सावन के शनिवार को करें ये काम, होगी हर मुराद पूरी

By Tejnews.com Mon, Jul 24th 2017 धर्म-कर्म     

हर किसी को अपने जीवन में किसी न किसी तरह बडी समस्याओं का सामना करना पडता है कुछ समस्याएं ऐसी होती है जो अधिक समय तक रहती है जिसके कारण आप अशांत और सुकून भरी जिंदगी चाहने के लिए अपनी जिंदगी आपको बोझिल लगने लगती है। इस बार सावन के साथ-साथ शनिवार है, तो आप भगवान शनि के साथ-साथ शिव की भी पूजाकर उन्हें प्रसन्न कर सकते है।

इन समस्याओं से आपको निजात भगवान हनुमान और शनिदेव दिला सकते है क्योंकि इनकी साधना अति सरल एवं सुगम है चूंकि वह बाल ब्रह्मचारी थे इसलिए इनकी साधनाओं में ब्रह्मचारी व्रत अवश्य लेना चाहिए। साथ ही शनिदेव की पूजा करना बहुत ही आसान है।

अगर आपकी राशि में शनि की साढ़ेसाती या ढय्या चल रही है तो शनि को प्रसन्न करने के लिए ज्योतिष शास्त्र में ऐसे कई उपाय बताए गए हैं। जिनको करने से आपको इस समस्या से निजात मिल जाता है। सा़ढे सती शनि देव के कारण होता है। जिसके कारण इसका उपाय केवल शनिवार के दिन ही किए जाते है, क्योंकि यह शनिदेव का खास दिन माना जाता है। इस दिन जो भी व्यक्ति शनि को प्रसन्न के लिए पूजन करता है उसकी सभी मनोकामनाएं पूर्ण हो जाती हैं।

अगर आपकी राशि में भी साढेसाती या ढय्या है तो इन उपायों के द्वारा आप इस समस्या से निजात पा सकते है साथ ही शनि देव की कृपा आप पर बनी रहती है। जानिए इन उपायों के बारें में।
शनि के बुरे प्रभाव को दूर करने के लिए काली चीजें जैसे काले चने, काले तिल, उड़द की दाल, काले कपड़े आदि का दान किसी गरीब और जरूरतमंद व्यक्ति को करें। इसके साथ ही शनि देव के निमित्त हर शनिवार को विशेष पूजन करें।

अगर आप शनि देव को प्रसन्न करना चाहते है तो इस उपाय को करें। इससे आपको जल्द आराम मिलेगा। इसके लिए किसी कुत्ते को तेल चुपड़ी हुई रोटी खिलाना। ऐसा माना जाता है कि कुत्ता शनिदेव का वाहन है और जो लोग कुत्ते को खाना खिलाते हैं उनसे शनिदेव अति प्रसन्न होते हैं।
शनिवार के दिन किसी भी पीपल के वृक्ष को दोनों हाथों से स्पर्श करें। स्पर्श करने के साथ ही पीपल की 7 परिक्रमाएं करें। परिक्रमा करते समय शनिदेव का ध्यान करें और शनि मंत्र ऊं शंशनैश्चराय नम: का जप करें। इससे आपको लाभ मिलेगा।
शनिवार के दिन शनि और हनुमान जी की पूजा करने का विशेष लाभ होता है। इस दिन दोनों की चलीसा का पाठ करना चाहिए। शास्त्रों के अनुसार शनि किसी भी परिस्थिति में हनुमानजी के भक्तों को परेशान नहीं करते हैं।
अगर आपकी कुंडली में शनि दोष है तो शनिवार के दिन तेल दान करने से इस समस्या से निजात मिल जाता है। इसके लिए एक कटोरी में सरसों का तेल लें और इसमें अपना चेहरा देखकर किसी को दान में तेल दे दे। इससे शनि दोष समाप्त हो जाएगा।

