11 साल में शादी, 15 की उम्र में गैंगरेप, दस्यु सुंदरी की अनुसनी कहानी

By Tejnews.com 2017-09-29 उत्तर प्रदेश     

चंबल में दहशत का दूसरा नाम रही फूलन देवी के डकैत बनने की कहानी किसी के भी रोंगटे खड़ी कर सकती है. कम उम्र में शादी, सामूहिक बलात्कार और फिर इंदिरा गांधी की पहल पर आत्मसमर्पण.

10 अगस्त 1963 को जन्मी दस्यु सुंदरी फूलनदेवी न सिर्फ सांसद रही हैं बल्कि वो एक अपने समय की चंबल की सबसे बड़ी डकैत भी मानी जाती थी. लेकिन एक मासूम सी दिखने वाली फूलन ने क्यों बंदूक थामी और फिर क्यों इसे छोड़ साफ जिन्दगी जीने का फैसला किया. न्यूज18 आपको फूलन देवी की जिंदगी से जुड़े कुछ ऐसे ही अनसुने पहलू के बारे में बताने जा रहा है.

1.फूलन देवी का जन्म उत्तर प्रदेश के एक छोटे से गांव गोरहा का पूर्वा में हुआ था. जातिगत भेदभाव होने की वजह से बचपन से ही फूलन गरीबी और लोगों के बुरे व्यवहार का शिकार बनी रही, लेकिन उनकी जिन्दगी में बड़ा बदलाव तब आया जब वो महज 11 साल की थी.
2. फूलन 11 साल की हुई, तो उसके चचेरे भाई मायादिन ने उसको गांव से बाहर निकालने के लिए उसकी शादी पुट्टी लाल नाम के बूढ़े आदमी से करवा दी गई. शादी के तुरंत बाद इतनी छोटी सी उम्र में ही फूलन को दुराचार का शिकार बनना पड़ा. इसके बाद फूलन अपने पिता के घर वापस भाग कर आ गई. जहां वो उनके साथ मजदूरी में हाथ बंटाने लगी.

3. फूलन जब महज 15 साल की ही थी तब गांव के ठाकुरों ने उनके साथ सामूहिक दुष्कर्म किया. जिसके बाद न्याय पाने के लिए उन्होंने कई दरवाजे खटखटाए लेकिन हर तरफ से उन्हें निराशा ही हाथ लगी. इसके बाद जो हुआ उसने फूलन को डकैत फूलन देवी बना दिया.
4. इंसाफ के जूझती फूलन के गांव में कुछ डकैतों ने हमला किया. इस हमले में डकैत फूलन को उठा कर ले गए और उन्होंने भी उसके साथ कई बार दुष्कर्म किया. इसके बाद वहीं पर फूलन की मुलाकात विक्रम मल्लाह से हुई और इन दोनों ने मिलकर अलग डाकूओं का गिरोह बनाया.
5. फूलन तब सुर्खियों का हिस्सा बनीं जब 1981 में उन्होंने कथित तौर पर 22 सवर्ण जाति के लोगों को मौत के घाट उतार दिया. हालांकि फूलन हमेशा इस घटना में अपने हाथ न होने की बात करती रहीं.
6. यूपी और मध्य प्रदेश की पुलिस लंबे समय तक फूलन को पकड़ने में नाकाम रहीं. साल 1983 में इंदिरा गांधी सरकार ने उसके सामने आत्मसमर्पण करने का प्रस्ताव रखा. जो उन्होंने मान लिया क्योंकि उस वक्त तक उनके करीबी विक्रम मल्लाह की पुलिस मुठभेड़ में मौत हो चुकी थी, जिसने फूलन को तोड़ कर रख दिया था.
7.आत्मसमर्पण के लिए भी फूलन ने अपनी शर्तें रखी थी. इसमें उसे या उसके किसी साथी को मृत्युदंड नहीं दिया जाए, उसे व उसके गिरोह के लोगों को 8 साल से ज्यादा सजा नहीं दिए जाने की शर्त थी. सरकार ने फूलन की सभी शर्ते मान लीं. शर्तें मान लेने के बाद ही फूलन ने अपने साथियों के साथ आत्मसमर्पण किया था.
8. 11 सालों तक फूलन को बिना मुकदमे के जेल में रखा गया. इसके बाद साल 1994 में आई मुलायम सरकार ने फूलन को रिहा किया और दो साल बाद 1996 में फूलन ने समाजवादी पार्टी के टिकट पर उत्तर प्रदेश के मिर्जापुर सीट से लोकसभा चुनाव लड़ा और वो जीतकर संसद पहुंच गईं.
9. साल 2001 में शेर सिंह राणा ने दिल्ली में फूलन देवी की उनके आवास पर गोली मारकर हत्या कर दी. खुद को राजपूत गौरव के लिए लड़ने वाला योद्धा बताने वाले शेर सिंह राणा ने फूलन की हत्या के बाद दावा किया था कि उसने 1981 में मारे गए सवर्णों की हत्या का बदला लिया है.
10. फूलन की हत्या को एक राजनीतिक साजिश भी माना जाता है. उनके पति उम्मेद सिंह पर भी फूलन की हत्या की साजिश में हाथ होने के आरोप लगे थे, लेकिन वे साबित नहीं हो सके. डायरेक्टर शेखर कपूर ने फूलन देवी के जीवन पर आधारित मूवी 'बैंडिट क्वीन' भी बनाई थी, जिस पर खुद फूलन ने आपत्ति जताई थी.

