करीब 600 करोड़ रुपये का है खाद्यान्न घोटालाः एसआईटी

By Tejnews.com 2017-10-03 उत्तराखण्ड     

उत्तराखंड में गरीबों के सस्ता खाद्यान्न योजना में एसआईटी की प्रारंभिक जांच में करीब 600 करोड़ का घोटाला सामने आया है. इस घोटाले में कई स्तर पर गंभीर अनियमितताओं के साथ ही गड़बडियां भी पाई गई हैं. सरकार ने इस मामले में आरएफसी कुमाऊं विष्णु सिंह धनिक को बर्खास्त कर जांच रिपोर्ट के हर बिंदु की गहराई से जांच के निर्देश प्रमुख सचिव खाद्य व नागरिक आपूर्ति को दिए हैं.

मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने कहा कि इस घोटाले में चाहे जितना भी बड़ा अधिकारी या नेता शामिल होगा, उसको बख्शा नहीं जाएगा. जरूरत पड़ी तो संबंधित आरोपियों के खिलाफ एफआईआर भी दर्ज कराई जाएगी.

सार्वजनिक वितरण प्रणाली के माध्यम से पहाड़ में भेजे जाने वाले सस्ता खाद्यान्न में गड़बड़ी की शिकायत मिलने पर मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र ने 2 अगस्त, 2017 को एसआईटी से जांच के निर्देश दिए थे. इस पर 4 अगस्त को योजना के तहत चावल मिलर्स से खरीदे गए चावल वितरण में हुई अनियमितताएं की जांच के लिए जिलाधिकारी उधमसिंह नगर की अध्यक्षता में एसआईटी गठित की गई.

इसमें अपर जिलाधिकारी (प्रशासन) जगदीश चंद्र कांडपाल, अपर पुलिस अधीक्षक रुद्रपुर देवेंद्र पींचा, एसडीएम काशीपुर विनीत तोमर व प्रभारी अधिकारी संयुक्त कार्यालय कलेक्ट्रेट काशीपुर युक्ता मिश्र को शामिल किया गया. यह जांच पांच बिंदुओ पर की गई.

1- चावल मिलर्स से खरीदे गए चावल के वितरण में विभागीय व सरकारी अधिकारियों-कर्मचारियों की संलिप्तता. 2- चावल के वितरण में अधिकारी-कर्मचारियों और चावल मिलर्स स्तर से विभिन्न प्रक्रियाओं व प्रावधानों का पालन किया गया या नहीं. 3- प्रकरण में पुलिस विभाग की संलिप्तता की स्थिति. 4- इस प्रकरण में सरकार को राजस्व में हुए नुक़सान का विवरण और दोषी अधिकारी-कार्मिक का विवरण. 5- भविष्य में इस तरह की घटना न हो, इसके संबंध में सुझाव.

जांच के दौरान बाजपुर, काशीपुर, रुद्रपुर, किच्छा के राज्य भंडारण निगम के कार्यालय व गोदाम, वरिष्ठ विपणन अधिकारियों, चावल मिल कार्यालयों, मंडी सचिवों, सहायक निबंधक सहकारी समिति, आरएफसी कार्यालय के विभिन्न अधिकारियों, कर्मचारियों तथा किसान संगठनों के प्रतिनिधियों, राइस मिलर्स के प्रतिनिधियों, धान चावल वितरण में प्रयुक्त वाहन स्वामियों, चालको से पूछताछ से संबंधित बिंदुओं पर गहन चर्चा कर जानकारी हासिल की गई.

इन लोगों के बयान दर्ज किए गए. साथ ही उपलब्ध कराए गए दस्तावेजों का परीक्षण भी किया गया.

जांच में रुद्रपुर राज्य भंडारण निगम के गोदाम संख्या दो में राज्य पोषित योजना के 8,382 बोरे और सीएमआर योजना की 4,318 बोरे (कुल 12,700 बोरे) के सापेक्ष सत्यापन में 10,668 बोरे ही पाए गए.

राज्य पोषित योजना से संबंधित चावल में 3,680 बोरे ऐसे पाए गए, जिनमें अपठनीय दोहरी स्टेनसिल की छाप पाई गई. खाद्यान्न की गुणवत्ता भी घटिया पाई गई. इसी तरह की गड़बड़ियां किच्छा व काशीपुर के गोदामों में पाई गईं.

