नागरिकता (संशोधन) कानून नहीं है भारत के मुसलमानों के खिलाफ: नितिन गडकरी

By Tejnews.com 2019-12-22 इंडिया     

नागपुर: केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी ने शनिवार को कहा कि नागरिकता (संशोधन) अधिनियम भारत के मुसलमानों के खिलाफ नहीं है। उन्होंने कहा कि नया कानून लाकर राजग सरकार मुसलमानों के साथ कोई नाइंसाफी नहीं कर रही है। गडकरी ने कांग्रेस पर ‘वोट बैंक की राजनीति’ के लिए ‘दुष्प्रचार’ करने का भी आरोप लगाया। वह यहां नये कानून के समर्थन में निकाली गयी रैली को संबोधित कर रहे थे। इस कानून में पाकिस्तान, अफगानिस्तान और बांग्लादेश के उत्पीड़ित अल्पसंख्यकों को नागरिकता देने का प्रावधान है। इस रैली का आयोजन एक स्थानीय संगठन ने किया जिसे भाजपा और राष्ट्रीय स्यवंसेवक संघ का समर्थन प्राप्त है।

नितिन गडकरी ने कहा, ‘‘अफगानिस्तान, पाकिस्तान और बांग्लादेश के धार्मिक अल्पसंख्यकों को इंसाफ देने के लिए सरकार द्वारा लिया गया यह निर्णय भारत के मुसलमानों के खिलाफ नहीं है। हम मुसलमानों को देश से बाहर भेजने की बात नहीं कर रहे हैं।’’ उन्होंने कहा कि सरकार की एकमात्र चिंता देश में रह रहे विदेशी घुसपैठियों की है। मंत्री ने कहा कि मुसलमानों को समझना चाहिए कि कांग्रेस उनके विकास में मदद नहीं कर सकती। उन्होंने कहा, ‘‘उसने (कांग्रेस ने) आपके लिए क्या किया है? मैं देश के मुस्लिम समुदाय से साजिश को समझने का अनुरोध करता हूं। आपका विकास भाजपा ही कर सकती है न कि कांग्रेस।’’


उन्होंने कहा, ‘‘ आप साइकिल रिक्शा चलाते थे, हमने आपको ई-रिक्शा दिया और आपको अपने पैरों पर खड़े होने में मदद दी। कांग्रेस आपको वोट मशीन समझती है ताकि वह उसके बाद शासन कर सके। इस दुष्प्रचार का शिकार न बनें।’’ गडकरी ने कहा, ‘‘हम सभी एक हैं, हमारी धरोहर एक है। आप मस्जिद जाते हैं, हम विरोध नहीं करते। हम सभी साथ रहेंगे और डॉ. बाबासाहब अंबेडकर के संविधान के अनुसार काम करेंगे। यही बात तो हम कह रहे है, नया कुछ कहां कह रहे हैं।’’ उन्होंने कहा कि 1947 से पहले अखंड भारत था, विभाजन के बाद मुहम्मद अली जिन्ना ने पाकिस्तान को मुस्लिम देश घोषित किया। उन्होंने कहा, ‘‘लेकिन हमारे देश में, महात्मा गांधी के नेतृत्व में यह स्वीकार किया गया कि हमारा राष्ट्र हिंदू राष्ट्र नहीं होगा, बल्कि यह अपने देश के सभी समुदायों के लिए धर्मनिरपेक्ष राष्ट्र होगा।’’

गडकरी ने कहा कि लेकिन जब यह तय किया गया था तब महात्मा गांधी से पूछा गया था कि पाकिस्तान जो एक मुस्लिम देश है और वहां 22 फीसद हिंदू, सिख, जैन, पारसी और ईसाई है, यदि उनके साथ नाइंसाफी और उत्पीड़न होगा तो वे कहां जायेंगे। उन्होंने कहा, ‘‘तब गांधीजी ने जवाब दिया था कि पाकिस्तान और अफगानिस्तान के अल्पसंख्यकों को जब कभी सहयोग की जरूरत होगी, भारत उनका सहयोग करेगा।’’ उन्होंने कहा कि संविधान में यह लिखा है कि जब भी पाकिस्तान और अफगानिस्तान के हिंदू, सिख, जैन, पारसी और ईसाई भारत आयेंगे तो उन्हें शरणार्थी समझा जाएगा। गडकरी ने कहा, ‘‘आप पूछेंगे कि क्यों मुसलमानों को शरणार्थी नहीं कहा जाता है। डॉ.बी आर अंबेडकर ने उसे संविधान में स्पष्ट किया।’’

उन्होंने कहा कि पाकिस्तान और बांग्लादेश इस्लामिक राष्ट्र हैं और 100 से 150 ऐसे देश हैं जिन्होंने स्वयं को इस्लामिक या मुस्लिम देश घोषित किया है। उन्होंने कहा कि डॉ.अंबेडकर ने संविधान में कहा कि इन देशों के मुसलमान यदि अपना देश छोड़ते हैं तो उनके पास 100 से 150 विकल्प हैं और वे दुनिया के किसी भी मुस्लिम देश में शरण ले सकते हैं। गडकरी ने कहा, ‘‘लेकिन हिंदुओं, सिखों, भारतीय बौद्धों, ईसाइयों, जैनियों के पास जाने के लिए कोई देश नहीं है। हमारा देश सभी को गले लगाता है।’’

