उन्नाव रेप कांड के दोषी कुलदीप सिंह सेंगर को उम्रकैद की सजा, 25 लाख जुर्माना भी

By Tejnews.com Fri, Dec 20th 2019 उत्तर प्रदेश     

उन्नाव रेप कांड मामले में दोषी और बीजेपी के निष्कासित विधायक कुलदीप सिंह सेंगर को उम्रकैद की सजा सुनाई गई है. अदालत ने उसपर 25 लाख का जुर्माना भी लगाया है. दिल्ली की तीस हजारी कोर्ट ने कुलदीप सेंगर को यह सजा सुनाई है. सेंगर पर आरोप है कि उसने साल 2017 एक नाबालिग लड़की का अपहरण कर उसके साथ रेप की घटना को अंजाम दिया था.

क्या है पूरा मामला?
नाबालिग लड़की ने कुलदीप सेंगर पर बलात्कार का आरोप लगाया था. न्याय की मांग को लेकर आरोप लगाने वाली लड़की ने सीएम योगी के घर के बाहर आत्मदाह की कोशिश की थी. उसी महीने की तीन तारीख को पीड़िता के पिता की जेल में संदिग्ध परिस्थियों में मौत हो गई थी. पीड़िता ने विधायक कुलदीर सेंगर पर जेल में हत्या कराने का आरोप भी लगाया था.

सजा के साथ जुर्माना
दिल्ली की तीस हजारी कोर्ट ने सजा का एलान करते हुए कहा कि 25 लाख रुपये में से 10 लाख रुपये पीड़िता को दिया जाए जबकि बाकी के 15 लाख सरकारी पक्ष को सुनवाई में हुए खर्च के लिए दिया जाए. कोर्ट ने सेंगर को जुर्माना महीने भर के भीतर भरने का निर्देश दिया.

सुप्रीम कोर्ट ने मामला दिल्ली किया था ट्रांसफर
गौरतलब है कि सुप्रीम कोर्ट ने उन्नाव के इस मामले को अगस्त महीने में दिल्ली ट्रांसफर किया था और दिल्ली की तीस हजारी कोर्ट में मामले की रोजाना सुनवाई चल रही थी.

उन्नाव केस की पूरी जानकारी, 11 जून 2017 से अब तक क्या क्या हुआ?

11 जून 2017: पीड़िता गांव के युवक शुभम के साथ गायब हुई, परिवारवालों ने आरोपी शुभम, अवधेश पर केस किया.

21 जून 2017: पीड़िता पुलिस को मिली.

22 जून 2017: पीड़िता ने मजिस्ट्रेट के सामने बयान दिया, पीड़िता ने तीन लोगों पर गैंगरेप का आरोप लगाया. विधायक समर्थक बताए जा रहे तीनों युवकों की गिरफ्तारी हुई.

1 जुलाई 2017: मामले में चार्जशीट दायर हुई.

22 जुलाई 2017: पीड़िता ने पीएम-सीएम को चिट्ठी लिखी, कुलदीप सेंगर पर रेप का आरोप लगाया.

30 अक्टूबर 2017: विधायक समर्थकों ने पीड़िता के परिवार पर मानहानि का केस किया, पीड़िता के घरवालों पर विधायक को रावण बताने वाला पोस्टर लगाने का आरोप.

11 नवंबर 2017: पीड़िता के चाचा पर भी मानहानि का केस.

22 फरवरी 2018: उन्नाव जिला अदालत में अर्जी दी, अर्जी में विधायक पर रेप का आरोप लगाया. आरोपी शुभम की मां पर नौकरी के बहाने विधायक के घर ले जाने का आरोप.

3 अप्रैल 2018: कोर्ट से लौटते वक्त पीड़िता के परिवार पर हमले का आरोप. विधायक के भाई पर बदमाशों के साथ मिलकर पीटने का आरोप लगा. पुलिस ने आरोपियों की जगह पीड़िता के पिता पर आर्म्स एक्ट में केस किया.

4 अप्रैल 2018: डीएम से शिकायत हुई, विधायक समर्थकों पर केस दर्ज हुआ. पुलिस ने विधायक के भाई पर कोई केस नहीं किया.

4 अप्रैल 2018: पीड़िता के पिता को जेल भेज दिया गया.

9 अप्रैल 2018: सुबह पीड़िता के पिता की मौत हो गई. पुलिस ने तब चारों आरोपियों को गिरफ्तार किया. विधायक के भाई का नाम आने पर उसकी भी गिरफ्तारी हुई.

10 अप्रैल 2018: पीड़िता के पिता के पोस्टमार्टम के बाद हत्या की धारा जोड़ी गई. लापरवाही बरतने के आरोप में थाना प्रभारी समेत 6 पुलिसवाले निलंबित किए गए. जांच के लिए एसआईटी का गठन किया गया.