यहां भी बोरों के सत्यापन में गड़बड़ी मिली. चावल के वितरण भी कई अनियमितताएं पाई गईं. चावल वितरण के लिए आवंटित चालानों को केंद्र बाजपुर से व्यापक स्तर पर बगैर तिथि, बगैर ट्रक नंबर अंकित किए चालान जारी किए गए. कई वाहनों का वास्तविक रूप से गंतव्य स्थल तक नहीं जाना भी पाया गया.

जांच के निष्कर्ष में साफ लिखा गया है कि चावल का मूवमेंट किए जाने के लिए मूवमेंट चालान के प्राविधान की प्रक्रिया का पालन नहीं किया गया.

वरिष्ठ विपणन अधिकारियों ने कहा कि राजनीतिक दबाव में प्रक्रिया का पालन नहीं किया गया. इसकी जानकारी उच्चाधिकारियों को भी थी, लेकिन उन्होंने कोई कदम नहीं उठाए.

धान की खरीद में मिली अनियमितताएं: धान की नीलामी या खुली नीलामी से बोली लगाई जाने की व्यवस्था केवल 5 से 10 फीसदी मामलों में ही अपनाई गई. धान की बड़ी मात्रा जो राइस मिलर द्वारा सीधे काश्तकारों से खरीद ली जाती है, उसकी ख़रीद कच्चा आढ़ती के माध्यम से दिखाई गई जबकि धान मंडी में नीलामी के लिए आया ही नहीं आया.

शासकीय धन की अनुमानित क्षति: 3,07,692 कुंतल चावल खरीद कर राज्य पोषित योजना में आपूर्ति की गई. इसमें 2,310 रुपये प्रति कुंतल की दर से लगभग 71,07,68,520 रुपये का प्रतिवर्ष के हिसाब से पिछले दो साल के दौरान प्रत्यक्ष व अप्रत्यक्ष गलत व्यय संभावित है.

राज्य भर में 3,07,692 कुंतल चावल के वितरण में परिवहन शुल्क को यदि 50 रुपये प्रति कुंतल माना जाए तो इसमें 1,53,84,600 रुपये की सरकारी धन का नुकसान पाया गया. इसी तरह से 60 रुपये प्रति बोरे की दर से 3,69,23,040 रुपये की धनराशि का प्रतिवर्ष के हिसाब से विगत दो साल के दौरान गलत व्यय पाया गया.

50,47,948 कुंतल धान जिले से बाहर यूपी आदि राज्यों के काश्तकारों से खरीद कर जिले की मंडियों में लाया गया. इसे जिले की मंडियों में कच्चा आढ़तियों के माध्यम से खरीद किया हुआ दिखाया गया. कमीशन एजेंटों के माध्यम से चावल की खरीद में नियत प्रक्रिया का पालन नहीं किया गया.

इसी तरह की कई अन्य गड़बड़ियां मिली हैं इससे सरकार को प्रत्यक्ष और अप्रत्यक्ष तौर पर करीब 600 करोड़ के राजस्व नुकसान का आंकलन जांच रिपोर्ट में किया गया है.

Similar Post You May Like

  • ‘जनहित में’ बदले जा रहे हैं हरीश रावत सरकार के फ़ैसले

    ‘जनहित में’ बदले जा रहे हैं हरीश रावत सरकार के फ़ैसले

    त्रिवेन्द्र सरकार ने कांग्रेस सरकार के फैसले पलटने शुरू कर दिए हैं. सरकार समय के हिसाब से पुरानी सरकार के फैसलों को अव्यवहारिक बताते हुए बदलाव कर रही है. नगर निकायों का मामला हो या फिर वन रक्षकों की भर्ती का फैसला राज्य सरकार अब नए सिरे से काम कर रही है. उत्तराखंड सरकार ने शहरी विकास विभाग के तहत पहला बदलाव किया है. नगर निकाय बोर्ड में अब 20 फीसदी से ज्यादा नामित सदस्य नहीं हो सकेंगे. त