Similar Post You May Like

  • संस्कृति मंत्रालय को हस्तांतरित हो रहा एयर इंडिया का बेशकीमती कला संग्रह, शामिल हैं 2000 से अधिक कलाकृतियां

    संस्कृति मंत्रालय को हस्तांतरित हो रहा एयर इंडिया का बेशकीमती कला संग्रह, शामिल हैं 2000 से अधिक कलाकृतियां

    एयर इंडिया की बिक्री टाटा समूह को किए जाने के बाद उसके बेशकीमती कला संग्रह को संस्कृति मंत्रालय को हस्तांतरित करने की प्रक्रिया चल रही है। कला संग्रह को राष्ट्रीय आधुनिक कला संग्रहालय (एनजीएमए) में प्रदर्शित किए जाने की संभावना है, जिसमें 2,000 से अधिक कलाकृतियां शामिल हैं। एनजीएमए के महानिदेशक (डीजी) अद्वैत गणनायक ने बुधवार को बताया, 'हम पिछले कुछ समय से एयर इंडिया की कलाकृतियों को

  • प्रधानमंत्री ने विभागों में समन्वय न होने के नुकसान गिनाए, बोले- प्रगति पथ पर ले जाएगा

    प्रधानमंत्री ने विभागों में समन्वय न होने के नुकसान गिनाए, बोले- प्रगति पथ पर ले जाएगा

    प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी मल्टी-मोडल कनेक्टिविटी के लिए एक राष्ट्रीय मास्टर प्लान 'पीएम गतिशक्ति' का शुभारंभ किया। पीएम मोदी देश के बुनियादी ढांचे के परिदृश्य के परिवर्तन की दिशा में 100 लाख करोड़ की योजनाओं को हरी झंडी दिखाने के लिए प्रगति मैदान पहुंचे। यह रेल और सड़क सहित 16 मंत्रालयों को जोड़ने वाला डिजिटल प्लेटफार्म है जिसके जरिए लाखों करोड़ों की योजनाओं को पूरी रफ्तार से लाग

  • सरकार जल्द जारी करेगी गाइडलाइन,  2 से 18 साल तक के बच्चों को लग सकेगी कोरोना वैक्सीन

    सरकार जल्द जारी करेगी गाइडलाइन, 2 से 18 साल तक के बच्चों को लग सकेगी कोरोना वैक्सीन

    2 साल से 18 साल के बच्चों को कोवैक्सीन का टीका लगाया जा सकेगा, इसकी मंजूरी मिल गई है। भारत सरकार द्वारा जल्द ही बच्चों के टीकाकरण से संबंधित गाइडलाइन जारी की जाएगी। बता दें कि कोवैक्सीन को भारत बायोटेक और आइसीएमआर ने साथ में तैयार किया है। कोवैक्सीन ट्रायल में 78 फीसद असरदार पाई गई है। आधिकारिक सूत्र ने बताया कि सब्जेक्ट एक्सपर्ट कमेटी (एसईसी) ने डीसीजीआई (ड्रग्स कंट्रोलर जनरल ऑफ इंडि

  • बिजली संकट की आशंका को भी सरकार ने बताया गलत, कहा देश में नहीं है कोयले की कमी..

    बिजली संकट की आशंका को भी सरकार ने बताया गलत, कहा देश में नहीं है कोयले की कमी..

    देश में कोयले की कमी के चलते हर राज्‍य बिजली संकट की आशंका से घिरा हुआ है। इस बारे में दिल्‍ली समेत कुछ अन्‍य राज्‍यों के मुख्‍यमंत्रियों ने पीएम को पत्र लिखकर इस मामले में दखल देने और तुरंत कोयला आपूर्ति को सुनिश्चित कराने की अपील की है। पंजाब के सीएम का कहना है कि उनका राज्‍य पहले से ही पावर कट की समस्‍या से जूझ रहा है। ऐसे में कोयले की कमी से बिजली संकट गहरा सकता है। दिल्‍ली के मुख

  • भारत ने दिया चीन को कड़ा संदेशए पीएलए पर डाली शेष इलाकों से सैन्य वापसी की ज़िम्मेदारी

    भारत ने दिया चीन को कड़ा संदेशए पीएलए पर डाली शेष इलाकों से सैन्य वापसी की ज़िम्मेदारी

    10 अक्टूबर को भारतीय और चीनी सेना के बीच कोर कमांडर स्तर की वार्ता चुशुलू.मोल्डो बार्डर में लद्दाख में तनाव के बाद दोनों देशों के कोर कमांडरों के बीच 13वें दौर की बातचीत संपन्न हुई थी। बावजूद इसके भारत औऱ चीन के बीच पूर्वी लद्दाख में कोर कमांडर स्तर की यह बातचीत बेनतीजा रहीण् इसी बीच भारत ने चीन को दिया कड़ा संदेश दिया है. भारत ने कहा है कि एलएसी के बचे हुए इलाकों से सैन्य वापसी की ज़िम्मे

