क्यों पैदा होते हैं ट्रांसजेंडर (किन्नर)

By Tejnews.com Wed, Sep 6th 2017 अजबगजब     

ट्रांसजेंडर लोग आमतौर वह होते हैं जिन्हें न तो पुरुष और न ही महिला की कैटेगरी में रखा जा सकता है। ट्रांसजेंडर लोगों में पुरुष और महिला दोनों के ही गुण हो सकते हैं। ऊपर से पुरुष दिखाई देने वाले किसी व्यक्ति में इंटरनल ऑर्गन और गुण महिला के हो सकते हैं और ऐसे ही ऊपर से महिला नजर आने वाले किसी व्यक्ति में पुरुषों वाले गुण और ऑर्गन्स हो सकते हैं।

क्यों पैदा होते हैं ट्रांसजेंडर

ट्रांसजेंडर लोग आमतौर वह होते हैं जिन्हें न तो पुरुष और न ही महिला की कैटेगरी में रखा जा सकता है। ट्रांसजेंडर लोगों में पुरुष और महिला दोनों के ही गुण हो सकते हैं। ऊपर से पुरुष दिखाई देने वाले किसी व्यक्ति में इंटरनल ऑर्गन और गुण महिला के हो सकते हैं और ऐसे ही ऊपर से महिला नजर आने वाले किसी व्यक्ति में पुरुषों वाले गुण और ऑर्गन्स हो सकते हैं।

कैसे कोई शिशु बन जाता है ट्रांसजेंडर?
डॉक्टर्स के मुताबिक प्रेग्नेंसी के पहले तीन महीने के दौरान ही शिशु का लिंग बनता है। शिशु के लिंग निर्धारण की प्रोसेस के दौरान ही किसी चोट, टॉक्सिक खान-पान, हॉर्मोनल प्रॉब्लम जैसी किसी वजह से पुरुष या महिला बनने के बजाय दोनों ही लिंगों के ऑर्गन्स या गुण आ जाते हैं। डॉक्टर्स के मुताबिक प्रेग्नेंसी के शुरुआती 3 महीने काफी इम्पोर्टेंट होते हैं और इस दौरान सबसे ज्यादा सावधानी बरती जानी चाहिए। यहां जानिए किसी शिशु के ट्रांसजेंडर बनने के संभावित कारण ।

1. बुखार- प्रेग्नेंसी के शुरूआती 3 महीने में महिला को बुखार आया हो और उसने कोई हेवी मेडिसिन ले ली हो।

2. मेडिसिन्स- प्रेग्नेंसी में महिला ने कोई ऐसी दवा (Teratogenic Drug) ली हो जिससे शिशु को नुकसान हो सकता हो।

3. टॉक्सिक फ़ूड- अगर प्रेग्नेंसी के दौरान महिला ने टॉक्सिक फ़ूड (जैसे केमिकली ट्रीटेड या पेस्टिसाइड्स वाले फ्रूट-वेजिटेबल्स) खाएं हों।

4. एक्सीडेंट या बीमारी- प्रेग्नेंसी के 3 महीने में कोई ऐसा एक्सीडेंट या बीमारी जिससे शिशु के ऑर्गन्स को नुकसान पहुंचा हो।

5. जेनेटिक डिसऑर्डर- 10-15% मामलों में जेनेटिक डिसऑर्डर के कारण भी शिशु के लिंग निर्धारण पर असर पड़ता है।

6. इडियोपैथिक या अज्ञात- ट्रांसजेंडर बच्चे पैदा होने के अधिकांश मामले इडियोपैथिक होते हैं यानि इनके कारणों का पता नहीं चल पाता।

7. अबॉर्शन की दवा- अगर महिला ने बगैर डॉक्टरी सलाह लिए अपने मन से अबॉर्शन की दवा या घरेलू उपाय आजमाएं हो।

प्रेग्नेंसी में रखें ये सावधानी
1. बगैर डॉक्टर की सलाह से कोई भी दवा न खाएं। बुखार या दर्द जैसी आम तकलीफ के लिए भी नहीं।