  • वा ऊर्जा को नष्ट कर रहा है नशा, इसके खिलाफ़ मुहिम चलाएं

    वा ऊर्जा को नष्ट कर रहा है नशा, इसके खिलाफ़ मुहिम चलाएं

    उत्तराखण्ड विधानसभा अध्यक्ष प्रेमचन्द अग्रवाल ने मुख्य अतिथि के रूप में डीएवी पीजी कॉलेज, देहरादून के छात्र संघ उद्घाटन समारोह का दीप प्रज्जवलित कर शुभारम्भ किया. इस अवसर पर मसूरी के विधायक गणेश जोशी भी उपस्थित थे. उद्घाटन समारोह में विधान सभा अध्यक्ष ने छात्र संघ के नव निर्वाचित पदाधिकारियों को शुभकामना देते हुए कहा कि छात्र राजनीति से निकले नेताओं ने देश की राजनीति के वृहत्त

  • एम्स में फ़ीस वृद्धि के ख़िलाफ़ भूख हड़ताल करेंगे अन्ना हज़ारे के साथी

    एम्स में फ़ीस वृद्धि के ख़िलाफ़ भूख हड़ताल करेंगे अन्ना हज़ारे के साथी

    ऋषिकेश स्थित एम्स में तीन अक्टूबर को अचानक इलाज की दरों में भारी बढ़ोत्तरी कर दी गई थी. इस फ़ैसले के लिए स्थानीय स्तर पर एम्स डायरेक्टर रविकान्त का लगातार विरोध किया जा रहा था लेकिन अब इस विरोध को धार मिल सकती है. लोकपाल आन्दोलन में अन्ना हजारे की टीम के हिस्सा रहे प्रवीन सिंह ने अपने साथियों के साथ एम्स और एम्स निदेशक रविकान्त के फैसले खिलाफ आन्दोलन शुरू करने की तैयारी कर दी है. हाल

  • भ्रष्टाचार की शिकायतों पर स्पेशल ऑडिट करवाएगी त्रिवेंद्र सरकार

    भ्रष्टाचार की शिकायतों पर स्पेशल ऑडिट करवाएगी त्रिवेंद्र सरकार

    उत्तराखंड सरकार भ्रष्टाचार की शिकायतों पर सख्ती बरतने जा रही है. खुद मुख्यमन्त्री ने शिकायतों का संज्ञान लेते हुए अलग-अलग विभागों से जुड़ी शिकायतों के बाद स्पेशल ऑडिट कराने का फैसला किया है. देवभूमि उत्तराखंड में भ्रष्टाचार से जुड़ी शिकायतें कम होने का नाम नहीं ले रही हैं. राज्य गठन के बाद से कई बड़े घोटाले सामने आ चुके हैं और अब भी शिकायतों का सिलसिला थमा नहीं है. मुख्यमन्त्री न

  • केदारनाथ में वीवीआईपी चकाचौंध, केदारघाटी में आपदा से पसरा अंधेरा

    केदारनाथ में वीवीआईपी चकाचौंध, केदारघाटी में आपदा से पसरा अंधेरा

    एक ओर केदारनाथ में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा केदारनाथ के पुनर्निर्माण की परियोजनाओं के लोकार्पण के बाद राजनीति गरमाई हुई है और बीजेपी से लेकर कांग्रेस दोनों पार्टियां आपदा के बाद धाम में हुए पुनर्निर्माण कार्यों का श्रेय लेने की होड़ में लगी हैं. लेकिन धाम से नीचे बसे केदारघाटी के लोग आज भी आपदा का दंश झेल रहे है जिस पर न बीजेपी की और न ही कांग्रेस के राजनेताओं की अभी तक नज़

  • हिमाचल प्रदेश में मोदी की सभा को पीछे छोड़ेगी राहुल की आज की रैली : वीरभद्र सिंह