Similar Post You May Like

  • इयरफोन लगाकर चला रहा था स्कूल वैन, ट्रेन से टक्कर में गई 8 बच्चों की जान, 10 साल की सजा

    इयरफोन लगाकर चला रहा था स्कूल वैन, ट्रेन से टक्कर में गई 8 बच्चों की जान, 10 साल की सजा

    भदोही: उत्तर प्रदेश के भदोही में इयरफोन लगाकर स्कूल वैन चला रहे ड्राइवर राशिद खान की लापरवाही के चलते 2016 में 8 बच्चों की जान चली गई थी। इस मामले में अब अदालत का फैसला आ गया है। रिपोर्ट्स के मातबिक, भदोही की एक अदालत ने करीब साढ़े तीन साल पहले मानव रहित क्रॉसिंग पर ट्रेन और स्कूल वैन की टक्कर में 8 बच्चों की मौत के मामले में दोषी चालक को शनिवार को 10 साल की कैद की सजा सुनाई। इसके अलावा ड्राइ

  • प्रदर्शन के दौरान रामपुर में हुआ बवाल, फायरिंग में एक युवक की मौत

    प्रदर्शन के दौरान रामपुर में हुआ बवाल, फायरिंग में एक युवक की मौत

    लखनऊ: नागरिकता कानून के विरोध में आज उत्तर प्रदेश के रामपुर में बवाल हो गया. यहा रामपुर के हाथीखाना चौराहे के पास लोगों ने प्रद्ऱसन किया. प्रशासन ने इसकी इजाजत नहीं दी थी. प्रदर्शनकारियों को जब रोका गया तो भीड़ उग्र हो गई.पथरावाजी शुरू हो गई. जवाब में पुलिस ने भी आंसू गैस के गोले दागे. यहां गुस्साई भीड़ ने कई बाइको में आग लगा दी. पूरे प्रकरण में अभी तक 6 लोग घायल हो चुके हैं,जबकि एक मौत हो

  • सीएम योगी ने कहा- उपद्रवियों की संपत्ति जब्त कर नुकसान की भरपाई की जाएगी

    सीएम योगी ने कहा- उपद्रवियों की संपत्ति जब्त कर नुकसान की भरपाई की जाएगी

    नागरिकता संशोधन कानून के खिलाफ देश भर में प्रदर्शन हो रहे हैं. यूपी भी इससे अछूता नहीं है. राज्य के कई जिलों में हिंसक प्रदर्शन हुआ जिसमें करीब 11 लोगों की जान चली गई. प्रदर्शनकारियों ने जमकर तोड़ फोड़ की और पब्लिक प्रॉपर्टी को नुकसान पहुंचाया. इस मामले को लेकर अब मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने सख्त रुख अपना लिया है. योगी ने ट्वीट कर कहा, ''नागरिकता कानून के मुद्दे पर गुमराह करके लोगों

  • कानपुर में हिंसक भीड़ ने किया पथराव, पुलिस चौकी फूंकी

    कानपुर में हिंसक भीड़ ने किया पथराव, पुलिस चौकी फूंकी

    कानपुर: नागरिकता कानून के खिलाफ कानपुर में हंगामा थमने का नाम नहीं ले रहा. शहर के कई इलाकों में शनिवार को हजारों की संख्या में प्रदर्शनकारी लगातार नारेबाजी कर रहे हैं. परेड यतीमखाना इलाके में हिंसा पर उतारू भीड़ ने पुलिस पर पथराव किया और पुलिस चौकी को आग के हवाले कर दिया. परेड यतीमखाना इलाके में एकत्र प्रदर्शनकारियों ने पुलिस पर पथराव कर दिया. भीड़ को खदेड़ने के लिए पुलिस ने लाठीच

  • उन्नाव रेप कांड के दोषी कुलदीप सिंह सेंगर को उम्रकैद की सजा, 25 लाख जुर्माना भी

    उन्नाव रेप कांड के दोषी कुलदीप सिंह सेंगर को उम्रकैद की सजा, 25 लाख जुर्माना भी

    उन्नाव रेप कांड मामले में दोषी और बीजेपी के निष्कासित विधायक कुलदीप सिंह सेंगर को उम्रकैद की सजा सुनाई गई है. अदालत ने उसपर 25 लाख का जुर्माना भी लगाया है. दिल्ली की तीस हजारी कोर्ट ने कुलदीप सेंगर को यह सजा सुनाई है. सेंगर पर आरोप है कि उसने साल 2017 एक नाबालिग लड़की का अपहरण कर उसके साथ रेप की घटना को अंजाम दिया था. क्या है पूरा मामला? नाबालिग लड़की ने कुलदीप सेंगर पर बलात्कार का आरोप लग

