एमपी के हर जिले में शिवराज के 'जासूस', सीएम को देंगे खुफिया रिपोर्ट

By Tejnews.com 2017-09-12 मध्य प्रदेश     

मध्यप्रदेश में अगले साल विधानसभा चुनाव हैं और बीजेपी चौथी बार सरकार बनाने की तैयारी में है. इसलिए सीएम शिवराज सिंह का अब पूरा ध्यान गुड गवर्नेंस पर है.

सीएम शिवराज सिंह चौहान अब हर जिले में अपना एक जासूस तैनात करने जा रहे हैं जो सीएम सचिवालय को डायरेक्ट फीड बैक देंगे. ये युवा आईआईटी, एनआईटी, टीआईएस जैसे संस्थानों से चुने गए हैं जो जमीनी हकीकत से सीएम को सीधे रुबरू कराएंगे.

दरअसल, मध्यप्रदेश के सीएम शिवराज सिंह चौहान जानना चाहते हैं कि उनकी सरकार की योजनाएं जनता तक किस रुप में पहुंच रहीं हैं और इसका कितना लाभ लोगों को मिल रहा है. इसके लिए सीएम शिवराज सिंह ने आईआईटी, एनआईटी, लॉ ग्रेजुएट्स, टीआईएस जैसे बड़े संस्थानों से पास आउट और डेवलपमेंट के क्षेत्र में काम कर रहे युवाओं की एक टीम तैयार की है जो प्रदेश के जिलों में तैनात रहकर सीएम सचिवालय को डायरेक्ट फीडबैक देगी.

इस कवायद का मकसद प्रदेश में बीजेपी की चौथी बार सरकार बनाने की राह आसान करना है सरकार ने प्रदेश के सभी जिलों में 51 रिसर्च एसोसिएट्स की नियुक्ति की है. जिन्हें सीएम फेलो नाम दिया है.

15 दिन की ट्रेनिंग के बाद 18 सितम्बर को इन्हें आवंटित जिलों में रिपोर्ट करना होगा. फेलो हर महीने सीएम सचिवालय को रिपोर्ट देंगे कि सरकार की योजनाओं की हकीकत क्या है और सरकारी अधिकारी किस तरह जनता के हित में काम कर रहे हैं.

चीफ मिनिस्टर यंग प्रोफशनल्स फॉर डेवलपमेंट प्रोग्राम के तहत एक साल के लिए इनकी नियुक्ति की गई है और इनका साल भर का पैकेज साढ़े पांच लाख से ज्यादा का है.
सीएम शिवराज सिंह ने खुद इन फेलोज से बात की है और कहा है कि मुझे मध्यप्रदेश को जहां ले जाना था वहां हम पहुंच गए, लेकिन शिक्षा और स्वास्थ्य के क्षेत्र में कामकाज से वो कतई संतुष्ट नहीं है. दोनों क्षेत्रों में बहुत ज्यादा काम करने की जरूरत है. इसलिए जिलों में जाकर वे सरकार के कामकाज का मूल्यांकन करें और अपनी रिपोर्ट सीधे सीएम सचिवालय को दें और सीएम की योजनाओं के साथ-साथ प्रधानमंत्री की योजनाओं का भी मूल्यांकन करें. वे खुले मन से सरकार को नये सुझाव और विचार बे-झिझक रुप से दें.

सीएम ने सरकार के 18 विभागों पर जोर दिया है जिनके कामकाज पर कृषि, ग्रामीण विकास, आदिवासी विकास, उद्योग और वाणिज्य, राजस्व, स्कूल शिक्षा, तकनीकी शिक्षा और कौशल विकास, स्वास्थ्य,महिला एवं बाल विकास, ऊर्जा,गृह, पीडब्ल्यूडी, पीएचई, नगरीय प्रशासन, पर्यावरण, वन, परिवहन, जल संरक्षण जैसे विभाग शामिल हैं.

मध्यप्रदेश से पहले पहले गुजरात, महाराष्ट्र, हरियाणा, दिल्ली समेत केंद्र सरकार ने भी ये सिस्टम लागू किया है जिसके अच्छे परिणाम सामने आए हैं. क्योंकि सरकार में बैठे अधिकारी जो रिपोर्ट देते हैं उसमें ऐसा लगता है कि सबकुछ बढ़िया चल रहा है लेकिन जमीनी हकीकत कुछ अलग रहती है.