Similar Post You May Like

  • किस दिशा में किस रंग की वस्तु रखने से मिलेगा विशेष लाभ

    किस दिशा में किस रंग की वस्तु रखने से मिलेगा विशेष लाभ

    रंग हमारे जीवन में बहुत अधिक महत्व रखते है। अगर रंग हो तो हमारी लाइप में बेरंग हो। जिसका कोई महत्व ही नहीं है। हर किसी को रंगीन दुनिया पसंद होती है। वास्तु शास्त्र के अनुसार रंग का अपना ही एक महत्व है। हर रंग के हिसाब से हम अपने घर कोई न कोई चीज लाते है। चाहे वो सजावट की चीज हो या फिर किचन का कोई समान। आपको रंग के अनुसार बढ़ी ही आसानी से चीज मिल जाती है। वास्तु के अनुसार माना जाता है कि ह

  • यहां बंदी बनकर रही थीं सीता, आज भी गूंजती है हनुमान चालीसा की आवाज

    यहां बंदी बनकर रही थीं सीता, आज भी गूंजती है हनुमान चालीसा की आवाज

    यूं तो भारत व विश्व के प्रत्येक छोटे बड़े देवस्थल में श्रीराम एवं लक्षण जी के साथ सीताजी विराजमान हैं किंतु ऐसा देवस्थल जहां मुख्य देव प्रतिमा के रूप में सीता जी की पूजा अर्चना होती है विश्व में एक ही है. जहां सीता जी ने एक लंबा समय बिताया. आज हम आपको बताने जा रहे हैं सीता मंदिर के बारे जो श्रीलंका में है और वो अब पर्यटन स्थल बन चुका है. तमिल श्रद्धालू हिंदी न ही बोल पाते हैं और न ही समझ. फ

  • Karva Chauth 2017: इस समय होगा चांद का दीदार, इस विधि से पूजा कर सुने कथा

    Karva Chauth 2017: इस समय होगा चांद का दीदार, इस विधि से पूजा कर सुने कथा

    कार्तिक मास की कृष्ण पक्ष की चतुर्थी को मनाया जाने वाला करवा चौथ हर महिला के लिए बेहद खास होता है। इस दिन महिलाएं अपने पति की लंबी आयु के लिए निर्जला व्रत रखती है। चांद को अर्ध्य और देखने के बाद ही वह पानी ग्रहण करती है। माना जाता है कि भगवान को अर्ध्य देने से पहले मां गौरी, शिव, गणेश और कार्तिकेय की अराधना करने का विधान है।पूजा के बाद मिट्टी के करवे में चावल, उड़द की दाल, सुहाग की सामग्

  • कार्तिक मास आज से शुरु, भूलकर भी 4 नवंबर तक न करें ये काम

    कार्तिक मास आज से शुरु, भूलकर भी 4 नवंबर तक न करें ये काम

    धर्म डेस्क: कार्तिक मास में व्यक्ति के लिए अच्छी सेहत, उन्नति और मनोकामनाओं की पूर्ति के लिए होता है। कार्तिक मास का नाम शास्त्रों में दामोदर मास नाम से भी मिलता है। शास्त्रों के अनुसार ये भी माना जाता है कि इस दिनों में पितरों को दीप दान देने से उन्हें नरक से मुक्ति मिलती है। यह माना जाता है कि इस मास में हर नदी का जल गंगा के समान पवित्र होता है। जो इस माह में डुबकी लगाते है उसे कुंभ म

  • कार्तिक मास में तुलसी लगाना होता है शुभ, इस दिशा में लगाने से मिलेगा धन-धान्य

    कार्तिक मास में तुलसी लगाना होता है शुभ, इस दिशा में लगाने से मिलेगा धन-धान्य

    समृद्धि और धार्मिकता का प्रतीक मानी जाने वाली तुलसी कई गुणों से भरपूर होती है। हरिप्रिया नाम से भी जानी जाने वाली तुलसी की हिंदू धर्म में काफी ज्यादा मान्यता है और लगभग हर धार्मिक अनुष्ठान में इसकी उपयोगिता रहती ही है। तुलसी को पूजनीय माना जाता है। तुलसी को पाप का नाश करने वाली माना गया है। इनका पूजन करना श्रेष्ठ माना गया है, क्योंकि इनकी पूजा करने से मोक्ष की प्राप्ति होती है। सभ

