यौन दुर्बलता

By Tejnews.com Tue, Jan 28th 2014     

खाद्य पदार्थो में मिलावट, प्रदूषित वातावरण और नशे की प्रवृत्ति से लगातार पुरूषो में यौन (सैक्स) दुर्बलता बढ रही है एक सर्वे के अनुसार 50 प्रतिशत पुरूष यौन दुर्बलता से जूझ रहे है। यौन संम्बंधी दुर्बलता, वीर्यस्खलन, शारीरिक कमजोरी, अत्याधिक उत्तेजना, तंत्रिका संबंधी थकान से पुरूषार्थ में कमी आ रही है। बाजार मंे ऐसी कई कामोतेजक दवाएं प्रचलन मे आ गई है जिनके सेवन से कई गंभीर बीमारियों से शरीर ग्रसित हो जाता है और यौन संबंधी बीमारियां जटिल हो रही है। इसके पीछे वजह यह देखने को मिली है कि एक पुरूष ऐसी बीमारियों को चिकित्सकों से बांटने में कटरा रहे है और दूसरी समस्या यह भी है कि अच्छे चिकित्सक मरीजों को नही मिल रहे जबकि नीम हकीम अपनी दुकानदारी चलने मे लगे हुये है। होमियोपैथिक चिकित्सा ही एक ऐसा साधन है जो विषहीन कोशिका तंत्रों ताकत पैदा करता है कुछ दवाये निम्नानुसार है जो चिकित्सीय परार्मश के बाद ली जा सकती है। एसिड फाॅस्टः नपुंसकता, कामोत्तेजना की कमी को दूर करने वाली एक बलवर्धक औषधि है, एग्नस काॅस्टसः नपुंसकता एवं कामोत्तेजना की कमी में विशेष रूप से प्रभावी। उच्च प्रभावशीलता के साथ यौन सम्बंधी जीवन पर विशिष्ट क्रिया। चायनाः अत्याधिक संभाग किये जाने के फलस्वरूप शारीरिक द्रव्यों की कमी हो जाने की अवस्था मे तथा कमजोरी लाने वाले रोगों के बाद लैगिक गड़बड़ियों होने की स्थिति मे विशेष रूप से प्रभावी सिद्ध होती है। कोनियमः क्रोध युक्त चिड़िचिड़ापन, एकाग्रता को आभाव, रोगभ्रम, विशेषकर लैगिक आधार पर तथा बुढापें की कमजोरी मे। डामियानाः प्रजनन संबंधली अंगों की शक्ति देता है। सीपियाः समस्य कोशिका संबंधी क्रियाओ की दुर्बलता थकान, अरूचि, संभाग की अनिच्छा की स्थितियां मे कार्य करती है। खुराग की मात्रा- सामान्यतः प्रतिदिन 2-3 बार, भोजन के पूर्व थोडे पानी मे 15 बूंद पुराने रोग मे और शीघ्र परिणाम पाने के लिए 2-3 दिनो तक 10-15 बूंदे प्रत्येक 1-2 घंटे पर ले सकते है। इसके अलावा एलोपैथिक दवाएं भी बाजार मे उपलब्ध है जिसमे हिमालय ग्रुप कम्पनी की टेन्टेक्स फोर्ट, न्यू, स्पेमन, स्पेमन फोर्ट प्रमुख है। इनका सेवन चिकित्सक की परामर्श से लें।

Similar Post You May Like

  •  जानलेवा हो सकती हैं गर्भ निरोधक गोलियां

    जानलेवा हो सकती हैं गर्भ निरोधक गोलियां

    किशोर लड़कियों के लिए गर्भ निरोधक गोलियां लेना खतरनाक है। जीवन में आगे चलकर वे उच्च रक्तचाप की शिकार हो सकती हैं। डेली मेल के अनुसार, यूनिवर्सिटी ऑफ वेस्टर्न ऑस्ट्रेलिय