    हिमाचल प्रदेश में मोदी की सभा को पीछे छोड़ेगी राहुल की आज की रैली : वीरभद्र सिंह

    शिमला: कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी शनिवार को मंडी में एक रैली को संबोधित करेंगे. हिमाचल प्रदेश के मुख्यमंत्री वीरभद्र सिंह ने दावा किया है कि यह रैली प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की बिलासपुर रैली से बड़ी होगी. सिंह ने कहा कि मंत्री, अन्य जन प्रतिनिधि और पार्टी पदाधिकारी रैली में मौजूद रहेंगे. रैली का थीम है - ‘विकास से विजय की ओर.’ उन्होंने कहा कि लोग खुद ही भीड़ देखेंगे. हम बढ़ा च

  • टनकपुर में सेक्स रैकेट का पर्दाफ़ाश, 3 लड़कियां, महिला-पुरुष संचालक गिरफ़्तार

    टनकपुर में सेक्स रैकेट का पर्दाफ़ाश, 3 लड़कियां, महिला-पुरुष संचालक गिरफ़्तार

    टनकपुर में एन्टी ह्यूमन ट्रेफिकिंग सेल ने एक सेक्स रैकेट का भंडाफोड़ किया है. पुलिस ने सेक्स रैकेट सरगना समेत तीन लोगों को गिरफ़्तार करने का दावा किया है. पुलिस के अनुसार खटीमा के सुजिया गांव में सुनीता नाम की महिला जिस्मफ़रोशी का रैकेट चलाती है. इसकी वजह से स्थानीय लोग परेशान थे और कई बार पुलिल से इसकी शिकायत कर चुके थे. एंटी ह्यूमन ट्रैफिकिंग सेल ने रिट्रीट संस्था सहित सामाजिक

  • अब स्वच्छता दिला सकती है कॉलेज को 10 लाख का इनाम

    अब स्वच्छता दिला सकती है कॉलेज को 10 लाख का इनाम

    स्वच्छता केवल बीमारियों से ही नही बचाती बल्कि सम्मान भी दिलाती है और अब तो राज्य में यह लखपति भी बना सकती है. सरकार ने स्वच्छता के प्रति समाज को अधिक जागरूक करने के लिए दस लाख रुपये का इनाम देने की घोषणा की है. डीडब्लूटी कॉलेज में आयोजित वृक्षारोपण और वीरता दीवार का उद्धाटन करने पहुंचे उच्च शिक्षा मंत्री धन सिंह रावत ने यह ऐलान किया है. धन सिंह रावत ने ऐलान किया कि साफ़ सुथरे और अनु

  • आंदोलनकारियों की आकांक्षाओं का प्रदेश बनाने के लिए प्रतिबद्धः सीएम

    आंदोलनकारियों की आकांक्षाओं का प्रदेश बनाने के लिए प्रतिबद्धः सीएम

    मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने सोमवार को शहीद स्थल रामपुर तिराहा मुजफ्फरनगर पहुंच कर उत्तराखंड राज्य आंदोलनकारियों की पुण्य स्मृति में पुष्प अर्पित कर श्रद्धांजलि दी. इस अवसर पर क्षेत्र वासियों का आभार प्रकट करते हुए मुख्यमंत्री ने कहा कि रामपुर तिराहा कांड राज्य आंदोलन को एक ऐसे मोड़ पर ले आया था जिसने तत्कालीन सरकारों को हिलाकर रख दिया था. उस वक्त उत्तराखंडवासियों का स

  • बद्रीनाथ-केदारनाथ ट्रैक रूट पर फंसे लोगों को निकालने के प्रयास जारी

    बद्रीनाथ-केदारनाथ ट्रैक रूट पर फंसे लोगों को निकालने के प्रयास जारी

    बद्रीनाथ से केदारनाथ के बीच रूद्रप्रयाग जिले के बर्फ से ढके पनपतिया क्षेत्र में पिछले चार दिन से ट्रैकर्स के दल फंसा हुआ है. दल को भारतीय वायु सेना के हेलीकॉप्टर की मदद से सुरक्षित बाहर निकालने का प्रयास जारी है. बता दें कि पिछले चार दिनों से फंसे 11 सदस्यीय इस ट्रैकिंग दल में इंडियन ऑयल, दिल्ली सरकार और सीपीडब्लूडी के वरिष्ठ अधिकारी भी शामिल हैं. इंडियन ऑयल के महाप्रबंधक स्तर के ए

ताज़ा खबर

Popular Lnks