बघेलखण्ड में बघेलों का अभ्यूदय, व्याघ्रदेव है पितामह

By Tejnews.com 2020-12-09 द बघेली     

बघेलखण्ड में ‘‘बघेल राज्य’’ स्थापित होने के पूर्व गुजरात में बघेलों की सार्वभौम्य सत्ता स्थापित हो चुकी थी, जिनकी राजधानी ‘‘अन्हिलवाड़ा’’ थी। बघेल क्षत्रिय चालुक्यों की एक शाखा है, जिन्होंने दक्षिण भारत के चालुक्य क्षत्रियों की एक शाखा के रूप में गुजरात पहुँचकर 960ई. में अन्हिलवाड़ा में सोलंकियों का राज्य स्थापित किया था। रीवा स्टेट गजेटियर में भी यह उल्लेख किया गया है कि, बघेलखण्ड की रीवा रियासत के नरेश सोलंकी अर्थात् चालुक्य क्षत्रिय की बाघेल शाखा के राजपूत हैं। बघेलों का इस क्षेत्र में आने के पूर्व इनके पूर्वज चालुक्यों और सोलंकियों का दक्षिणी भारत और गुजरात के इतिहास में अत्यन्त महत्वपूर्ण भूमिका रही है। दक्षिण भारत में चालुक्यों का इतिहास छठीं शताब्दी से प्राप्त होता है। दक्षिण भारत के इन्हीं चालुक्य सम्राटों के वंशज गुजरात आये। गुजरात में ‘‘अन्हिलवाड़ा’’ के शासक के रूप में महाराज ‘‘मूलराज’’ ने सन् 960 में चालुक्य क्षत्रियों की सोलंकी शाखा की नींव डाली। इस वंश के प्रतापी नरेश ‘‘जयसिंह सिद्धराज’’ हुए, जिनके कोई सन्तान नहीं थी। इन्होंने अपने नजदीकी सम्बन्धी त्रिभुवनपाल के पुत्र कुमारपाल को अपना उत्तराधिकारी बनाया। कुमारपाल (1143-1173 ई.) ने अपनी मौसी के पुत्र अर्णोराज को ‘‘व्याघ्रपल्ली’’ (बघेला गाँव) का सामन्त बना दिया। अर्णोराज के पुत्र लवण प्रसाद को गुजरात के लेखों में ‘‘व्याघ्रपल्लीय’’ कहा गया है, जो कालान्तर में अप्रभंश के रूप में ‘‘बघेल’’ हो गया। इस तरह व्याघ्रपल्ली गाँव में रहने के कारण अर्णोराज के उत्तराधिकारी ‘‘बघेल’’ कहलाये जाने लगे किन्तु रीवा स्टेट गजेटियर, जीतन सिंह द्वारा लिखित रीवा राज्य दर्पण एवं गुरु राम प्यारे अग्निहोत्री ने रीवा राज्य के इतिहास में लिखा है कि, गुजरात के पाँचवें सोलंकी राजा भीमदेव के चैथे पुत्र सारंगदेव के पुत्र वीर धवल के सुपुत्र का नाम ‘‘बाघराव’’ था। गुजरात के शासक सिद्धराज जय सिंह (1093-1142ई.) ने ‘बाघराव’ को जागीर में व्याघ्रपल्ली (अन्हिलवाड़ा से 10 मील दक्षिण पश्चिम) (‘‘बघेला गाँव) दिया था, जिसके आधार पर बाघराव की संतानें ‘‘बघेल’’ नाम से विख्यात हुई। बाघराव इससे संतुष्ट नहीं थे, उन्होंने यह जागीर सिद्धराज जयसिंह के पुत्रों को देकर गुजरात से प्रस्थान किया। गुजरात के इस सोलंकी वंश का विवरण यहाँ प्रस्तुत किया जा रहा है।