2. हेल्दी डाइट लें। किसी भी तरह के टॉक्सिक फ़ूड या ड्रिंक लेना बिलकुल अवॉइड करें।

3. थाइरॉइड प्रॉब्लम, डायबिटीज़, मिर्गी जैसी बीमारियों में डॉक्टर की सलाह के बाद ही प्रेग्नेंसी प्लान करें।

4. प्रेग्नेंसी के शुरूआती 3 महीनों में बुखार या कोई दूसरी तकलीफ को भी सीरियसली लेकर डॉक्टर को दिखाएं।

5. प्रेग्नेंसी के दौरान शराब, सिगरेट या नशीले पदार्थों का सेवन बिलकुल न करें। नींद की दवा भी पूछकर ही लें।

किन्नर समुदाय समाज से अलग ही रहता है और इसी कारण आम लोगों में उनके जीवन और रहन-सहन को जानने की जिज्ञासा बनी रहती है। किन्नरों का वर्णन ग्रंथों में भी मिलता है। यहां जानिए किन्नर समुदाय से जुड़ी कुछ खास बातें…

किन्नरों से जुड़े 20 रोचक तथ्य :

1. ज्योतिष के अनुसार वीर्य की अधिकता से पुरुष (पुत्र) उतपन्न होता है। रक्त (रज) की अधिकता से स्त्री (कन्या) उतपन्न होती है। वीर्य और राज़ समान हो तो किन्नर संतान उतपन्न होती है।

2. महाभारत में जब पांडव एक वर्ष का अज्ञात वास काट रहे थे, तब अर्जुन एक वर्ष तक किन्नर वृहन्नला बनकर रहा था।

3. पुराने समय में भी किन्नर राजा-महाराजाओं के यहां नाचना-गाना करके अपनी जीविका चलाते थे। महाभारत में वृहन्नला (अर्जुन) ने उत्तरा को नृत्य और गायन की शिक्षा दी थी।

4. किन्नर की दुआएं किसी भी व्यक्ति के बुरे समय को दूर कर सकती हैं। धन लाभ चाहते है तो किसी किन्नर से एक सिक्का लेकर पर्स में रखे।

5. एक मान्यता है कि ब्रह्माजी की छाया से किन्नरों की उत्पत्ति हुई है। दूसरी मान्यता यह है कि अरिष्टा और कश्यप ऋषि से किन्नरों की उतपत्ति हुई है।

6. पुरानी मान्यताओं के अनुसार शिखंडी को किन्नर ही माना गया है। शिखंडी की वजह से ही अर्जुन ने भीष्म को युद्ध में हरा दिया था।

7. यदि कुंडली में बुध गृह कमजोर हो तो किसी किन्नर को हरे रंग की चूड़ियां व साडी दान करनी चाहिए। इससे लाभ होता है।

8. किसी नए वयक्ति को किन्नर समाज में शामिल करने के भी नियम है। इसके लिए कई रीती-रिवाज़ है, जिनका पालन किया जाता है। नए किन्नर को शामिल करने से पहले नाच-गाना और सामूहिक भोज होता है।

9. फिलहाल देश में किन्नरों की चार देवियां हैं।

10. कुंडली में बुध, शनि, शुक्र और केतु के अशुभ योगों से व्यक्ति किन्नर या नपुंसक हो सकता है।

11. किसी किन्नर की मृत्यु के बाद उसका अंतिम संस्कार बहुत ही गुप्त तरीके से किया जाता है।

12. किन्नरों की जब मौत होती है तो उसे किसी गैर किन्नर को नहीं दिखाया जाता। ऐसा माना जाता है कि ऐसा करने से मरने वाला अगले जन्म में भी किन्नर ही पैदा होगा। किन्नर मुर्दे को जलाते नहीं बल्कि दफनाते हैं.