  • मुस्लिम देशों से मिल रहे समर्थन के कारण कांग्रेस और उसके सहयोगी परेशान: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी

    मुस्लिम देशों से मिल रहे समर्थन के कारण कांग्रेस और उसके सहयोगी परेशान: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी

    नयी दिल्ली: नागरिकता संशोधन कानून के विरोध में देशभर में जारी विरोध प्रदर्शन के बीच प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने रविवार को कहा कि मुस्लिम बहुल देशों में उन्हें मिल रहे जबर्दस्त समर्थन से कांग्रेस और उसके सहयोगी परेशान है और इसीलिए वे भ्रम और अफवाह फैला रहे हैं। मोदी ने विपक्ष पर झूठ फैलाने का आरोप लगाते हुए साफ शब्दों में कहा कि जो लोग कागज-कागज, सर्टिफिकेट-सर्टिफिकेट के नाम पर

  • CAA Protest: दिल्ली, लखनऊ और कोलकाता समेत देश के 20 से ज्यादा शहरों में प्रदर्शन जारी

    CAA Protest: दिल्ली, लखनऊ और कोलकाता समेत देश के 20 से ज्यादा शहरों में प्रदर्शन जारी

    नई दिल्ली: नागरिकता संशोधन कानून के खिलाफ देशभर में प्रदर्शन हो रहे हैं. उत्तर से लेकर दक्षिण और पूर्व से लेकर पश्चिम के राज्यों में इस कानून और एनआरसी के खिलाफ लोग सड़कों पर हैं. इस कारण उत्तर प्रदेश, बिहार, महाराष्ट्र, कर्नाटक, तमिलनाडु, आंन्ध्र प्रदेश, पश्चिम बंगाल जैसे राज्यों के कई बड़े शहरों में धारा 144 लगा दी गई है. इससे पहले गुरुवार को हुए प्रदर्शन ने हिंसक रूप ले लिया. गुरुवार

  • निर्भया गैंगरेप: दोषियों के खिलाफ डेथ वारंट जारी करने पर नहीं हुआ फैसला

    निर्भया गैंगरेप: दोषियों के खिलाफ डेथ वारंट जारी करने पर नहीं हुआ फैसला

    नई दिल्ली: राजधानी दिल्ली के निर्भया गैंगरेप मामले में सभी दोषियों के खिलाफ पटियाला हाउस कोर्ट में डेथ वारंट जारी करने को लेकर फैसला नहीं हो पाया. कोर्ट ने सुनवाई की अगली तारीख 7 जनवरी को तय कर दी है. निर्भया की मां आशा देवी ने दोषियों को जल्द से जल्द फांसी देने की मांग की है. इससे पहले आज सुप्रीम कोर्ट ने अक्षय के वकील एपी सिंह की ओर से तमाम दलील सुनने के बाद अक्षय की पुनर्विचार याचिका

  • प्रधानमंत्री मोदी के गिरने के बाद दोबारा बनाई जाएंगी अटल घाट की सीढ़ियां

    प्रधानमंत्री मोदी के गिरने के बाद दोबारा बनाई जाएंगी अटल घाट की सीढ़ियां

    उत्तर प्रदेश के कानपुर में अटल घाट की सीढ़ियां दोबारा बनाई जाएंगी। असमान ऊंचाइयों के कारण इन सीढ़ियों पर लोगों के गिरने का डर बना रहता है। पिछले सप्ताह नमामि गंगे प्रोजेक्ट की बैठक के लिए कानपुर आए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी इन सीढ़ियों पर गिर गए थे, लेकिन उन्हें तुरंत एसपीजी कर्मी ने संभाल लिया। खंडीय आयुक्त सुधीर एम. बोबडे ने कहा, "घाट पर सिर्फ एक सीढ़ी की ऊंचाई असमान है, जिसे तो

  • नागरिकता संशोधन बिल पास होने का विरोध, असम में छात्र संगठनों ने 12 घंटे का बंद बुलाया

    नागरिकता संशोधन बिल पास होने का विरोध, असम में छात्र संगठनों ने 12 घंटे का बंद बुलाया

    नई दिल्ली: लोकसभा में नागरिकता संशोधन बिल पास होने के बाद इस पर विरोध प्रदर्शन भी होने लगे हैं। असम में कुछ संगठनों ने 12 घंटे का बंद का आह्वान किया है। इनमें कुछ छात्र संगठन भी शामिल हैं। बंद को देखते हुए जगह-जगह सुरक्षा व्यवस्था सख्त की गई है। गुवाहाटी में सुबह के समय ज्यादातर दुकाने बंद है। डिब्रूगढ़ में छात्र संगठनों ने सड़क पर टायर जलाकर अपना रोष दिखाया। बता दें कि नॉर्थ-ईस्ट स्

ताज़ा खबर

Popular Lnks