सांची में राज्य स्तरीय सेमीनार का स्कूल शिक्षा मंत्री ने किया शुभारंभ

By Tejnews.com 2020-01-09 PR     

रायसेन: जिले के सांची स्थित होटल गेटवे रिट्रीट में ‘‘अनुसूचित जाति एवं अनुसूचित जनजाति वर्गो के प्रति संवेदनशीलता‘‘ विषय पर पुलिस विभाग द्वारा आयोजित दो दिवसीय राज्य स्तरीय सेमीनार का स्कूल शिक्षा मंत्री डॉ प्रभुराम चौधरी ने शुभारंभ किया। स्कूल शिक्षा मंत्री डॉ चौधरी ने कहा कि अनुसूचित जाति एवं अनूसूचित जनजाति वर्ग की समस्याओं का निराकरण गंभीरता और संवेदनशीलता से किया जाना चाहिए। उन्होंने राज्य स्तरीय सेमीनार के आयोजन की सराहना करते हुए कहा कि इससे लोगों का भरोसा बढ़ेगा। पुलिस विभाग अजाक, एक गरीब व्यक्ति जिसके साथ अत्याचार हुआ है, उसको न्याय दिलाने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता हैं।

स्कूल शिक्षा मंत्री डॉ चौधरी ने कहा कि संविधान में सभी को समानता का अधिकार मिला है तथा आर्थिक और सामाजिक रूप से पिछड़े रहे वर्गो को मुख्य धारा में जोड़ना है। उन्होंने कहा कि जाति विशेष के कारण यदि किसी पर अत्याचार हो रहा है तो उसको रोकना है तथा पीड़ितों को संवेदनशीलता के साथ न्याय दिलाना है। इससे अनुसूचित जाति-जनजाति वर्ग के लोगों का भी भरोसा बढ़ेगा कि अगर उनके साथ अन्याय होता हैं तो शासन उनके साथ है और उन्हें न्याय मिलेगा।
स्कूल शिक्षा मंत्री डॉ. चौधरी ने लोगों को अनुसूचित जाति और जनजाति अधिनियम के बारे में जानकारी होना जरूरी है। अगर लोगों को कानून की जानकारी होगी, तो वह भी कमजोर वर्ग के लोगों के विरूद्ध अत्याचार करने से पहले सोचेंगे। लोगों को पता होगा कि अगर उन्होंने किसी के साथ जाति विशेष के कारण अन्याय किया, तो उनके विरूद्ध कठोर कार्रवाई होगी। उन्होंने कहा कि अनुसूचित जाति और जनजाति वर्ग के लोग पुराने समय में आर्थिक और सामाजिक रूप से पिछड़े रहे। इन सबको समाज की मुख्य धारा से जोड़ने के लिए प्रदेश सरकार प्रतिबद्ध है। इन वर्गो के कल्याण और विकास के लिए निरंतर काम किया जा रहा है। गरीबी रेखा के नीचे जीवन यापन करने वाले लोगों को आगे बढ़ाने के लिए उन्हें रोजगार देने के लिए काम किया जा रहा है। अनुसूचित जाति एवं जनजाति वर्ग के छात्रों को शिक्षा के क्षेत्र में आगे बढ़ने के अवसर उपलब्ध कराए जा रहे हैं।
राज्य स्तरीय सेमीनार में अतिरिक्त पुलिस महानिदेशक अजाक प्रज्ञा ऋचा श्रीवास्तव ने कहा कि संविधान में वंचित वर्ग के लिए जो नियम है, कानून हैं उनको संवेदनशीलता के साथ लागू करना हमारा दायित्व है। उन्होंने कहा कि जाति विशेष के कारण यदि किसी के साथ अत्याचार हो रहा है तो उसको रोकना है तथा पीड़ितों को संवेदनशीलता के साथ न्याय दिलाना है। इस अवसर पर उप पुलिस महानिरीक्षक श्री आईपी अरजरिया, कलेक्टर श्री उमाशंकर भार्गव, पुलिस अधीक्षक श्रीमती मोनिका शुक्ला भी उपस्थित थे। सेमीनार में प्रदेश भर से आए अजाक के पुलिस अधिकारियों को अनुसूचित जाति और जनजाति कानून के बारे में विस्तार से जानकारी दी गई। कार्यक्रम के दौरान बुरहानपुर अजाक थाना प्रभारी श्री केके अग्रवाल को सम्मानित भी किया गया। उल्लेखनीय है कि देश के सर्वश्रेष्ठ तीन थानों में अजाक पुलिस थाना बुरहानपुर भी शामिल है।

Similar Post You May Like

ताज़ा खबर

Popular Lnks