11 अप्रैल 2018: एसआईटी ने मामले की जांच करने पीड़िता के परिवार को लेकर उसके गांव पहुंची और पूछताछ की. हाईकोर्ट ने मामले का संज्ञान लिया.

12 अप्रैल 2018: हाईकोर्ट ने पूरे मामले को सुना, सरकार ने कहा कि विधायक के खिलाफ सबूत नहीं इसलिए गिरफ्तार नहीं कर सकते. केस सीबीआई को ट्रांसफर कर दिया है इसलिए गिरफ्तारी पर फैसला सीबीआई लेगी. हाईकोर्ट ने अगले दिन के फैसला सुरक्षित रखा.

Similar Post You May Like

  • इयरफोन लगाकर चला रहा था स्कूल वैन, ट्रेन से टक्कर में गई 8 बच्चों की जान, 10 साल की सजा

    इयरफोन लगाकर चला रहा था स्कूल वैन, ट्रेन से टक्कर में गई 8 बच्चों की जान, 10 साल की सजा

    भदोही: उत्तर प्रदेश के भदोही में इयरफोन लगाकर स्कूल वैन चला रहे ड्राइवर राशिद खान की लापरवाही के चलते 2016 में 8 बच्चों की जान चली गई थी। इस मामले में अब अदालत का फैसला आ गया है। रिपोर्ट्स के मातबिक, भदोही की एक अदालत ने करीब साढ़े तीन साल पहले मानव रहित क्रॉसिंग पर ट्रेन और स्कूल वैन की टक्कर में 8 बच्चों की मौत के मामले में दोषी चालक को शनिवार को 10 साल की कैद की सजा सुनाई। इसके अलावा ड्राइ

  • प्रदर्शन के दौरान रामपुर में हुआ बवाल, फायरिंग में एक युवक की मौत

    प्रदर्शन के दौरान रामपुर में हुआ बवाल, फायरिंग में एक युवक की मौत

    लखनऊ: नागरिकता कानून के विरोध में आज उत्तर प्रदेश के रामपुर में बवाल हो गया. यहा रामपुर के हाथीखाना चौराहे के पास लोगों ने प्रद्ऱसन किया. प्रशासन ने इसकी इजाजत नहीं दी थी. प्रदर्शनकारियों को जब रोका गया तो भीड़ उग्र हो गई.पथरावाजी शुरू हो गई. जवाब में पुलिस ने भी आंसू गैस के गोले दागे. यहां गुस्साई भीड़ ने कई बाइको में आग लगा दी. पूरे प्रकरण में अभी तक 6 लोग घायल हो चुके हैं,जबकि एक मौत हो

  • सीएम योगी ने कहा- उपद्रवियों की संपत्ति जब्त कर नुकसान की भरपाई की जाएगी

    सीएम योगी ने कहा- उपद्रवियों की संपत्ति जब्त कर नुकसान की भरपाई की जाएगी

    नागरिकता संशोधन कानून के खिलाफ देश भर में प्रदर्शन हो रहे हैं. यूपी भी इससे अछूता नहीं है. राज्य के कई जिलों में हिंसक प्रदर्शन हुआ जिसमें करीब 11 लोगों की जान चली गई. प्रदर्शनकारियों ने जमकर तोड़ फोड़ की और पब्लिक प्रॉपर्टी को नुकसान पहुंचाया. इस मामले को लेकर अब मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने सख्त रुख अपना लिया है. योगी ने ट्वीट कर कहा, ''नागरिकता कानून के मुद्दे पर गुमराह करके लोगों

  • कानपुर में हिंसक भीड़ ने किया पथराव, पुलिस चौकी फूंकी

    कानपुर में हिंसक भीड़ ने किया पथराव, पुलिस चौकी फूंकी

    कानपुर: नागरिकता कानून के खिलाफ कानपुर में हंगामा थमने का नाम नहीं ले रहा. शहर के कई इलाकों में शनिवार को हजारों की संख्या में प्रदर्शनकारी लगातार नारेबाजी कर रहे हैं. परेड यतीमखाना इलाके में हिंसा पर उतारू भीड़ ने पुलिस पर पथराव किया और पुलिस चौकी को आग के हवाले कर दिया. परेड यतीमखाना इलाके में एकत्र प्रदर्शनकारियों ने पुलिस पर पथराव कर दिया. भीड़ को खदेड़ने के लिए पुलिस ने लाठीच

  • यूपी के सीएम योगी आदित्यनाथ ने राम मंदिर के लिए हर परिवार से मांगीं ये 2 चीजें

    यूपी के सीएम योगी आदित्यनाथ ने राम मंदिर के लिए हर परिवार से मांगीं ये 2 चीजें

    यूपी के सीएम योगी आदित्यनाथ ने कहा, राम मंदिर के लिए हर परिवार को 11 रुपये और एक पत्थर का योगदान देना चाहिए रांची: उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने शुक्रवार को एक ऐसा बयान दिया, जो विवाद खड़ा कर सकता है। रिपोर्ट्स के मुताबिक, योगी ने कथित तौर पर कहा कि अयोध्या में भव्य राम मंदिर के निर्माण के हर परिवार को 11 रुपये व एक पत्थर का योगदान देना चाहिए। यह पहली बार है कि मुख्यमंत्