  • मंगल प्रदोष व्रत: इस पूजा विधि और कथा से करें भगवान शिव को प्रसन्न

    मंगल प्रदोष व्रत: इस पूजा विधि और कथा से करें भगवान शिव को प्रसन्न

    प्रत्येक मास के दोनों पक्षों की त्रयोदिशी तिथि को प्रदोष व्रत किया जाता है। इस दिन भगवन शिव को प्रसन्न करने के लिए व्रत व उपाय किए जाते हैं। इस बार 3 अक्टूबर, मंगलवार होने से मंगल प्रदोष व्रत का योग बन रहा है। धर्म शास्त्रों के अनुसार माना जाता है कि इस प्रदोष व्रत को करने से आपको शारीरिक समस्याओं और कर्ज से मुक्ति मिल जाती है। ऐसे करें पूजा आचार्य के अनुसार इस दिन ब्रह्म मुहूर्त म

  • रविवार शाम को करें इनमें से कोई भी एक उपाय, नहीं होगी कभी पैसे की कमी

    रविवार शाम को करें इनमें से कोई भी एक उपाय, नहीं होगी कभी पैसे की कमी

    आपने ये तो सुना होगा कि शनिवार को पीपल के पेड़ को जल देने और दीपक जलाने से शनि का आर्शीवाद मिलता है और शनि की साढ़े साती से राहत मिलती है. लेकिन क्या आपको मालूम है कि रविवार को भी पीपल के नीचे दीपक जलाने से कई लाभ होते हैं. रविवार को पीपल के नीचे दीपक जलाने से पद और प्रतिष्ठा में बढ़ोतरी होती है. दिन छिपते समय रविवार को पीपल के पेड़ के नीचे चौमुखा दीपक जलाने से धन, वैभव और यश में वृद्धि ह

  • नवरात्र का आखिरी दिन, ऐसे करें मां सिद्धिदात्री की पूजा

    नवरात्र का आखिरी दिन, ऐसे करें मां सिद्धिदात्री की पूजा

    नवरात्र के आखिरी दिन मां सिद्धिरात्रि की पूजा करने का विधान है। सिद्धिदात्री देवी सभी प्रकार की सिद्धियों को प्रदान करने वाली हैं। देवी के इस अंतिम रूप को नवदुर्गाओं में सबसे श्रेष्ठ व मोक्ष देने वाली दुर्गा माना गया है। माना जाता है कि केवल मां की पूजा सच्चे मन से करने से आपको पूरी 9 देवियों की कृपा मिलती है। ऐसा है मां का स्वरुप: यह देवी भगवान विष्णु की प्रियतमा

  • नवरात्र का सातवां दिन: ऐसे करें मां कालरात्रि को प्रसन्न

    नवरात्र का सातवां दिन: ऐसे करें मां कालरात्रि को प्रसन्न

    नवरात्र के सातवे दिन मां दुर्गा के सातवें स्वरूप मां कालरात्रि की पूजा की जाती है। इस दिन का सभी नवरात्र क दिनों से ज्यादा महत्व होता है, क्योंकि मां काली को सबसे भंयकर देवी कहा गया है। भंयकर होने के बावजूद मां काली बहुत ही ममताप्रिय, कोमल हदय वाली होती है। इतना ही नहीं सप्तमी की रात्रि को ‘सिद्धियों’ की रात भी कहा जाता है। ऐसा है मां कालरात्रि का स्वरुप शास्त्रों में मान्यता है कि

  • महालया आज: जानिए इसका मतलब, शारदीय नवरात्र गुरुवार से शुरु

    महालया आज: जानिए इसका मतलब, शारदीय नवरात्र गुरुवार से शुरु

    महालया मांगलिक पर्व दुर्गा पूजा से सात दिन पहले नए चांद के महत्व को दर्शाता है। माना जाता है कि इसके साथ ही त्योहारों की शुरूआत हो जाती है। जो कि आपकी लाइफ में सुख-शांति और समृद्धि लाती है। महालया यानी मां का आवाहन आज 19 सितंबर को है। इसमें मां दुर्गा का अवाहन किया जाता है। आपको बता दें कि शारदीय नवरात्र 21 सितंबर से शुरू होकर 29 सितंबर तक चलेगी। साथ ही दशहरा 30 सितंबर को मनाया जाएगा। अश

ताज़ा खबर

Popular Lnks