13. हिंजड़ों की शव यात्राएं रात्रि को निकाली जाती है। शव यात्रा को उठाने से पूर्व जूतों-चप्पलों से पीटा जाता है।किन्नर के मरने उपरांत पूरा हिंजड़ा समुदाय एक सप्ताह तक भूखा रहता है।

14. किन्नर समुदाय में गुरू शिष्य जैसे प्राचीन परम्परा आज भी यथावत बनी हुई है। किन्नर समुदाय के सदस्य स्वयं को मंगल मुखी कहते है क्योंकि ये सिर्फ मांगलिक कार्यो में ही हिस्सा लेते हैं मातम में नहीं ।

15. किन्नर समाज कि सबसे बड़ी विशेषता है मरने के बाद यह मातम नहीं मनाते हैं। किन्नर समाज में मान्यता है कि मरने के बाद इस नर्क रूपी जीवन से छुटकारा मिल जाता है। इसीलिए मरने के बाद हम खुशी मानते हैं । ये लोग स्वंय के पैसो से कई दान कार्य भी करवाते है ताकि पुन: उन्हें इस रूप में पैदा ना होना पड़े।

16. देश में हर साल किन्नरों की संख्या में 40-50 हजार की वृद्धि होती है। देशभर के तमाम किन्नरों में से 90 फीसद ऐसे होते हैं जिन्हें बनाया जाता है। समय के साथ किन्नर बिरादरी में वो लोग भी शामिल होते चले गए जो जनाना भाव रखते हैं।

17. किन्नरों की दुनिया का एक खौफनाक सच यह भी है कि यह समाज ऐसे लड़कों की तलाश में रहता है जो खूबसूरत हो, जिसकी चाल-ढाल थोड़ी कोमल हो और जो ऊंचा उठने के ख्वाब देखता हो। यह समुदाय उससे नजदीकी बढ़ाता है और फिर समय आते ही उसे बधिया कर दिया जाता है। बधिया, यानी उसके शरीर के हिस्से के उस अंग को काट देना, जिसके बाद वह कभी लड़का नहीं रहता।

18. अब देश में मौजूद पचास लाख से भी ज्यादा किन्नरों को तीसरे दर्जे में शामिल कर लिया गया है। अपने इस हक के लिए किन्नर बिरादरी वर्षों से लड़ाई लड़ रही थी। 1871 से पहले तक भारत में किन्नरों को ट्रांसजेंडर का अधिकार मिला हुआ था। मगर 1871 में अंग्रेजों ने किन्नरों को क्रिमिनल ट्राइब्स यानी जरायमपेशा जनजाति की श्रेणी में डाल दिया था। बाद में आजाद हिंदुस्तान का जब नया संविधान बना तो 1951 में किन्नरों को क्रिमिनल ट्राइब्स से निकाल दिया गया। मगर उन्हें उनका हक तब भी नहीं मिला था।

19. आमतौर पर सिंहस्थ में 13 अखाड़े शामिल होते हैं, लेकिन इस बार एक नया अखाड़ा और बना है। ये अखाड़ा है किन्नर अखाड़ा। किन्नर अखाड़े को लेकर समय-समय पर विवाद होते रहे हैं। इस अखाड़े का मुख्य उद्देश्य किन्नरों को भी समाज में समानता का अधिकार दिलवाना है।

20. किन्नर अपने आराध्य देव अरावन से साल में एक बार विवाह करते है। हालांकि यह विवाह मात्र एक दिन के लिए होता है। अगले दिन अरावन देवता की मौत के साथ ही उनका वैवाहिक जीवन खत्म हो जाता है। अब सवाल यह उठता है की अरावन है कौन, किन्नर उनसे क्यों शादी रचाते है और यह शादी मात्र एक दिन के लिए ही क्यों होती है ?

Similar Post You May Like

  • भारत में है एक कंपनी, जहां चपरासी से लेकर अधिकारी हैं करोड़पति!

    भारत में है एक कंपनी, जहां चपरासी से लेकर अधिकारी हैं करोड़पति!