बाघराव को ‘‘बाघदेव’’ भी कहा जाता था, गुजराती में देव का अर्थ ठाकुर होता है। यही बाघदेव दक्षिण सोलंकी सम्वत् 631 यानी सन् 1233-34 में गुजरात से चलकर अनेक तीर्थों का भ्रमण तथा सामाजिक परिस्थितियों का अध्ययन करते हुए चित्रकूट पहुँचे। चित्रकूट में पहुँचकर उन्होंने आसपास के क्षेत्र को देखा। उस समय वहाँ पर कोई सुदृढ़ सत्ता नहीं थी। तरौंहा में चन्द्रावत परिहारों का राज्य था, जिसके राजा मुकुन्ददेव थे। कालिंजर भटों के राज्य के अन्तर्गत था। ‘बाघदेव’, जिन्हें ‘व्याघ्रदेव’ के नाम से सम्बोधित किया जाता है, ने कालिन्जर से 16 मील उत्तर पूर्व की और पहाड़ी पर चन्देलों के रिक्त दुर्ग ‘‘मरफा’’ पर (जो कि समुद्र तल 1240 फुट ऊँचा था) अपना प्रभुत्व स्थापित कर लिया और उन्होंने अपने रक्षार्थ अपने साथ आये हुए लोगों की जो बस्ती बसाई उसका नाम ‘‘बघेलवारी’’ पड़ गया।1 बांदा गजेटियर के अनुसार व्याघ्रदेव का प्रभुत्व इस किले के उत्तर में 15 मील (24 किमी.) ‘‘बघेल भवन’’ और दक्षिण में 15 मील (24 किमी) ‘‘बघेलन नाला’’ तक था। उस समय दिल्ली के सिंहासन पर कोई सुदृढ़ शासक नहीं था और आस पड़ोस के शासकों ने व्याघ्रदेव से किसी प्रकार छेड़-छाड़ नहीं की। परिणाम यह हुआ कि उन्होंने भटदेश के राजा से कालिंजर छीन लिया और साथ ही पड़ोसी मण्डीहा राजा को जीतकर उसका राज्य ले लिया। मण्डीहा रघुवंशी राजा था। गहोरा में लोधियों के राज्य में भी व्याघ्रदेव ने अधिकार कर लिया।

इनका पाश्र्ववर्ती राज्य तरौंहा का था, जिसके शासक मुकुन्ददेव चन्द्रावत परिहार थे। उन्होंने अपनी इकलौती बेटी ‘‘सिन्दूरमती’’ का ब्याह व्याघ्रदेव के साथ कर दिया। इनके दूसरी कोई सन्तान भी न थी, अस्तु अपना राज्य भी इन्हीं को सौंप दिया। व्याघ्रदेव ने इसके पश्चात् परदवाँ और तरिहार प्रान्त भी जीत लिया। इस तरह 13वीं शताब्दी में इस क्षेत्र पर ‘‘बघेल’’ राजपूतों का आधिपत्य हुआ। व्याघ्रदेव का एक विस्तृत भू-भाग में अधिकार हो गया। इन्होंने अपनी राजधानी गहोरा में स्थापित की। गहोरा रीवा पठार के तलहारी क्षेत्र में स्थित था। वर्तमान समय में गहोरा बाँदा-चित्रकूट जिला, उत्तरप्रदेश में स्थित है। कर्बी से 14 मील पूर्व रयपुरा गाँव के निकट उसके दक्षिण में बह रही दो नदियों के मध्य ‘‘गहोरा खास’’ नामक गाँव बसा है। अभयराज सिंह परिहार ने ‘‘गहोरा का ऐतिहासिक अनुसन्धान’’ (पृष्ठ 17) में लिखा है कि, गहोरा का असली नगर नदी के दूसरे किनारे से प्रारंभ होता है, यहाँ महल, मन्दिर, कुएँ तथा नागरिकों की बस्ती के चिन्ह अभी भी पाये जाते हैं। यह हिस्सा अब ‘‘खेरवा’’ नाम से विख्यात है। उस समय इनके शासित प्रान्त की आमदनी अठारह लाख रुपये थी। गहोरा के दो हिस्से थे। एक तो ‘‘गहोराखास’’ और दूसरा ‘‘गहोराघाटी’’ था। व्याघ्रदेव की परिहारिन ठकुराइन से दो पुत्र हुए जिनमें जेठ कर्णदेव गहोरा के अधिकारी हुए और लहुरे पुत्र कन्धरदेव कसौटा और परदमा के ठाकुर हुए। व्याघ्रदेव (बाघराव) इस प्रदेश के बघेलों के आदि पुरुष हैं। जिन्होंने बघेलों की सत्ता इस प्रदेश में स्थापित की। इनका स्वर्गवास वि.सं. 1245 के आसपास हुआ।

Similar Post You May Like

  • रीवा स्टेट आर्मी जिसके लेफ्टि. कर्नल थे महाराज सर वेंकटरमण सिंह:

    रीवा स्टेट आर्मी जिसके लेफ्टि. कर्नल थे महाराज सर वेंकटरमण सिंह:

    रीवा स्टेट आर्मी की स्थापना लेफ्टि. कर्नल सर वेंकटरमण सिंह के शासन काल में हुई थी। महाराज सेना में बहुत अधिक रुचि रखते थे। 27 जुलाई 1904 को उन्होंने स्वयं रीवा स्टेट आर्मी के कमाण्डर इन चीफ का पद ग्रहण किया था। इन्होंने रीवा के अलावा सतना, बघऊँ और बान्धवगढ़ में फौजी छावनियाँ स्थापित की थीं। रिसाला, पलटन और तोपखाना को आधुनिक बनाया। फौजियों के प्रशिक्षण की अद्यतन व्यवस्था की गयी थी। पहल

  • जानिये सेंगर राज्य के अतीत की दास्ता, 'मऊ स्टेट' कैसे बन गया मऊगंज:

    जानिये सेंगर राज्य के अतीत की दास्ता, 'मऊ स्टेट' कैसे बन गया मऊगंज:

    अब तक आपने रीवा स्टेट के बारे में पढा सुना है लेकिन रीवा स्टेट से लगी हुई सेंगर राजपूतों की 'मऊ स्टेट' भी थी जिसके बारे में कम लोगों को ही जानकारी है। यह स्टेट सेंगर राजाओं के अधिपत्य में थी और इस राज्य में कई जागीरे भी शामिल थी। मऊ स्टेट बघेलर स्टेट से पुरानी मानी जाती है। बघेली स्टेट के 34 शासको ने राज्य किया जबकि सेंगर रियासत में 51 से अधिक वंशजों ने रियासत चलाई। सेंगर इकलौती रियासत थी

  • बघेलखण्ड में जन्मा था मुगल वंश का बादशाह अकबार:

    बघेलखण्ड में जन्मा था मुगल वंश का बादशाह अकबार:

    आपको जानकर यह हैरानी होगी कि बादशाह अकबर द्वितीय का जन्म बघेलखण्ड में हुआ था। इतना ही नही रियासत के महाराज अजीत सिंह नें बादशाह और उसकी मां को प्रश्रय दिया था। गढी में और बादशाह की हिफाजत की। अब इसी इलाके में दुनिया की इकलौती व्हाइट टाइगर सफारी मौजूद है। जी हां हम बात कर रहे है मुकुदपुर की जहां बादशाह अकबर द्वितीय का जन्म हुआ था। दरअसल जिस समय महाराज अजीत सिंह (सन् 1755-1809) रियासत की गद

  • आदिशक्ति माॅ भरजुना, करती है भक्तों का बेडापार:

    आदिशक्ति माॅ भरजुना, करती है भक्तों का बेडापार:

    सतना जिला मुख्यालय से महज 10 किलोमीटर दूर माँ भवानी का ऐतिहासिक मंदिर मौजूद है। यहां माॅ आदिशक्ति विराजमान है यह अपने भक्तों का बेडापार करती है, सर्व मनोकामना पूरी करती है और बिगडे काम को बनाती है। मान्यता है यहां आने वाले कभी भी निराश होकर नही लौटते। इसी आस्था और विश्वास के साथ हजारों भक्त माॅ भरहुना के मंदिर में माथा टेकते है। माॅ भरजुना दुर्गा मंदिर निर्माण के बारे में बताया जात

  • महाराजा रघुराज सिंह की महारानी जिनके इनके शरणागत को प्राप्त था अभयदान:

    महाराजा रघुराज सिंह की महारानी जिनके इनके शरणागत को प्राप्त था अभयदान:

    यूं तो रीवा रियासत के महाराज रघुराज सिंह के बारह विवाह हुये थे। लेकिन इन सबमे एक ऐसी महारानी बडी ही स्वाभिमानिनी थीं। इनकी डयौढी में शरणाश्रिय अपराधी से अपराधी व्यक्ति को क्षमादान के लिए महाराज रघुराज सिंह प्रतिज्ञाबद्ध थे। इतना ही नहीं इनकी डयौढी के सामने से सिर खोलकर चलना, छाता लगाना आदि प्रतिबंधित थे। आइये जानते हैं महाराज रघुराज सिंह की प्रमुख महारानी रनावट साहिबा के बारें

  • जन-जागति में मैहर और विजय राघवगढ राजघराने हुये थे तबाह:

