सतना शहडोल, जबलपुर, पन्ना, टीकमगढ तक पहुंच गई और सागर भोपाल के छात्रों ने भी आंदोलन का समर्थन कर दिया था। लिहाजा सरकार की नींद हराम हो गई थी। जेल प्रशासन ने गिरफतार छ छात्रों को राजनैतिक बंदी बनाया था और छात्र बंदियों की रिहाई मांग उठा रहे थे। छात्रों से पुलिस और प्रशासन को इतना खौफ हो गया था कि कालेज चैराहे से गुजरने में डरते थे।
जेल में मनी थी छात्रों की दशहरा-दीपावलीः-
आंदोलनरत कई छात्रों को सिटी कोतवाली पुलिस ने गिरफतार कर जेल भेज दिया। अगले दिन मुचलके कई छात्र रिहा हो गये लेकिन कई छात्रों ने आंदोलन को जारी रखा। टीआरएस के तत्कालीन प्रेसीडेंट अनलपाल सिंह बताते है कि जेल अधीक्षक सीडी मदान, पुलिस और प्रशासनिक अधिकारी छात्रों को मैनेज करने में लगे थे। लेकिन 17 छात्र बिना शर्त रिहाई की मांगो को लेकर डटे रहे हुये थे। समाजवादी नेता यमुना प्रसाद शास्त्री और पं. श्रीयुत श्रीनिवास तिवारी, यचुत्तानंद मिश्र, प्रेमलाल मिश्रा, नागेन्द्र सिंह सहित अन्य नेता बंदी छात्रों से मिलने जेल जाते थे और उनका मनोबल बढा रहे थे। लिहाजा तत्कालीन मुख्यमंत्री मोतीलाल बोरा ने छात्रों के आंदोलन को यहीं खत्म करने की गुजारिश की। पूर्व मुख्यमंत्री कुंवर अर्जुन सिंह के इलाके मे छात्र आंदोलन होने से तत्कालीन मुख्यमंत्री घबरा गये थे। इसी वर्ष छात्र संघ के चुनाव शपक्ष ग्रहण समारोह में मुख्यमंत्री कुंवर अर्जुन सिंह शामिल हुये थे। बताया जाता है कि मुख्यमंत्री मोतीलाल बोरा को डर था कि इस आंदोलन से उनकी कुर्सी छिन जायेगी। उन्हे मुख्यमंत्री बने कुछ महीने ही हुये थे। छात्र हित में आंदोलन के सूत्रधार रहे छात्र नेता राजनैतिक बंदी दशहरा-दीपावली का त्यौहार जेल में मनाकर बाहर आयेे।
इनका स्वागत वर्तमान गुढ़ विधायक नागेन्द्र सिंह नें किया था। इस आंदोलन की न्यायिक जांच बैठाई गई थी जिसमें आखिरकार शासन-प्रशासन को दोषी पाया गया था। एक इत्तेफाक है कि आंदोलन की तारीख को ही कुछ बाद छात्रों पर लाठी चार्ज कराने वाले तत्कालीन कलेक्टर मीणा की मौत हो गई। गधा आंदोलन सरीक हुये कई छात्र वर्तमान में कई बडे ओहदों में कार्यरत है कुछ नेता है तो कुछ अफसर और कुछ समाजसेवी। आंदोलन के सूत्रधार छात्रों की लम्बी लिस्ट है उनके नाम लेख में दर्ज करना संभव नही हो पाया हम उनकी भावनाओं का सम्मान करते है।

Similar Post You May Like

  • भक्तिमय, पौराणिक एवं आध्यत्मिक परंपरा को जीवित रखने के लिए 181 वर्षो से निरन्तर चल रही है रामलीला।

    भक्तिमय, पौराणिक एवं आध्यत्मिक परंपरा को जीवित रखने के लिए 181 वर्षो से निरन्तर चल रही है रामलीला।

    रीवा के नृत्व राघव मंदिर में निरंतर 181 सालों से रामलीला का मंचन किया जा रहा है. भक्तिमय, पौराणिक, आध्यत्मिक और धार्मिक परंपरा को जीवित रखने के लिए यह निरन्तर चली आ रही है। दूर-दूर से श्रध्दालु इसे देखने आते है और देर रात तक रामलीला का रसपान करते है। रीवा रियासत के महाराज रघुराज सिंह ने नृत्य राघव मंदिर में रामलीला कि शुरू की थी. प्राचीन नृत्य राघव मंदिर लगभग 450 वर्ष पुराना है यहाँ भगवान