Similar Post You May Like

  • महिलाओं के लिए सुरक्षित पर्यटन-स्थल परियोजना स्वीकृत

    महिलाओं के लिए सुरक्षित पर्यटन-स्थल परियोजना स्वीकृत

    मध्यप्रदेश टूरिज्म बोर्ड द्वारा पर्यटन स्थलों को ''''महिलाओं के लिये सुरक्षित पर्यटन-स्थल'''''''' के रूप में विकसित करने के लिये निर्भया के प्रस्ताव को एम्पावर्ड कमेटी ने मंजूरी दे दी है। नई दिल्ली में गुरूवार को एम्पावर्ड कमेटी की बैठक में सचिव, पर्यटन श्री फैज अहमद किदवई ने परियोजना संचालन के लिये केन्द्र सरकार महिला एवं बाल विकास से वित्तीय एवं तकनीकी सहयोग के लिये प्रजेंटेशन दिया

  • सिर्फ 34 हजार को मिला रोजगार, कमलनाथ सरकार में चार गुना बढ़े शिक्षित बेरोजगार...

    सिर्फ 34 हजार को मिला रोजगार, कमलनाथ सरकार में चार गुना बढ़े शिक्षित बेरोजगार...

    मध्यप्रदेश में पिछले एक साल में पंजीकृत शिक्षित बेरोजगारों की तादात सात लाख से बढ़कर 28 लाख पहुंच गई है। वहीं, इस दौरान केवल 34 हजार युवाओं को रोजगार मिला है। यह जानकारी मुख्यमंत्री कमलनाथ ने बुधवार को विधानसभा में दी। इकोनॉमिक टाइम्स की खबर के अनुसार, एक वरिष्ठ कांग्रेसी नेता ने बताया कि बेरोजगार युवाओं की तादात और बढ़ सकती है क्योंकि बड़ी संख्या में युवाओ ने नौकरी की आस में पंजीक

  • इंदौर और भोपाल में होगा आईफा अवार्ड-2020, मुख्यमंत्री द्वारा आईफा का प्रस्ताव मंजूर

    इंदौर और भोपाल में होगा आईफा अवार्ड-2020, मुख्यमंत्री द्वारा आईफा का प्रस्ताव मंजूर

    एमपी के मुख्यमंत्री कमलनाथ ने आईफा द्वारा मध्यप्रदेश में अवार्ड समारोह-2020 आयोजित करने के प्रस्ताव को मंजूरी दे दी है. आईफा अवार्ड-2020 भोपाल और इंदौर शहर में आयोजित किया जाएगा. इस आयोजन से मध्यप्रदेश पूरे विश्व के कोने-कोने तक पहुंचेगा. पहला आईफा अवार्ड समारोह वर्ष 2000 में लंदन में आयोजित किया गया था. आईफा अवार्ड से फिल्म जगत की महान हस्ती अमिताभ बच्चन का जुड़ाव मध्यप्रदेश के लिये गौर

  • बंदूक का लाइसेंस चाहिए तो गोशाला को दान करने होंगे 10 कंबल

    बंदूक का लाइसेंस चाहिए तो गोशाला को दान करने होंगे 10 कंबल

    ग्वालियर: मध्य प्रदेश के ग्वालियर में अगर आपको बंदूक का लाइसेंस चाहिए तो आपको अन्य शर्तों के साथ-साथ एक बेहद ही अलग तरह की शर्त पूरी करनी पड़ेगी। ग्वालियर के कलेक्टर अनुराग चौधरी ने एक ट्वीट के जरिए शस्त्र लाइसेंस चाहने वालों को इस शर्त के बारे में बताते हुए कहा है कि उन्हें इसके लिए गोशाला को कम से कम 10 कंबल दान करने होंगे। अनुराग चौधरी इससे पहले लाइसेंस के बदले पौधे लगवाने की शर्त

  • दिल्ली में 'मोहल्ला क्लीनिक' की तर्ज पर CM कमलनाथ ने 'संजीवनी क्लीनिक' का किया उद्घाटन

    दिल्ली में 'मोहल्ला क्लीनिक' की तर्ज पर CM कमलनाथ ने 'संजीवनी क्लीनिक' का किया उद्घाटन

    इंदौर: दिल्ली के मोहल्ला क्लीनिकों की तर्ज पर मध्य प्रदेश सरकार ने संजीवनी क्लीनिक खोलने के महत्वाकांक्षी योजना की शुरुआत शनिवार से की. ये क्लीनिक स्वास्थ्य सेवाओं के विस्तार के तहत कस्बाई और शहरी क्षेत्रों की झुग्गी बस्तियों के पास खोले जा रहे हैं. मुख्यमंत्री कमलनाथ ने इंदौर के निपानिया क्षेत्र में राज्य के पहले संजीवनी क्लीनिक का उद्घाटन किया. उन्होंने कहा, ‘‘स्वास्थ्य सम