  • फतेहपुर मामले में आया ट्विस्ट, पंचायती फरमान से नाखुश होकर पीड़िता ने लगाई आग

    फतेहपुर मामले में आया ट्विस्ट, पंचायती फरमान से नाखुश होकर पीड़िता ने लगाई आग

    बांदा: उत्तर प्रदेश के फतेहपुर जिले के हुसैनगंज थाना क्षेत्र में शनिवार को 18 साल की लड़की को कथित रूप से दुष्कर्म बाद जिंदा जलाने के मामले में अब नया मोड़ आ गया है और अब तक की पुलिसिया जांच में प्रेम प्रसंग में आये पंचायती फरमान से क्षुब्ध होकर आग लगने की घटना सामने आई है। हालांकि, पुलिस ने पीड़िता के आरोपी चाचा को बलात्कार और हत्या की कोशिश के आरोप शनिवार की शाम ही गिरफ्तार कर लिया है।

  • उन्नाव पीड़िता की कब्र पर प्रशासन द्वारा चबूतरा बनाए जाने का परिजनों ने किया विरोध

    उन्नाव पीड़िता की कब्र पर प्रशासन द्वारा चबूतरा बनाए जाने का परिजनों ने किया विरोध

    उन्‍नाव: जिले के बिहार थाना क्षेत्र में जिंदा जलाई गई दुष्‍कर्म पीड़िता की कब्र पर प्रशासन द्वारा करवाए जा रहे चबूतरे के निर्माण का परिजनों ने विरोध किया और कब्र पर लगाई गई ईंटों को उखाड फेंका। प्रशासन ने सोमवार शाम कब्र पर निर्माण कार्य शुरू कराया था। बिहार थाना प्रभारी विकास पांडेय ने बताया कि परिजनों के विरोध के बाद निर्माण कार्य रूकवा दिया गया है, कब्र पर भी सुरक्षा की व्यवस

  • प्रशासन के मनाने के बाद किया गया पीड़िता का अंतिम संस्कार

    प्रशासन के मनाने के बाद किया गया पीड़िता का अंतिम संस्कार

    उन्नाव: प्रशासन की कोशिश के बाद अब से कुछ देर पहले उन्नाव रेप पीड़िता का अंतिम संस्कार किया गया. इससे पहले पीड़िता के परिवार इस बात की मांग कर रहे थे कि जब तक प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ नहीं आते हैं तब तक पीड़िता का अंतिम संस्कार नहीं किया जाएगा. हालांकि, लखनऊ मंडलायुक्त और अन्य वरिष्ठ पुलिस अधिकारियों की ओर से आश्वासन मिलने के बाद पीड़ित परिवार वाले मान गए. इससे पहले प्रद

  • नहीं बचाई जा सकी उन्नाव रेप पीड़िता, दम तोड़ने से पहले पुलिस को बताया था कैसे आरोपियों ने उसे किया आग के हवाले

    नहीं बचाई जा सकी उन्नाव रेप पीड़िता, दम तोड़ने से पहले पुलिस को बताया था कैसे आरोपियों ने उसे किया आग के हवाले

    उन्नाव की रेप पीड़िता की दिल्ली के सफदरजंग अस्पताल में मौत हो गई है. डॉक्टरों के मुताबिक पीड़िता ने देर रात 11 बजकर 40 मिनट पर आख़िरी सांस ली. बलात्कार के आरोपियों ने उसे ज़िदा जला दिया था. जिसमें वो 90 फ़ीसदी जल गई थी. गुरुवार को उसे बेहतर इलाज के लिए लखनऊ से एयरलिफ़्ट कर दिल्ली के सफ़दरजंग अस्पताल में भर्ती कराया गया था. सफ़दरजंग अस्पताल में पीड़िता के लिए अलग आईसीयू बनाया गया था. जहां डॉक्टरों की

  • योगी सरकार में अब दागियों की पोस्टिंग टेढ़ी खीर

    योगी सरकार में अब दागियों की पोस्टिंग टेढ़ी खीर

    भारत सरकार के बाद अब यूपी में भी दागी अफसरों को प्रमुख पदों पर तैनाती मिलना मुश्किल होने जा रहा है. केन्द्र सरकार की तर्ज पर यूपी सरकार ने भी भ्रष्ट अफसरों पर शिकंजा और नौकरशाही में साफ सुथरी छवि के अफसरों के तैनाती की कवायद तेज कर दी है. शासन ने सतर्कता विभाग से उन अफसरों की सूची तलब की है. जिनके खिलाफ कभी ना कभी विजीलेंस ने जांच की है. यूपी में अब दागी अफसरों की तैनाती की राह मुश्किल

ताज़ा खबर

Popular Lnks