    नई दिल्ली: गुड्ज एंड सर्विसेज टैक्स (GST) की खबरों से अगर आप ऊब गए हैं तो ये खबर आपको थोड़ा सूकुन दे सकती है. भारत में एक ऐसी कंपनी है जहां कर्मचारियों की सैलरी 10 से 20 हजार रुपए के बीच है, लेकिन सभी करोड़पति हैं. यह बात आपको थोड़ी अटपटी लग सकती है लेकिन यह सौ फीसदी सच है. मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक यह अनोखी कंपनी रविराज फोइल्स लिमिटेड गुजरात स्थित अहमदाबाद के साणंद में है. दिलचस्प बात यह है

  • मुकेश अंबानी के ड्राइवर की सैलरी सुन आप के भी उड़ जाएंगे होश, सोशल मीडिया पर वायरल

    मुकेश अंबानी के ड्राइवर की सैलरी सुन आप के भी उड़ जाएंगे होश, सोशल मीडिया पर वायरल

    मुकेश अंबानी एक ऐसा नाम है जिन्होंने लगातर मेहनत अपने नाम का लोहा मनवाया है मुकेश अंबानी की गिनती देश ही नहीं बल्कि पूरी विश्व के सबसे अमीर व्यक्तियों में की जाती है. इनका घर भी दुनिया के सबसे आलीशान और महंगे घरों की लिस्ट में शुमार है. मुकेश अंबानी के पास हेलीकॉप्टर होने के साथ ही 500 से भी अधिक गाड़ियां है. हम इनके घर को स्वर्ग कह सकते है क्यों की इनका घर सभी सुख सुविधाओं से भरपूर है. अ

  • एक दिन में लाखों रुपये कमा लेता है ये 6 साल का बच्चा, जानिए कैसे

    एक दिन में लाखों रुपये कमा लेता है ये 6 साल का बच्चा, जानिए कैसे

    कहते हैं “पूत के पांव पालने में ही दिख जाते हैं” और इस कहावत को सच कर दिखाया है एक 6 साल के बच्चें ने.. जी हां, जिस उम्र में बच्चे खेलना-कूदना सीखते है उस उम्र में इस छोटे से बच्चे ने बड़ा कारनामा कर दिखाया. यह बच्चा नन्ही उम्र में लाखों रुपए कमा रहा है. शायद आपको हमारी बातों पर विश्वास नही हो रहा है, तो आइए आप स्वय ही जान लिजिए इस छोटे से बच्चे के बड़े कारनामे को. केरल के कोच्चि का रहने वाले न

  • पूरी जिंदगी एक ही पार्टनर के साथ रहते हैं ये जानवर, कभी नहीं देते धोखा

    पूरी जिंदगी एक ही पार्टनर के साथ रहते हैं ये जानवर, कभी नहीं देते धोखा

    आज कल कई ऐसी खबरें आती हैं जिसमें इंसान अपने पार्टनर को धोखा देता है. देखा जाए तो ये एक आम बात हो गई है. ऐसे में अगर हम आपसे कहें कि दुनिया में कुछ ऐसे पक्षी और जानवर भी मौजूद हैं, जो जिंदगी भर एक ही पार्टनर के साथ रहते हैं तो? पार्टनर की मौत के बाद भी नहीं ढूंढते दूसरा पार्टनर. आज वर्ल्ड एनिमल डे है. इस मौके पर हम आपको बताने जा रहे हैं ऐसे जानवरों के बारे में जो हमेशा अपने पार्टनर के लिए वफाद

  • इस स्वघोषित देश में रहते हैं महज 33 लोग

    इस स्वघोषित देश में रहते हैं महज 33 लोग

    किसी भी देश में कोई नेता या जनप्रतिनिधी कहीं दौरे पर जाता है तो उसके साथ पूरा लंबा-चौड़ा काफिला चलता है. इसमें सुरक्षा वाले और उनके अन्य लोग शामिल रहते हैं. वहीं इस दुनिया में एक देश ऐसा भी है जहां के राष्ट्रपति सड़कों पर बिना किसी सुरक्षा तामझाम के घूमते हैं. इससे भी आश्चर्यजनक जो जानकारी है वो है उस देश की जनसंख्या. जी हां, उस देश की आबादी महज कुल 33 लोगों की है. इनमें वो 4 कुत्ते भी शामि

