गुरु पूर्णिमा 2017: जानें कब और कैसे मनाया जाएगा यह महोत्सव

By Tejnews.com Thu, Jul 6th 2017 धर्म-कर्म

हिन्दू शास्त्रों में गुरु को भगवान से भी ऊपर दर्जा दिया गया है। कहा जाता है कि यदि भगवान से शापित कोई व्यक्ति है तो उसे गुरु बचा सकते है लेकिन गुरु से शापित व्यक्ति को स्वयं भगवान भी नहीं बचा सकते। गुरु की महिमा अपार है। गुरु बिन व्यक्ति का जीवन निरर्थक है। गुरु के बिना ना तो व्यक्ति ज्ञान प्राप्त कर सकता है और ना ही आत्म मुक्ति। हमारे जीवन में गुरु की भूमिका बेहद अहम है, यूं तो हम इस समाज का हिस्सा कहलाते है लेकिन हमें इस समाज योग्य केवल गुरु ही बनाते हैं।

गुरु बिना ज्ञान कहां,
उसके ज्ञान का आदि न अंत यहां।
गुरु ने दी शिक्षा जहां,
उठी शिष्टाचार की मूरत वहां।

आषाढ़ मास की पूर्णिमा को गुरु पूर्णिमा के रूप में मनाया जाता है। यह दिन लोगों के लिए बेहद खास होता है क्योंकि इस दिन सभी विद्यार्थियों द्वारा गुरु की पूजा की जाती है। बताया जाता है कि प्राचीन समय में जब विद्यार्थी नि:शुल्क गुरु से शिक्षा प्राप्त करते थे तब वह बड़ी श्रद्धा भाव से इस दिन अपने गुरुओं की पूजा किया करते थे।

अपने संसार से तुम्हारा परिचय कराया,
उसने तुम्हें भले-बुरे का आभास कराया।
अथाह संसार में तुम्हें अस्तित्व दिलाया,
दोष निकालकर सुदृढ़ व्यक्तित्व बनाया।


हिन्दू धर्म ग्रंथो के अनुसार इस दिन जगत गुरु माने जाने वाले महर्षि वेद व्यास जी का जन्म हुआ था। वे संस्कृत के प्रकांड विद्वान थे। गुरु पूर्णिमा का यह दिन इन्हीं को समर्पित है। आज ही के दिन महर्षि वेद व्यास ने चारों वेदों की भी रचना की थी। इसी कारण से उनका नाम वेद व्यास रखा गया। उन्हें आदिगुरु कहा जाता है और उनके सम्मान में गुरु पूर्णिमा को व्यास पूर्णिमा नाम से भी जाना जाता है।

अपनी शिक्षा के तेज से,
तुम्हें आभा मंडित कर दिया।
अपने ज्ञान के वेग से,
तुम्हारे उपवन को पुष्पित कर दिया।


संस्कृत का गुरु शब्द दो शब्दों से मिलकर बना है 'गु' और 'रु', जिसमें 'गु' शब्द का अर्थ अन्धकार से है तथा 'रु' शब्द का अर्थ है अंधकार मिटाने वाला। अथार्त गुरु हमारे जीवन में सभी अंधकारों को मिटाकर उजाले की ओर आगे बढ़ाता है। गुरु पूर्णिमा वर्षा ऋतु के आरम्भ में आती है। इस दिन से चार महीने तक साधु-सन्त एक ही स्थान पर रहकर यज्ञ करते है तथा ज्ञान की गंगा बहाते हैं।

आइए जानें कब से कब तक है गुरु पूर्णिमा

गुरु पूर्णिमा इस महिने की 09 तारीख को मनाया जाने वाला है। यह 08 जुलाई को शाम 07:31 पर शुरू होगा तथा 09 जुलाई को 09:36 पर समाप्त हो जाएगा।

