‌‌‌‌‌‌‌महाराणा प्रताप

By Tejnews.com 2015-08-21 व्यक्ति-ब्लॉग     

‌‌‌‌‌‌‌महाराणा प्रताप (जन्म- 9 मई, 1540 ई, राजस्थान, कुम्भलगढ़; मृत्यु- 29 जनवरी, 1597 ई.)[1] उदयपुर, मेवाड़ में सिसोदिया राजवंश के राजा थे। वह तिथि धन्य है, जब मेवाड़ की शौर्य-भूमि पर मेवाड़-मुकुट मणि राणा प्रताप का जन्म हुआ। प्रताप का नाम इतिहास में वीरता और दृढ प्रण के लिये अमर है। महाराणा प्रताप की जयंती विक्रमी सम्वत् कॅलण्डर के अनुसार प्रतिवर्ष ज्येष्ठ, शुक्ल पक्ष तृतीया को मनाई जाती है। राजस्थान के कुम्भलगढ़ में प्रताप का जन्म महाराणा उदयसिंह एवं माता राणी जीवत कँवर के घर हुआ था। बप्पा रावल के कुल की अक्षुण्ण कीर्ति की उज्ज्वल पताका, राजपूतों की आन एवं शौर्य का वह पुण्य प्रतीक, राणा साँगा का वह पावन पौत्र (विक्रम संवत 1628 फाल्गुन शुक्ल 15) तारीख़ 1 मार्च सन 1573 ई. को सिंहासनासीन हुआ। शौर्य की मूर्ति प्रताप एकाकी थे। अपनी प्रजा के साथ और एकाकी ही उन्होंने जो धर्म एवं स्वाधीनता के लिये ज्योतिर्मय बलिदान किया, वह विश्व में सदा परतन्त्रता और अधर्म के विरुद्ध संग्राम करने वाले, मानधनी, गौरवशील मानवों के लिये मशाल सिद्ध होगा। 'धर्म रहेगा और पृथ्वी भी रहेगी, (पर) मुग़ल-साम्राज्य एक दिन नष्ट हो जायगा। अत: हे राणा! विश्वम्भर भगवान के भरोसे अपने निश्चय को अटल रखना।' - अब्दुर्रहीम खान-ए-खाना महाराणा का वह निश्चय लोकविश्रुत है - 'भगवान एकलिंग की शपथ है, प्रताप के इस मुख से अकबर तुर्क ही कहलायेगा। मैं शरीर रहते उसकी अधीनता स्वीकार करके उसे बादशाह नहीं कहूँगा। सूर्य जहाँ उगता है, वहाँ पूर्व में ही उगेगा। सूर्य के पश्चिम में उगने के समान प्रताप के मुख से अकबर को बादशाह निकलना असम्भव है। सम्राट अकबर की कूटनीति व्यापक थी। राज्य को जिस प्रकार उन्होंने राजपूत नरेशों से सन्धि एवं वैवाहिक सम्बन्ध द्वारा निर्भय एवं विस्तृत कर लिया था, धर्म के सम्बन्ध में भी वे अपने 'दीन-ए-इलाही' के द्वारा हिन्दू धर्म की श्रद्धा थकित करने के प्रयास में नहीं थे, कहना कठिन है। आज कोई कुछ कहे, किंतु उस युग में सच्ची राष्ट्रीयता थी। हिंदुत्व और उसकी उज्ज्वल ध्वजा, गर्वपूर्वक उठाने वाला एक ही अमर सेनानी था- प्रताप। अकबर का शक्ति सागर इस अरावली के शिखर से व्यर्थ ही टकराता रहा- नहीं झुका। अकबर के महासेनापति राजा मानसिंह, शोलापुर विजय करके लौट रहे थे। उदय सागर पर महाराणा ने उनके स्वागत का प्रबन्ध किया। हिन्दू नरेश के यहाँ भला अतिथि का सत्कार न होता, किंतु महाराणा प्रताप ऐसे राजपूत के साथ बैठकर भोजन कैसे कर सकते थे, जिसकी बुआ मुग़ल अन्त:पुर में हो। मानसिंह को बात समझने में कठिनाई नहीं हुई। अपमान से जले वे दिल्ली पहुँचे। उन्होंने सैन्य सज्जित करके चित्तौड़ पर आक्रमण कर दिया।

Similar Post You May Like

  • एक दिन के मुख्यमंत्री, जो कभी नहीं बन सके PM

    एक दिन के मुख्यमंत्री, जो कभी नहीं बन सके PM

    मध्य प्रदेश का आज स्थापना दिवस है. एक नवंबर 1956 को एक नए राज्य के रूप में आगाज करने वाले इस प्रदेश में कई ऐसी राजनीतिक हस्तियां भी हुई हैं, जिन्होंने देश की राजनीति को लंबे समय तक प्रभावित किया. इन्हीं नेताओं में राज्य के मुख्यमंत्री से केंद्रीय मंत्री तक की कुर्सी तक पहुंचने वाले अर्जुन सिंह भी शामिल थे. भारतीय राजनीति की सबसे चर्चित और विवादित शख्सियतों में अर्जुन सिंह का नाम भी शु

  • पूर्व प्रधानमंत्री डॉक्टर मनमोहन सिंह का प्रोफाइल....