  • इस आइलैंड पर नहीं है मरने की इजाजत

    इस आइलैंड पर नहीं है मरने की इजाजत

    पाबंदी एक शब्द है, जिसको सुनते ही इंसान ये सोचने लगता है किस पर, कब और कहां. जी हां, कई देशों में कई तरह की पाबंदियों के बारे में हम सब ने सुना है, मगर क्या आप जानते हैं इस दुनिया में एक ऐसा आइलैंड हैं, जहां इंसानों के मरने पर भी पाबंदी लगी हुई है. जबकि वो इंसान कोई बाहरी नहीं बल्कि उसी आइलैंड के निवासी होते हैं. मतलब यह कि इस आइलैंड पर कोई अपनी आखिरी सांस नहीं ले सकता है. नॉर्वे के छोटे से शह

  • ये जनाब 14 साल की उम्र में पढ़ाते हैं गणित

    ये जनाब 14 साल की उम्र में पढ़ाते हैं गणित

    कुछ बच्चे अपनी प्रतिभा के बल पर अपनी पहचान गढ़ते हैं. ऐसे ही हैं याशा एस्ले. 14 साल की उम्र में वो इंग्लैंड की लीसेस्टर यूनिवर्सिटी में गणित काे प्रोफेसर बने हैं. खबरों के मुताबिक याशा को यूनिवर्सिटी में गणित पढ़ने और पढ़ाने वाले सबसे कम उम्र के प्रोफेसर बने हैं. गणित में अविश्वसनीय ज्ञान देख उसके परिजन उसे मानव कैल्कुलेटर कहते हैं. याशा के पिता मूसा एस्ले रोजाना उसे कार से यूनिवर्स

  • यहां लगती है दूल्हों की बोली

    यहां लगती है दूल्हों की बोली

    साल 1982 में फिल्म निर्माता ताहिक हुसैन ने एक फिल्म बनाई, जिसका नाम था “दूल्हा बिकता है”. ये फिल्म जब सिनेमाघर में पहुंची तो लोगों को विश्वास ही नहीं हुआ कि भारत में ऐसा भी होता है. इसी तरह कालांतर में दूल्हों के बिकने पर कई फिल्में बनीं, लेकिन क्या आपको पता है कि भारत में दूल्हे बिकते हैं. जी हां, ये बात सौ फीसदी सही है. दूल्हों की सौदेबाजी होती है बिहार के मिथिलांचल यानी मधुबनी जिले मे

  • 90 साल में बनकर तैयार हुई थी दुनिया की सबसे बड़ी गौतम बुद्ध की मूर्ति

    90 साल में बनकर तैयार हुई थी दुनिया की सबसे बड़ी गौतम बुद्ध की मूर्ति

    दुनिया में कई तरह की धारणा सदियों से चलती आ रही है. जिनके पीछे कोई वैज्ञानिक तर्क न होने पर भी लोग पीढ़ियों तक इसे मानते आ रहे हैं. जैसे हमारे यहां कहा जाता है कि सुबह-सुबह अपने किसी प्रियजन का चेहरा देखना चाहिए, जिससे कि हमारा पूरा दिन अच्छा गुजर सके. इसी तरह चीन के लेशान में स्थित महात्मा बुद्ध की विशाल प्रतिमा को देखकर, लोग अपने नए साल की शुरूआत करते हैं. इनकी मान्यता है कि नए साल की शु

  • शंगचुल महादेव मंदिर – घर से भागे प्रेमियों को मिलता है यहां आश्रय

    शंगचुल महादेव मंदिर – घर से भागे प्रेमियों को मिलता है यहां आश्रय

    हिमाचल प्रदेश जितना अपनी प्राकृतिक सुंदरता के कारण जाना जाता है उतना ही यहां की परंपराओं के कारण भी। आज हम आपको बता रहा है कुल्लू के शांघड़ गांव के देवता शंगचूल महादेव के बारे में जो घर से भागे प्रेमी जोड़ों को शरण देते हैं। पांडव कालीन शांघड़ गांव में कई ऐतिहासिक धरोहरें हैं। इन्ही में से एक हैं यहां का शंगचुल महादेव मंदिर। शंगचूल महादेव की सीमा में किसी भी जाति के प्रेमी युगल अगर

ताज़ा खबर

Popular Lnks