Similar Post You May Like

  • महालया आज: जानिए इसका मतलब, शारदीय नवरात्र गुरुवार से शुरु

    महालया आज: जानिए इसका मतलब, शारदीय नवरात्र गुरुवार से शुरु

    महालया मांगलिक पर्व दुर्गा पूजा से सात दिन पहले नए चांद के महत्व को दर्शाता है। माना जाता है कि इसके साथ ही त्योहारों की शुरूआत हो जाती है। जो कि आपकी लाइफ में सुख-शांति और समृद्धि लाती है। महालया यानी मां का आवाहन आज 19 सितंबर को है। इसमें मां दुर्गा का अवाहन किया जाता है। आपको बता दें कि शारदीय नवरात्र 21 सितंबर से शुरू होकर 29 सितंबर तक चलेगी। साथ ही दशहरा 30 सितंबर को मनाया जाएगा। अश

  • इंदिरा एकादशी: इस विधि से से करेंगे पूजा, तो पूर्वजों को मिलेगा मोक्ष

    इंदिरा एकादशी: इस विधि से से करेंगे पूजा, तो पूर्वजों को मिलेगा मोक्ष

    हिंदू पचांग के अनुसार अश्विन माह की कृष्ण पक्ष की एकदाशी पितरों को मुक्ति दिलाने के लिए उत्तम मानी जाती है। इसे इंदिरा एकादशी के नाम से भी जानते है। इस दिन शालिग्राम की पूजा करने का विधान है। इस बार एकादशी 16 सितंबर, शनिवार को है। हिंदू शास्त्रों में माना जाता है कि इस दिन पूजा करने से इंसान को सभी पापों से मुक्ति मिलती है। साथ ही पितरों को स्वर्ग की प्राप्ति होगी। जानिए इसकी पूजा व

  • केदारनाथ से लेकर तमिलनाडु तक एक सीधी रेखा में कैसे बने शिव मंदिर

    केदारनाथ से लेकर तमिलनाडु तक एक सीधी रेखा में कैसे बने शिव मंदिर

    आज विज्ञान भले ही कितने उन्नत होने का दावा करे, लेकिन भारत के ज्ञान, विज्ञान और अध्यात्म ने जिस ऊंचाइंयों को छुआ है, उसकी बराबरी कोई नहीं कर सकता है। इसकी मिसाल है एक हजार साल से भी पुराने ये आठ शिव मंदिर, जो एक दूसरे से 500 से 600 किमी दूर स्थित हैं। मगर, उनकी देशांतर रेखा एक ही है। सीधी भाषा में कहें, तो सभी मंदिर एक सीध में स्थापित हैं। ऐसे में सवाल उठना लाजिमी है कि क्या प्राचीन हिंदू ऋषि

  • बनाएं ऐसा सिग्नेचर, कभी नहीं होगी धन की कमी

    बनाएं ऐसा सिग्नेचर, कभी नहीं होगी धन की कमी

    एक हस्ताक्षर पर आपके सारे काम टिके होते हैं। आपकी वित्तीय मामलों में आपके हस्ताक्षर की भूमिका बेहद मायने रखती है आपका एक गलत हस्ताक्षर आपका लाखों का नुकसान करा सकता है, जबकि एक सही हस्ताक्षर आपके भाग्य को मजबूत बनाता है। वास्तु शास्त्र में ऐसे कई उपाय बताएं गए है जिसे अपनाकर आपके अपने भाग्य को बदल सकते है। हमारे भाग्य में में बहुत सारी चीजें होती है जो कि आपकी एक गलती के कारण आपको

  • घर में लाएं ड्रैगन का ये जोड़ा, मिलेगी अपार संपदा और सुख-शांति

    घर में लाएं ड्रैगन का ये जोड़ा, मिलेगी अपार संपदा और सुख-शांति

    हिंदू धर्म में वास्तु शास्त्र एक ऐसा शास्त्र है जिसके हिसाब से हम लोग हर चीज करते है। जिससे कि घर में खुशहाली आए, धन की कमी न हो साथ ही परिवार के किसी भी व्यक्ति को कोई भी समस्या न हो। इसके कारण हम वास्तु के अनुसार हर चीज को उठा कर रखते है, लेकिन क्या आप जानते है कि घर में लगाएं गए तस्वीरों से भी आपके जीवन में काफी प्रभाव पड़ता है। इससे आपकी लाइफ में सुख-शांति भी आ सकती है। जानिए वास्तु के