    पूर्व प्रधानमंत्री डॉक्टर मनमोहन सिंह का प्रोफाइल....

    नई दिल्ली: क्या आप जानते हैं कि पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह हिन्दी नहीं पढ़ सकते थे और उनके भाषण उर्दू में लिखे होते थे? आज यानी 26 सितंबर को डॉक्टर मनमोहन सिंह 85 साल के हो गए. 90 के दशक में भारत में आर्थिक सुधारों को लागू करने में इनकी भूमिका दुनिया भर में सम्मान और प्रशंसा पाती रही है. 1932 को जन्मे मनमोहन सिंह तब देश के वित्त मंत्री थे. आइए बेहद शांत, मिलनसार, सौम्य, थिंकर, अर्थशास्त्री औ

  • भारत की पहली महिला डॉक्टर आनंदीबाई की कहानी

    भारत की पहली महिला डॉक्टर आनंदीबाई की कहानी

    क्या आप कल्पना कर सकते हैं कि आज से लगभग 150 साल पहले कोई भारतीय महिला डॉक्टरी की पढ़ाई करे? और वह भी तब जबकि डॉक्टरी की पढ़ाई भारत में न होती रही हो? आज के समाज में भी लड़कियों के प्रति होने वाले भेदभाव के बारे में में हम सबको पता है, फिर 19वीं शताब्दी में क्या होता रहा होगा इसके बारे में सिर्फ अंदाजा ही लगाया जा सकता है। आज हम आपको बता रहे हैं आनंदीबाई जोशी नाम की उस बहादुर महिला के बारे में

  • 92 के हुए भारत रत्न अटल

    92 के हुए भारत रत्न अटल

    25 दिसंबर को भारत रत्न पूर्व अटल बिहारी वाजपेयी 92 वर्ष के हो रहे है. केंद्र सरकार अटल के जन्मदिन को गुड गर्वनेंस डे के तौर पर मना रही है. अटल बिहारी वाजपेयी यूं तो भारतीय राजनीति

  • चक्रवर्ती सम्राट अशोक की कुछ रहस्यमयी बातें जिन्हें शायद ही आप जानते हों

    चक्रवर्ती सम्राट अशोक की कुछ रहस्यमयी बातें जिन्हें शायद ही आप जानते हों

    भारत के इतिहास में 304 ईसापूर्व से 232 ईसापूर्व तक अखंड भारत के राजा रह चुके सम्राट अशोक के बारे में कई ऐसी जानकारियाँ आज भी लोगों को ज्ञात नहीं हैं, जो रहस्य से भरी हैं। अखंड भारत 

  • एक ऐसा महान योद्धा जिसने कभी नहीं मानी थी हार साथ लेकर चलता था 80 किलो का भाला

    एक ऐसा महान योद्धा जिसने कभी नहीं मानी थी हार साथ लेकर चलता था 80 किलो का भाला

    जी हाँ आज हम आपको ऐसे वीर के बारे में बताने जा रहे है जिसके बारे में हर कोई सुन कर गर्व महसूस करता है उस महावीर का नाम है महाराणा प्रताप ! बचपन में या स्कूल में हमने महाराणा प्रê

  • शिवराज सबसे धनी CM

    शिवराज सबसे धनी CM

    शिवराज सिंह चौहान मध्यप्रदेश के वर्तमान मुख्यमंत्री हैं। वे 29 नवंबर, 2005 को बाबूलाल गौर के स्थान पर राज्य के मुख्यमंत्री बने थे। चौहान राज्य में भारतीय जनता पार्टी के महासच

  • जब थम गई बिस्मिल्‍लाह की शहनाई की स्‍वरलहरियां..!

    जब थम गई बिस्मिल्‍लाह की शहनाई की स्‍वरलहरियां..!

    वह गंगा को संगीत सुनाते थे। उनकी आत्‍मा का नाद उनकी शहनाई की स्‍वरलहरियों में गूंजता हुआ हर सुबह बनारस को संगीत के रंग से सराबोर कर देता था। शहनाई उनके कंठ से लगकर नाद ब्रम्

  • महिला सशक्तिकरण की जगी अलख

    महिला सशक्तिकरण की जगी अलख

    महिला हिंसा व दहेज प्रताडना पर हुआ मंचन रीवा। अर्न्तराष्ट्रीय महिला दिवस के अवसर पर डेज सोसायटी और आर्ट प्वाइंट के संयुक्त तत्वाधान में दो दिवसीय कार्यक्रम किया गया। इ

  • डेज बना रही है आदर्श और ऊर्वावान

    डेज बना रही है आदर्श और ऊर्वावान

    रीवा। स्वामी विवेकानंद की जयंती के असवर पर सरस्वती उच्चतर माध्यमिक विद्यालय, चाणक्यपुरी पडरा रीवा में सोमवार को भाषण, गीत और प्रश्नोत्तरी प्रतियोगिता आयोजित हुई। इस का

ताज़ा खबर

Popular Lnks