  • जानिये, विन्ध्य के चंदेलों का सिंगरौली फसाद, जो ब्रिटिश गवर्नमेण्ट तक पहुंचा

    जानिये, विन्ध्य के चंदेलों का सिंगरौली फसाद, जो ब्रिटिश गवर्नमेण्ट तक पहुंचा

    विन्ध्य में चंदेल राजाओं की भी बडी स्टेट हुआ करती थी, जो सिंगरौली से लेकर उत्तरप्रदेश के सीमावर्ती इलाके तक फैली थी। यह स्टेट बघेल रियासत के पूर्व-दक्षिण में चंदेलों का 700 मौजा वाला सिंगरौली ताल्लुका रहा था। ब्रिटिश राज के दौरान मिर्जापुर जिला में जुडी हुई सिंगरौली जागीर रही है। इस जागीर के राजा नरेन्द्र सिंह थे, जिन्होने सन 1871 में एजीजी के यहां दावा पेश किये थे कि रीवा दरबार को 9 हजा

  • जानिए कहां बनी रीवा रियासत की उपराजधानी, यहां कैसे बना विश्वनाथ सरोबर:

    जानिए कहां बनी रीवा रियासत की उपराजधानी, यहां कैसे बना विश्वनाथ सरोबर:

    व्हाइट टाइगर के ब्रडिंग सेंटर होने से दुनियाभर में रीवा का गोविन्दगढ सुर्खियों में आया था लेकिन क्या आप जानते है यह रीवा रियासत की उपराजधानी का गौरव हासिल करने वाला इलाका भी है। यहां कि तीन खूबियां प्रसिद्ध है, पहला तो दुनियाभर में चर्चित सफेद बाघ, दूसरा सुन्दरजा आम और तीसरा विश्वनाथ सरोबर। हम बात कर रहे है रीवा जिला मुख्यालय से 20 किलोमीटर दूर गोविन्दगढ कस्बे की, यह इलाका सन 1856 में

  • पेशवा वंशज की 10 हजार सेना के बाद भी 200 राजपूतों ने यशवंत राव का कलम कर दिया था सर

    पेशवा वंशज की 10 हजार सेना के बाद भी 200 राजपूतों ने यशवंत राव का कलम कर दिया था सर

    पेशवा वंशज की 10 हजार सेना के बाद भी 200 राजपूतों ने यशवंत राव का कलम कर दिया था सर, बहुचर्चित नैकहाई युद्ध में कलचुरि और परिहार राजपूतों ने दिलाई थी जीत.. वीरों की पावन जन्मभूमि रीवा में नैकहाई युद्ध् बहुचर्चित है। इस राज्य के वीररत्नों ने जो त्याग और पोरूष दिखाया है उसका इतिहास अमर है। तीन सदियाँ बीत जाने के बाद भी नैकहाई युद्ध की चर्चा आज भी होती है। इस युद्ध को लेकर कई तरह की किंबदंत

  • बघेल रियासत के पहले और आखिरी राजा थे महाराज अमर सिंह जिन्हे प्राप्त थी बादशाह शाहजहाँ से पंचहजारी मनसब..

    बघेल रियासत के पहले और आखिरी राजा थे महाराज अमर सिंह जिन्हे प्राप्त थी बादशाह शाहजहाँ से पंचहजारी मनसब..

    विन्ध्य का एक बडा भू-भाग बघेल रियासत रीवा राज्य में था। महाराज विक्रमादित्य दिल्ली सम्राट जहाँगीर के समकालीन थे। महाराज विक्रमादित्य के आने से पूर्व सन् 1554 में यहाँ एक बस्ती का निर्माण शेरशाह सूरी के पुत्र जलाल खाँ (सलीमशाह) के द्वारा कराया गया था। अपने पिता की मृत्यु का समाचार पाकर जलाल खाँ यहीं से कालिंजर गया था और उसके पश्चात् सलीमशाह के नाम से दिल्ली के सिंघासन पर बैठा था। जलाल

  • बघेली को सशक्त पहचान दिलाई इन्हे कहते है बघेली महाकवि सैफुद्दीन सिद्धीकी सैफू:

    बघेली को सशक्त पहचान दिलाई इन्हे कहते है बघेली महाकवि सैफुद्दीन सिद्धीकी सैफू:

    विन्ध्य की एक ऐसी शख्सियत जिसने कविता, कहानी, पहेलियों और उपन्यास के माध्यम से बघेली को सशक्त पहचान दिलाई। इन्होनें न सिर्फ नए आयाम दिये बल्कि एक सुदृढ काव्य परम्परा भी प्रदान की है। सैफुद्दीन सिद्धीकी सैफू को इसीलिए बघेली का महाकवि कहा जाता है। सैफू का जन्म जुलाई 1923 मेें अमरपाटन तहसील के रामनगर जिला सतना में हुआ था। बाणसागर परियोजना से विस्थापित होने के बाद गढियाटोला सतना मेें ब

  • रीवा स्टेट आर्मी जिसके लेफ्टि. कर्नल थे महाराज सर वेंकटरमण सिंह:

    रीवा स्टेट आर्मी जिसके लेफ्टि. कर्नल थे महाराज सर वेंकटरमण सिंह:

    रीवा स्टेट आर्मी की स्थापना लेफ्टि. कर्नल सर वेंकटरमण सिंह के शासन काल में हुई थी। महाराज सेना में बहुत अधिक रुचि रखते थे। 27 जुलाई 1904 को उन्होंने स्वयं रीवा स्टेट आर्मी के कमाण्डर इन चीफ का पद ग्रहण किया था। इन्होंने रीवा के अलावा सतना, बघऊँ और बान्धवगढ़ में फौजी छावनियाँ स्थापित की थीं। रिसाला, पलटन और तोपखाना को आधुनिक बनाया। फौजियों के प्रशिक्षण की अद्यतन व्यवस्था की गयी थी। पहल

  • जानिये सेंगर राज्य के अतीत की दास्ता, 'मऊ स्टेट' कैसे बन गया मऊगंज:

    जानिये सेंगर राज्य के अतीत की दास्ता, 'मऊ स्टेट' कैसे बन गया मऊगंज:

    अब तक आपने रीवा स्टेट के बारे में पढा सुना है लेकिन रीवा स्टेट से लगी हुई सेंगर राजपूतों की 'मऊ स्टेट' भी थी जिसके बारे में कम लोगों को ही जानकारी है। यह स्टेट सेंगर राजाओं के अधिपत्य में थी और इस राज्य में कई जागीरे भी शामिल थी। मऊ स्टेट बघेलर स्टेट से पुरानी मानी जाती है। बघेली स्टेट के 34 शासको ने राज्य किया जबकि सेंगर रियासत में 51 से अधिक वंशजों ने रियासत चलाई। सेंगर इकलौती रियासत थी

  • बघेलखण्ड में जन्मा था मुगल वंश का बादशाह अकबार:

    बघेलखण्ड में जन्मा था मुगल वंश का बादशाह अकबार:

    आपको जानकर यह हैरानी होगी कि बादशाह अकबर द्वितीय का जन्म बघेलखण्ड में हुआ था। इतना ही नही रियासत के महाराज अजीत सिंह नें बादशाह और उसकी मां को प्रश्रय दिया था। गढी में और बादशाह की हिफाजत की। अब इसी इलाके में दुनिया की इकलौती व्हाइट टाइगर सफारी मौजूद है। जी हां हम बात कर रहे है मुकुदपुर की जहां बादशाह अकबर द्वितीय का जन्म हुआ था। दरअसल जिस समय महाराज अजीत सिंह (सन् 1755-1809) रियासत की गद

  • बघेलखण्ड में बघेलों का अभ्यूदय, व्याघ्रदेव है पितामह

    बघेलखण्ड में बघेलों का अभ्यूदय, व्याघ्रदेव है पितामह

    बघेलखण्ड में ‘‘बघेल राज्य’’ स्थापित होने के पूर्व गुजरात में बघेलों की सार्वभौम्य सत्ता स्थापित हो चुकी थी, जिनकी राजधानी ‘‘अन्हिलवाड़ा’’ थी। बघेल क्षत्रिय चालुक्यों की एक शाखा है, जिन्होंने दक्षिण भारत के चालुक्य क्षत्रियों की एक शाखा के रूप में गुजरात पहुँचकर 960ई. में अन्हिलवाड़ा में सोलंकियों का राज्य स्थापित किया था। रीवा स्टेट गजेटियर में भी यह उल्लेख किया गया है कि, बघेलखण

ताज़ा खबर

Popular Lnks