  • रेलवे स्टेशन के पास तीन घंटे तक गैंगरेप, पढ़ें- रुह कंपाने वाली FIR के अंश

    रेलवे स्टेशन के पास तीन घंटे तक गैंगरेप, पढ़ें- रुह कंपाने वाली FIR के अंश

    मध्य प्रदेश की राजधानी भोपाल में सिविल सर्विस परीक्षाओं की तैयारी कर रही छात्रा से गैंगरेप का सनसनीखेज मामला सामने आया है. इस मामले में राजधानी पुलिस की बड़ी लापरवाही का भी खुलासा हुआ है. एफआईआर जिसमें भोपाल पुलिस की लापरवाही का जिक्र किया गया है. भोपाल की थाना पुलिस पीड़ित छात्रा और उसके परिजन को एफआईआर दर्ज करने के लिए दिनभर घूमाती रही. पुलिस के अधिकारी और कर्मचारियों ने बार-ब

  • छात्रा ने कैंटीन में किया नाश्ता, फिर स्टूडेंट ने बताई ऐसी बात कि हो गई बीमार

    छात्रा ने कैंटीन में किया नाश्ता, फिर स्टूडेंट ने बताई ऐसी बात कि हो गई बीमार

    मध्य प्रदेश के ग्वालियर में पैरामिलिट्री की ट्रेनिंग में आई एक छात्र की अचानक तबियत बिगड़ने से हड़कंप मच गया. दरअसल, पद्मा विद्यालय में पचास छात्राएं पैरामिलिट्री ट्रेनिंग के लिए पहुंची हैं. शुक्रवार को भिंड निवासी रीता शर्मा नाम की छात्रा की अचानक तबियत बिगड़ गई, जिसे जयारोग्य अस्पताल में भर्ती कराया गया. साथी छात्राओं ने बताया कि रीता ने कैंटीन से समोसा खाया उसके बाद वाटर कू

  • भोपाल गैंगरेपः तीन थाना प्रभारी और दो SI सस्पेंड, सीएसपी को भी हटाया

    भोपाल गैंगरेपः तीन थाना प्रभारी और दो SI सस्पेंड, सीएसपी को भी हटाया

    मध्य प्रदेश के भोपाल में यूपीएससी की तैयारी कर रही छात्रा के साथ गैंगरेप के मामले में लापरवाही बरतने के मामले में पुलिस अफसरों पर गाज गिरी है. मुख्यमंत्री के निर्देश के बाद एक सीएसपी को पीएचक्यू में हटा दिया गया है, जबकि तीन थाना प्रभारियों और दो सब इंस्पेक्टर को सस्पेंड कर दिया गया है. दरअसल, राजधानी को दहला देने वाली घटना में पुलिस की लापरवाही के चलते शिवराज सरकार की काफी किरकिर

  • शिवराज के खिलाफ कब घोषित होगा कांग्रेस का चेहरा, कमलनाथ ने किया खुलासा

    शिवराज के खिलाफ कब घोषित होगा कांग्रेस का चेहरा, कमलनाथ ने किया खुलासा

    वरिष्ठ कांग्रेस नेता कमलनाथ ने कहा कि मध्य प्रदेश में अगले साल होने वाले विधानसभा चुनावों में मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान के खिलाफ कांग्रेस की ओर इस पद के दावेदार की घोषणा सही समय पर की जाएगी. इस बयान से संकेत मिलता है कि सूबे की सत्ता से पार्टी का डेढ़ दशक पुराना वनवास खत्म करने के लिये कांग्रेस किसी चेहरे को मुख्यमंत्री पद के दावेदार के रूप में उतारने के फॉर्मूले पर आगे बढ़ रह

  • भाजपा के मानहानि के दावे पर बोले दिग्विजय, 'एक केस और सही'

    भाजपा के मानहानि के दावे पर बोले दिग्विजय, 'एक केस और सही'

    व्यापम घोटाले के सीबीआई द्वारा मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान को क्लीन चिट मिलने की पृष्ठभूमि में भाजपा की ओर से मानहानि का दावा करने की बात पर कांग्रेस महासचिव दिग्विजय सिंह का कहना है कि उनके खिलाफ पहले से ही मानहानि के कई मामले दर्ज हैं, ऐसे में एक और सही. उल्लेखनीय है कि सीबीआई ने 31 अक्तूबर को भोपाल की विशेष सीबीआई अदालत में अपना आरोप पत्र दाखिल किया. जिसमें उस आरोप को खारिज कर द

ताज़ा खबर

Popular Lnks