  • कुर्सी पर ज्यादा बैठने वालों की घटती है उम्र

    कुर्सी पर ज्यादा बैठने वालों की घटती है उम्र

    दफ्तरों में देर तक कुर्सी पर बैठे रहने वाले लोगों के लिए चेतावनी की तरह सामने आए एक शोध में बताया गया है कि अधिक देर तक कुर्सी पर बैठे रहने से उम्र कम हो जाती है। बीएमजे ओपन ना&

  • अब फ्रिज  बिना सुरक्षित रहेगी वैक्सीन

    अब फ्रिज बिना सुरक्षित रहेगी वैक्सीन

    शोधकर्ताओं ने अब रेशम आधारित एक ऐसा स्थिरक (स्टेब्लाइजर) खोज लिया है जो कुछ वैक्सीन और एंटीबायोटिक्स को 60 डिग्री सेल्सियस के तापमान तक सुरक्षित रख सकता है। राष्ट्रीय विज्&

  • होशियार! प्लास्टिक की बोतल-टिफिन फैला रहे हैं कैंसर

    होशियार! प्लास्टिक की बोतल-टिफिन फैला रहे हैं कैंसर

    अगर आप प्लास्टिक के बोतल में पानी पीते हैं या फिर प्लास्टिक के टिफिन में खाना गर्म करते हैं तो ये खबर आपके लिए है। जानकारों का कहना है कि प्लास्टिक में कई नुकसानदेह केमिकल ह

  • तस्वीरें भी बढ़ा सकती है मोटापा

    तस्वीरें भी बढ़ा सकती है मोटापा

    अगर आप भी यह मानते हैं कि मोटापा सिर्फ अत्याधिक खाने से बढ़ता है, तो आपको एक बार फिर सोचने की जरूरत है। अमेरिका के दक्षिणी कैलिफोर्निया विश्वविद्यालय के एक नए अध्ययन के अनì

  • जहां मिट्टी लगाने मात्र से ठीक हो जाता है गठिया रोग

    जहां मिट्टी लगाने मात्र से ठीक हो जाता है गठिया रोग

    बुंदेलखंड की धरती पर कई देवी-देवताओं के स्थान हैं और उनसे जुड़ी लोगों की आस्थाएं भी अलग-अलग हैं। इन्हीं में से एक है हमीरपुर जनपद के झलोखर गांव में भुवनेश्वरी देवी का अनूठा

  • अनार खाओ स्वास्थ्य पाओ

    अनार खाओ स्वास्थ्य पाओ

    एक नए अध्ययन के अनुसार वैज्ञानिकों ने अनार के बीज, छिलके और गुदे से प्यूनिकलाजिन्स नामक एक चमत्कारी रसायन निकालने में सफलता पाई है. यह यौन नपुंसकता से ले कर कैंसर और दिल की 

  • बरसात में रहें सावधान, हो सकती हैं कई जनालेवा बीमारियां

    बरसात में रहें सावधान, हो सकती हैं कई जनालेवा बीमारियां

    पेट संबंधी ज्यादातर बीमारियां बरसात के मौसम में ही होती हैं. थोड़ी सी लापरवाही किसी की भी सेहत खराब कर सकती है. आयुर्वेद के अनुसार, बरसात वात के प्रकोप और पित्त के संचय का का

  • लड़कों से आगे हैं सेक्स संबंध बनाने में लड़कियां

    लड़कों से आगे हैं सेक्स संबंध बनाने में लड़कियां

    हाल ही में हुये यूनीसेफ ने सेक्स पर सर्वे किया तो कई चैंकानेवाली सच्चाई सामने आईं है। सबसे बड़ी सच्चाई यह कि भारत में 15 से 19 वर्ष के बीच की उम्र की आठ फीसदी लड़कियां यौन सम्बंध

  • रात में काम से स्तन कैंसर का खतरा

    रात में काम से स्तन कैंसर का खतरा

    पेरिस। फ्रांस में हाल ही में किए गए एक अध्ययन से यह खुलासा हुआ है कि नाइट सिप्ट मे काम करने वाली महिलाओं को दिन में काम करने वाली महिलाओं की तुलना में स्तन कैंसर होने का खतरा 

ताज़ा खबर

Popular Lnks