  • 18 सिंतबर होगा अद्भुत संयोग, चांद करेगा यह कारनामा

    18 सिंतबर होगा अद्भुत संयोग, चांद करेगा यह कारनामा

    हर साल कोई न कोई भगोलकीय घटना घटती रहती है। हर ग्रह हर माह, साल अपनी चाल बदलते है। जिसका फर्क हमारी लाइफ में भी बहुत पड़ता है। इस बार भी 18 सितंबर को कुछ ऐसा ही अद्भुत संयोग होगा। इस दिन माघ पूर्णिमा भी है। इसके साथ ही चांद एक के बाद लगातार 3 तारों से आच्छादन करेगा। यह आच्छादन दुनिया में कुछ ही जगहों पर दिखेगा। शुक्र व चंद्रमा के मघा नक्षत्र में होगी ये घटना इस बारे में भारतीय तारा भौतिक

  • इन उपाय से शांत होंगे पितृ, सारे दोषों से होंगे मुक्त

    इन उपाय से शांत होंगे पितृ, सारे दोषों से होंगे मुक्त

    हमारे पूर्वज जिनकी सद्गति या मोक्ष किसी कारणवश नहीं हो पाता है तो वह हमसे आशा करते हैं कि हम उनकी सद्गति या मोक्ष का कोई साधन करें। यदि उनकी आशाओं को पूर्ण किया जाए तो वे हमें आशीर्वाद देते हैं। घर में पितृदोष है तो इन उपायों को अपनाकर पितृदोष को शांत किया जा सकता है। पीपल के नीचे गाय के घी का दीप जलाएं। दूध से बनी खीर का भोग लगाएं। पीपल पूजा के जल का घर में छिड़काव करें। पानी में पितृ

  • यह गुरुवार है बेहद खास इन उपायों से खुलेंगे किस्मत के ताले

    यह गुरुवार है बेहद खास इन उपायों से खुलेंगे किस्मत के ताले

    गुरुवार कई कारणों से बहुत ही खास है। शास्त्रों के अनुसार आज कुछ ऐसे संयोग बने हुए हैं जिनसे आप चाहें तो संतान सुख में आने वाली बाधाएं और आर्थिक मुश्किलों को दूर कर परलोक में भी अपने लिए अच्छा स्थान बना सकते हैं। ज्योतिषशास्त्र की गणना के अनुसार इस दिन सावन मास की शुक्ल पक्ष की एकादशी तिथि है। इस एकादशी को पद्मपुराण में पवित्रा एकादशी कहा गया है क्योंकि इस एकादशी के पुण्य से मनुष्य

  • ऐसा होगा घर में स्टोर रूम तो बना रहेगा अन्न धन का भंडार

    ऐसा होगा घर में स्टोर रूम तो बना रहेगा अन्न धन का भंडार

    घर में सुख समृद्धि और धन के मामले में सबसे ज्यादा महत्व स्टोर का होता है। इसलिए किराए का मकान हो या खुद का लोगों को सबसे पहले स्टोर रूम और भंडार कोण का ही ख्याल आता है। इसकी वजह यह है कि इसी दिशा और स्थान से घर में सुख शांति और धन समृद्धि का आगमन होता है। वास्तु विज्ञान के अनुसार भंडार कक्ष यानी स्टोर रूम पूजा घर से लगा हुआ या सामने हो तो यह बहुत ही शुभ रहता है। इससे घर में घर में धन का आग

  • भूलकर भी इन दिनों में न करें ये काम, वरना जाने पड़ेगा नर्क

    भूलकर भी इन दिनों में न करें ये काम, वरना जाने पड़ेगा नर्क

    हिंदू धर्म में श्राद्ध का बहुत अधिक महत्व है। किसी भी व्यक्ति की मृत्यु के बाद उसका श्राद्द करना जरुरी माना जाता है। तभी हमारे पूर्वज को मुक्ति, मोक्ष मिलती है। ऐसी मान्यता है कि अगर किसी मनुष्य का विधिपूर्वक श्राद्ध और तर्पण ना किया जाए तो उसे इस लोक से मुक्ति नहीं मिलती और वह भूत के रूप में इस संसार में ही रह जाता है। इस बार 6 सितंबर से पितृपक्ष के श्राद्ध शुरु हो रहे है। जो कि 19 सितं

ताज़ा खबर