  • यूपी के सीएम योगी आदित्यनाथ ने राम मंदिर के लिए हर परिवार से मांगीं ये 2 चीजें

    यूपी के सीएम योगी आदित्यनाथ ने राम मंदिर के लिए हर परिवार से मांगीं ये 2 चीजें

    यूपी के सीएम योगी आदित्यनाथ ने कहा, राम मंदिर के लिए हर परिवार को 11 रुपये और एक पत्थर का योगदान देना चाहिए रांची: उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने शुक्रवार को एक ऐसा बयान दिया, जो विवाद खड़ा कर सकता है। रिपोर्ट्स के मुताबिक, योगी ने कथित तौर पर कहा कि अयोध्या में भव्य राम मंदिर के निर्माण के हर परिवार को 11 रुपये व एक पत्थर का योगदान देना चाहिए। यह पहली बार है कि मुख्यमंत्

  • फतेहपुर मामले में आया ट्विस्ट, पंचायती फरमान से नाखुश होकर पीड़िता ने लगाई आग

    फतेहपुर मामले में आया ट्विस्ट, पंचायती फरमान से नाखुश होकर पीड़िता ने लगाई आग

    बांदा: उत्तर प्रदेश के फतेहपुर जिले के हुसैनगंज थाना क्षेत्र में शनिवार को 18 साल की लड़की को कथित रूप से दुष्कर्म बाद जिंदा जलाने के मामले में अब नया मोड़ आ गया है और अब तक की पुलिसिया जांच में प्रेम प्रसंग में आये पंचायती फरमान से क्षुब्ध होकर आग लगने की घटना सामने आई है। हालांकि, पुलिस ने पीड़िता के आरोपी चाचा को बलात्कार और हत्या की कोशिश के आरोप शनिवार की शाम ही गिरफ्तार कर लिया है।

  • उन्नाव पीड़िता की कब्र पर प्रशासन द्वारा चबूतरा बनाए जाने का परिजनों ने किया विरोध

    उन्नाव पीड़िता की कब्र पर प्रशासन द्वारा चबूतरा बनाए जाने का परिजनों ने किया विरोध

    उन्‍नाव: जिले के बिहार थाना क्षेत्र में जिंदा जलाई गई दुष्‍कर्म पीड़िता की कब्र पर प्रशासन द्वारा करवाए जा रहे चबूतरे के निर्माण का परिजनों ने विरोध किया और कब्र पर लगाई गई ईंटों को उखाड फेंका। प्रशासन ने सोमवार शाम कब्र पर निर्माण कार्य शुरू कराया था। बिहार थाना प्रभारी विकास पांडेय ने बताया कि परिजनों के विरोध के बाद निर्माण कार्य रूकवा दिया गया है, कब्र पर भी सुरक्षा की व्यवस

  • प्रशासन के मनाने के बाद किया गया पीड़िता का अंतिम संस्कार

    प्रशासन के मनाने के बाद किया गया पीड़िता का अंतिम संस्कार

    उन्नाव: प्रशासन की कोशिश के बाद अब से कुछ देर पहले उन्नाव रेप पीड़िता का अंतिम संस्कार किया गया. इससे पहले पीड़िता के परिवार इस बात की मांग कर रहे थे कि जब तक प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ नहीं आते हैं तब तक पीड़िता का अंतिम संस्कार नहीं किया जाएगा. हालांकि, लखनऊ मंडलायुक्त और अन्य वरिष्ठ पुलिस अधिकारियों की ओर से आश्वासन मिलने के बाद पीड़ित परिवार वाले मान गए. इससे पहले प्रद

  • नहीं बचाई जा सकी उन्नाव रेप पीड़िता, दम तोड़ने से पहले पुलिस को बताया था कैसे आरोपियों ने उसे किया आग के हवाले

    नहीं बचाई जा सकी उन्नाव रेप पीड़िता, दम तोड़ने से पहले पुलिस को बताया था कैसे आरोपियों ने उसे किया आग के हवाले

    उन्नाव की रेप पीड़िता की दिल्ली के सफदरजंग अस्पताल में मौत हो गई है. डॉक्टरों के मुताबिक पीड़िता ने देर रात 11 बजकर 40 मिनट पर आख़िरी सांस ली. बलात्कार के आरोपियों ने उसे ज़िदा जला दिया था. जिसमें वो 90 फ़ीसदी जल गई थी. गुरुवार को उसे बेहतर इलाज के लिए लखनऊ से एयरलिफ़्ट कर दिल्ली के सफ़दरजंग अस्पताल में भर्ती कराया गया था. सफ़दरजंग अस्पताल में पीड़िता के लिए अलग आईसीयू बनाया गया था. जहां डॉक्टरों की

ताज़ा खबर

Popular Lnks