    जन-जागति में मैहर और विजय राघवगढ राजघराने हुये थे तबाह:

    मैहर के राजा रघुवीर सिंह 1909-1965 इस समय अल्प व्यस्क थे। इनके संबंधियों और कर्मचारियों ने स्वतंत्रता संग्राम में विशेष रूप से भाग लिया। मैहर राज घराने के विजय राघवगढ के ठाकुर सरजूप्रसाद इस जन जागति के प्रधान थे। इनके नेतत्व में स्वतंत्रता संग्राम के सेनानियों ने अच्छा संगठन किया। इतना ही नही इन लोागों ने दक्षिण की बडी सडक का पूर्ण अवरोध कर दिया और युद्ध की तैयारी में संलग्न हो गये। मै

  • आशु कवि थे महाराज रघुराज सिंह जू देव:

    आशु कवि थे महाराज रघुराज सिंह जू देव:

    रीवा रियासत के महाराज रघुराज सिंह परम वैष्णव भक्त तथा उच्च कोटि के साहित्य सेवी थे। उनके दरवार में कवियों का विशेष मान था। वे स्वयं भी अच्छी कविता करते थे। उनकी रचनाओं का मुख्य विषय था भगवदभक्ति। कवि के रूप में उनका एक विशेष गुण था- आशु रचना अर्थात बिना पहले से तैयारी किये हुये तुरंत कविता बनाने लग जाना। एक समय की बात है जब आप रीवा के प्रसिद्ध मन्दिर लक्ष्मणबाग में निवास कर रहे थे, ए

  • जनिये आखिर कैसे मिली थी तिवारियो को ‘‘अधरजिया तिवारी’’ की पदवी:-

    जनिये आखिर कैसे मिली थी तिवारियो को ‘‘अधरजिया तिवारी’’ की पदवी:-

    बघेलखण्ड में बघेल रियासत का कीर्तिमान स्थापित करने में तिवारियों का अहम स्थान रहा है। बघेल रियासत के अभ्यूदय और विकास के साथ ही रीवा राज्य के तिवारी "अधरजिया तिवारी" कहलाने लगे थे। तिवारी से "अधरजिया तिवारी" की पदवी मिलने के पीछे सौर्य एवं पराक्रम की गाथा जुडी हुई है। इसी से प्रभावित होकर बघेलों के आदिपुरूष ने तिवारियों को "अधरजिया तिवारी" की पदवी मिली थी। इसलिए यह जानना जरूरी है क

  • महाराज मार्तण्ड सिंह नें दिलाई थी दुनिया को व्हाइट टाइगर की पहचान:

    महाराज मार्तण्ड सिंह नें दिलाई थी दुनिया को व्हाइट टाइगर की पहचान:

    बघेल रियासत के 34वें महाराज के महाराज मार्तण्ड सिंह के नाम कई बडी उपलब्धियां रही। राजतंत्र लेकर प्रजातंत्र तक में मार्तण्ड सिंह नें अपनी अनूठी छाप छोडी है। महाराज मार्तण्ड नें दुनिया को जहां व्हाइट टाइगर की पहचान कराई वहीं रिमाही जनता को आजादी के पहली ही 1946 में राजतंत्र से आजाद कर दिया था। गोविन्दगढ़ किला के दरिया महल में 15 मार्च 1923 को मार्तण्ड सिंह का जन्म हुआ था। जब यह समाचार रिमह

  • बघेल रियासत के महाराज भाव सिंह संस्कृत के थे प्रकाण्ड विद्वान:

    बघेल रियासत के महाराज भाव सिंह संस्कृत के थे प्रकाण्ड विद्वान:

    रीवा रियासत के महाराज एक से बढकर एक विद्यान और ज्ञानी थे उसी में से एक है महाराज भाव सिंह। महाराज भाव सिंह की शिक्षा प्राच्य संस्कृत में हुई थी। महाराज भाव सिंह संस्कृत के प्रकाण्ड विद्वान थे। आपका रूझान आध्यात्म और धार्मिकता की तरफ ज्यादा था। इन्होंने ‘‘बघेलवंशवर्णनम्’’ के रचयिता कवि रूपणि शर्मा को राज्याश्रय प्रदान किया था। बालकृष्ण सूरि, किशोर, गोवर्धन बाजपेयी, लालमणि, औपगव

ताज़ा खबर

Popular Lnks